Skip to main content

समाज कल्याण मंत्री से मिले राज्यकर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष जे एन तिवारी

समाज कल्याण मंत्री से मिले राज्यकर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष जे एन तिवारी 

लखनऊ 9 जुलाई, राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष जे एन तिवारी ने आज प्रदेश के स्वतंत्र प्रभार समाज कल्याण मंत्री असीम अरुण से भागीदारी भवनमें मुलाकात कर विभागीय कर्मचारियों की समस्याओं पर वार्ता किया। संयुक्त परिषद के अध्यक्ष के साथ समाज कल्याण विभाग की प्रतिनिधि के रूप में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद की महामंत्री अरुणा शुक्ला भी थी। जे एन तिवारी ने मंत्री जी को अवगत कराया कि जनजाति विकास विभाग मे चार शिक्षकों को अभी तक संविदा राशि में संशोधन का लाभ नहीं नहीं दिया गया है। विभागका कहना है कि इन शिक्षकों के पास B.Ed योग्यता नहीं है ।सीबीएसई बोर्ड में अध्यापन कार्य कर रहे शिक्षकों को संविदा राशि में संशोधन का लाभ समाज कल्याण विभाग के शिक्षकों की भांति ही दिया जाना है।

जे एन तिवारी ने मंत्री जी को कराया कि जनजाति विकास विभाग शासन को गुमराह कर रहा है। जब इन शिक्षकों की तैनाती की गईथी उस समय समस्त योग्यताएं पूरी थी। जिनस्कूलों में यह शिक्षक पढ़ा रहे हैं, उन स्कूलों को 2024 से सीबीएसई बोर्डकी मान्यता दी गई है, जबकि शिक्षक विगत 10 वर्षों से लगातार अध्यापन का कार्य कर रहे हैं। मंत्री जी ने कहा है कि समाज कल्याण विभाग में संविदा राशि में संशोधन सभी शिक्षकों को दिया गया है इस प्रकार जनजाति विकासविभाग मे भी शिक्षकों को संविदा राशि में संशोधन का लाभ दिया जाएगा। समाज कल्याण विभाग में 2020 में चार शिक्षकों को संविदा से अलग कर दियाथा। एक शिक्षक को 2023 में संविदा पर वापस ले लिया गया है जबकि तीन शिक्षक वापस लिए जाने की प्रत्याशा में है। इन शिक्षकों की पत्रावली मंगाकर तत्काल कार्यवाहीकरने के निर्देश दिए हैं। संविदा शिक्षकों को चिकित्सीय अवकाश दिए जाने एवं महिला शिक्षकोंको चाइल्ड केयर लीव दिया जाने पर भी मंत्री जी न सहमति जताई है। मंत्री जी ने कहा है कि शिक्षकों को केवल 50% परीक्षा परिणाम के आधार पर नवीनीकरण नहीं रोका जाएगा। उनसे कक्षा में पढ़ाते हुए वीडियो बनाकर उसका मूल्यांकन किया जाएगा। किसी शिक्षक का नवीनीकरणरोकने का कोई औचित्य नहीं है। मंत्री जी के साथ वार्ता सद्भावपूर्ण वातावरण में हुई।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन  लखनऊ। आईसीएआई ने आज गोमतीनगर स्थित आईसीएआई भवम में इन्टरनेशनल वूमेन्स डे का आयोजन किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलन, मोटो साॅन्ग, राष्ट्रगान व सरस्वती वन्दना के साथ हुआ। शुभारम्भ के अवसर पर शाखा के सभापति सीए. सन्तोष मिश्रा ने सभी मेम्बर्स का स्वागत किया एवं प्रोग्राम की थीम ‘‘एक्सिलेन्स / 360 डिग्री’’ का विस्तृत वर्णन किया। नृत्य, गायन, नाटक मंचन, कविता एवं शायरी का प्रस्तुतीकरण सीए. इन्स्टीट्यूट की महिला मेम्बर्स द्वारा किया गया। इस अवसर पर के.जी.एम.यू की सायकाॅयट्रिक नर्सिंग डिपार्टमेन्ट की अधिकारी  देब्लीना राॅय ने ‘‘मेन्टल हेल्थ आफ वर्किंग वूमेन’’ के विषय पर अपने विचार प्रस्तुत किये। कार्यक्रम में लखनऊ शाखा के  उपसभापति एवं कोषाध्यक्ष सीए. अनुराग पाण्डेय, सचिव सीए. अन्शुल अग्रवाल, पूर्व सभापति सीए, आशीष कुमार पाठक एवं सीए. आर. एल. बाजपेई सहित शहर के लगभग 150 सीए सदस्यों ने भाग लिय।