Skip to main content

पेरिस ओलम्पिक्‍स में टीम इंडिया के लिये तस्‍वा की सेरेमोनियल ड्रेस का अनावरण किया

पेरिस ओलम्पिक्‍स में टीम इंडिया के लिये तस्‍वा की सेरेमोनियल ड्रेस का अनावरण किया 

लखनऊ,  3 जुलाई, 2024: तस्‍वा, आदित्‍य बिरला फैशन एण्‍ड रिटेल लि. और मशहूर डिजाइनर तरुण तहलियानी के मेन्‍स इंडियन वियर ब्राण्‍ड, ने आगामी पेरिस ओलम्पिक्‍स 2024 के लिये टीम इंडिया की सेरेमोनियल ड्रेस बनाने का प्रति‍ष्ठित काम किया है। माननीय युवा मामले एवं खेल मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने इंडियन ओलम्पिक्‍स एसोसिएशन की प्रेसिडेंट डॉ. पी.टी. ऊषा की मौजूदगी में टीम इंडिया के ऑफिशियल सेरेमोनियल ड्रेस का अनावरण किया। 

तस्‍वा अब दुनिया में फैशन की राजधानी, पेरिस में भारत के पारंपरिक परिधानों पर अपना नया नजरिया दिखाने के लिए पूरी तरह तैयार है। सेरेमोनियल ड्रेस भारत के समृद्ध सांस्‍कृतिक चित्रपट से प्रेरित है और इसमें हमारे तिरंगे के के‍सरिया, हरे एवं सफेद रंगों से सराबोर देशभक्ति का उत्‍साह भी साफ-साफ झलकता है। 

तस्‍वा के चीफ डिजाइन ऑफिसर तरुण तहलियानी ने किट के अनावरण समारोह में बताया, ‘‘हम टीम इंडिया के लिए ड्रेस बनाकर बहुत सम्‍मानित महसूस कर रहे हैं। हमने ऐसे परिधान बनाने के‍ लिये इंडियन ओलम्पिक एसोसिएशन के साथ मिलकर काम किया है, जो भारत की गाथा गाते हैं। यह परिधान न सिर्फ देखने में आकर्षक हैं, बल्कि कम्‍फर्ट और व्‍यवहारिकता को भी ध्‍यान रखकर बनाये गये हैं। ओपेनिंग सेरेमनी में सभी के साथ भव्‍यता से प्रवेश करते हुए, हमारे खिलाडि़यों के हवादार और हल्‍के–फुल्‍के परिधान जुलाई में पेरिस की गर्मियों के बिलकुल अनुकूल होंगे।’’

तहलियानी ने आगे कहा, ‘‘हम चाहते हैं कि हमारे खिलाड़ी वैश्विक मंच पर इस अहसास के साथ अपने कदम आगे बढ़ाएं कि वे भारत की संस्‍कृति एवं धरोहर के दूत हैं। यह हमारा सपना है कि हमारी परंपराओं का दुनियाभर में सम्‍मान किया जाए और उसकी प्रशंसा हो।’’

ओपेनिंग सेरेमनी में टीम इंडिया के पुरुष खिलाड़ी कुर्ता बंडी सेट पहनेंगे, जबकि महिला खिलाड़ी खूबसूरती साडि़यों में नजर आयेंगी। इन परिधानों में इकट से प्रेरित और केसरिया और हरे रंग में डिजिटल तरीके से प्रिंटेड पैनल होंगे। नीले रंग के बटनहोल अशोक चक्र के प्रतीक होंगे, जबकि आइवरी बेस शांति और एकता दिखाएगा। यह लुक आधुनिक ट्रेनर्स से पूरा होता है, जो बनारस का पारंपरिक ब्रोकेड पहनेंगे जिसमें आधुनिक फैशन के साथ परंपरा का सहजता से संगम किया गया है। 

