Skip to main content

फाइजर और मेदांता हॉस्पिटल ने वयस्कों के टीकाकरण के लिए लखनऊ में खोला सेंटर ऑफ एक्सीलेंस

फाइजर और मेदांता हॉस्पिटल ने वयस्कों के टीकाकरण के लिए लखनऊ में खोला सेंटर ऑफ एक्सीलेंस 

सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (सीओई) वयस्क टीकाकरण को अपनाने को बढ़ावा देकर वैक्‍सीन-निवारक रोगों से समाज को अधिक सुरक्षित बनाना चाहता है

लखनऊ, 10 जुलाई, 2024: फाइजर इंडिया और मेदांता हॉस्पिटल ने लखनऊ के मेदांता अस्पताल में वयस्क टीकाकरण के लिए सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (सीओई) खोलने के लिए सहयोग किया है। इस सीओई का उद्देश्य टीकाकरण से बचाव वाली बीमारियों के लिए वयस्क टीकाकरण सेवाएं उपलब्ध कराना है। उनमें न्यूमोकोकल रोग, इन्फ्लूएंजा, ह्यूमन पेपिलोमावायरस (एचपीवी) और हेपेटाइटिस ए और बी, जैसी बीमारियां शामिल हैं।  

भारत में टीकाकरण से बचाव की जाने वाली बीमारियों से होने वाली 95% मौतें वयस्कों में होती है। लोगों की जिंदगी को बेहतर बनाने के लिए वयस्कों के टीके प्रभावी, विज्ञान समर्थित हैं, फिर भी देश में इसकी स्वीकारोक्ति काफी कम है। ये सीओई चिकित्साकर्मियों को समय पर वयस्क टीकाकरण के वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित फायदों और आवश्यकता के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी देने में अहम भूमिका निभा पाएगा। खासकर जिन लोगों को ज्यादा जोखिम है जैसे फेफड़े की क्रॉनिक समस्या (सीओपीडीडी एवं अस्थमा), डायबिटीज, क्रॉनिक हृदय रोग, क्रॉनिक किडनी रोग और इम्युन को प्रभावित करने वाली अन्य समस्याओं से पीड़ित लोगों के लिए ऐसा करना ज्यादा महत्वपूर्ण है। ऐसे लोग जिन्हें धूम्रपान, प्रदूषण का खतरा है या फिर जिनकी उम्र50 वर्ष या उससे अधिक है उनके लिए भी सुरक्षात्मक कदम के रूप में चिकित्साकर्मियों के साथ वयस्क टीकाकरण के बारे चर्चा करने से लाभ मिलेगा। 

डॉ. राकेश कपूर, मेडिकल डायरेक्टर एवं डायरेक्टर यूरोलॉजी एवं किडनी ट्रांसप्लांट सर्जरी, मेदांता सुपर स्पेश्यिलिटी अस्पताल, लखनऊ ने कहा, “मेदांता अस्पताल में हम रोगों की रोकथाम और टीकाकरण के मामले में आगे रहने की कोशिश करते हैं। टीकाकरण केवल बचपन में ही नहीं, पूरे जीवनकाल के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। इससे विशेषरूप से कमजोर समूहों को ज्यादा लाभ मिलता है जैसे क्रॉनिक बीमारियों से पीड़ित लोगों और बुजुर्गों को। इस नए सेंटर ऑफ एक्सीलेंस का खुलना रोगियों को बेहतरीन क्वालिटी की देखभाल प्रदान करने की हमारी प्रतिबद्धता में सुधार दर्शाता है। फाइजर के साथ इस साझेदारी के माध्यम से हम वयस्क टीकाकरण को बढ़ावा देना चाहते हैं। हम अपने समाज को टीकाकरण से बचाव वाली बीमारियों से बेहतर सुरक्षा सुनिश्चित करना चाहते हैं।’’

इस बारे में डॉ. रुचिता शर्मा एवं डॉ. साक्षी मनचंदा, सीनियर कंसल्टेंट, इंटरनल मेडिसिन, मेदांता सुपर स्पेश्यिलिटी अस्पताल, कहती हैं, “सेंटर ऑफ एक्सीलेंस ना केवल महत्वपूर्ण टीकाकरण सेवाएं उपलब्ध कराएगा, बल्कि अपने रोगियों को वयस्क टीकाकरण के बारे में जानकारी उपलब्ध कराने और उनकी चिंताओं को दूर करने में अहम भूमिका निभाएगा।’’

ये सीओई रोगी की जानकारी बढ़ाने और रोगियों के मन में उठने वाली शंकाओं का निराकरण करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। साथ ही टीकाकरण जैसी जन स्वास्थ्य सुविधाओं से मिलने वाले दीर्घकालिक लाभों के बारे में भी प्रमुखता से जानकारी प्रदान करेगा। इस पहल के अंतर्गत व्यापक प्रशिक्षण मॉड्यूल और क्षमता-निर्माण के प्रयास शामिल होंगे। इसे फिर वयस्क टीकाकरण के लिए बताए गए दिशानिर्देशों और प्रोटोकॉल की जानकारी से जोड़ दिया जाएगा।  

डॉ. संतोष तौर, डायरेक्टर, मेडिकल मामले, फाइजर वैक्सीन्स, कहते हैं, “मेदांता अस्पताल के साथ हमारी साझेदारी, वयस्क टीकाकरण की पहुंच का विस्तार करता है। साथ ही सुरक्षात्मक स्वास्थ्य को लेकर हमारे संकल्प को मजबूती प्रदान करता है। इसके साथ ही टीकाकरण से बचाव वाले सर्वव्यापी रोगों, खासकर श्वसन के संक्रमणकारी रोगों से मजबूत सुरक्षा सुनिश्वित करता है। सेंटर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना देश के स्वास्थ्य प्रणाली में सहयोग देने के हमारे प्रयासों की महत्वपूर्ण उपलब्धि का प्रमाण है। विशेषरूप से टीकाकरण को लेकर स्वास्थ्यसेवा से जुड़े जागरूक निर्णय लेने की स्थिति में ये सेंटर चिकित्साकर्मियों और रोगियों को महत्वपूर्ण जानकारियों से लैस करता है।’’

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन  लखनऊ। आईसीएआई ने आज गोमतीनगर स्थित आईसीएआई भवम में इन्टरनेशनल वूमेन्स डे का आयोजन किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलन, मोटो साॅन्ग, राष्ट्रगान व सरस्वती वन्दना के साथ हुआ। शुभारम्भ के अवसर पर शाखा के सभापति सीए. सन्तोष मिश्रा ने सभी मेम्बर्स का स्वागत किया एवं प्रोग्राम की थीम ‘‘एक्सिलेन्स / 360 डिग्री’’ का विस्तृत वर्णन किया। नृत्य, गायन, नाटक मंचन, कविता एवं शायरी का प्रस्तुतीकरण सीए. इन्स्टीट्यूट की महिला मेम्बर्स द्वारा किया गया। इस अवसर पर के.जी.एम.यू की सायकाॅयट्रिक नर्सिंग डिपार्टमेन्ट की अधिकारी  देब्लीना राॅय ने ‘‘मेन्टल हेल्थ आफ वर्किंग वूमेन’’ के विषय पर अपने विचार प्रस्तुत किये। कार्यक्रम में लखनऊ शाखा के  उपसभापति एवं कोषाध्यक्ष सीए. अनुराग पाण्डेय, सचिव सीए. अन्शुल अग्रवाल, पूर्व सभापति सीए, आशीष कुमार पाठक एवं सीए. आर. एल. बाजपेई सहित शहर के लगभग 150 सीए सदस्यों ने भाग लिय।