तरुण तहलियानी ने आगे कहा,  ‘‘यह सेरेमोनियल ड्रेस बड़ी खूबसूरती से पुराने भारतीय स्‍टाइल को आधुनिक खिलाड़ी जैसा एहसास देती है। कुर्ता बंडी सेट को हल्‍के-फुल्‍के मॉस कॉटन से बनाया गया है, यह हवादार हैं और पूरा कम्‍फर्ट प्रदान करते हैं। साड़ी चूंकि सुंदरता और सांस्‍कृतिक पहचान का प्रतीक है, इसलिये उसे स्‍वाभाविक तरीके से लपेटने और हवादार रखने के लिये विस्‍कोस क्रेपे से नयापन दिया गया है। इस तरह हमारे खिलाडि़यों को कम्‍फर्ट के साथ-साथ खूबसूरती का भी अहसास होगा।’’

ओलम्पिक मेन्‍स टेबल टेनिस का नेतृत्‍व कर रहे और पेरिस ओलम्पिक्‍स में टीम इंडिया के ध्‍वजवाहक शरथ कमल ने कहा, ‘‘इस सेरेमोनियल ड्रेस को पहनने का अनुभव दमदार था। जब मैंने खुद को शीशे में देखा, तब हमारी धरोहर पर गर्व और उससे जुड़ाव की तीव्र भावना जागी। हल्‍का–फुल्‍का फैब्रिक इसे उस मौके के लिये आदर्श बना देता है।’’

तस्‍वा के ब्राण्‍ड हेड आशीष मुकुल ने भी यही भावना व्‍यक्‍त करते हुए कहा: ‘‘ऑफिशियल सेरेमोनियल ड्रेस न केवल भारतीय शैली के सार को संजोती है, बल्कि देश के गौरव एवं उपलब्धियों का प्रती‍क भी है। इसे खासतौर पर उन लोगों के लिये बनाया गया है, जिन्‍हें वैश्विक मंच पर भारत के प्रतिनिधित्‍व का सम्‍मान मिला है।’’

तस्‍वा न केवल भारत की समृद्ध सांस्‍कृतिक धरोहर का उत्‍सव मनाता है, बल्कि देश के आधुनिक एवं गतिशील उत्‍साह से दुनिया को रूबरू भी कराता है। वैश्विक मंच पर हमारे खिलाड़ी ऐसे परिधानों में नजर आयेंगे, जो भारत के सार की असली अभिव्‍यक्ति हैं- यानी ऐसा देश जो सदाबहार, जीवंत और लगातार विकास करने वाला है।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन  लखनऊ। आईसीएआई ने आज गोमतीनगर स्थित आईसीएआई भवम में इन्टरनेशनल वूमेन्स डे का आयोजन किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलन, मोटो साॅन्ग, राष्ट्रगान व सरस्वती वन्दना के साथ हुआ। शुभारम्भ के अवसर पर शाखा के सभापति सीए. सन्तोष मिश्रा ने सभी मेम्बर्स का स्वागत किया एवं प्रोग्राम की थीम ‘‘एक्सिलेन्स / 360 डिग्री’’ का विस्तृत वर्णन किया। नृत्य, गायन, नाटक मंचन, कविता एवं शायरी का प्रस्तुतीकरण सीए. इन्स्टीट्यूट की महिला मेम्बर्स द्वारा किया गया। इस अवसर पर के.जी.एम.यू की सायकाॅयट्रिक नर्सिंग डिपार्टमेन्ट की अधिकारी  देब्लीना राॅय ने ‘‘मेन्टल हेल्थ आफ वर्किंग वूमेन’’ के विषय पर अपने विचार प्रस्तुत किये। कार्यक्रम में लखनऊ शाखा के  उपसभापति एवं कोषाध्यक्ष सीए. अनुराग पाण्डेय, सचिव सीए. अन्शुल अग्रवाल, पूर्व सभापति सीए, आशीष कुमार पाठक एवं सीए. आर. एल. बाजपेई सहित शहर के लगभग 150 सीए सदस्यों ने भाग लिय।