Skip to main content

दानवीर भामाशाह का जन्मदिन व्यापारी कल्याण दिवस के रूप में मनाया गया।

दानवीर भामाशाह का जन्मदिन व्यापारी कल्याण दिवस के रूप में मनाया गया। 

लखनऊ,,भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के प्रदेश कार्यालय लालबाग लखनऊ में दानवीर भामाशाह का जन्मदिन व्यापारी कल्याण दिवस के रूप में मनाया गया। उक्त कार्यक्रम में पूर्व मंत्री और व्यापारी नेता वैश्य नटवर गौयल जी ने साल पत्रकार एवं पाच वैश्य व्यापारी नेताओं को सम्मानित किया। कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश वैश्य व्यापारी महासभा के प्रदेश अध्यक्ष सत्य प्रकाश गुलहरे एवं पूर्व राज्य मंत्री नानकदीन भुर्जी जी उपस्थित थे। कार्यक्रम में भामाशाह जी की मूर्ति को फूल माला से सुशोभित किया एवं आए हुए समाज के अतिथि गढ़ एवं पत्रकार बंधुओ का भी सम्मान किया गया। व्यापारी नेता वैश्य नटवर गोयल , गुलहरे जी एवं नानकदीन भुर्जी जी पूर्व मंत्री ने बताया कि माननीय मुख्यमंत्री जी ने भामाशाह जी के जन्मदिन को व्यापारी कल्याण दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की है इसके प्रति माननीय मुख्यमंत्री जी की प्रशंसा एवं आभार व्यक्त किया और माननीय मुख्यमंत्री जी को विश्वास दिलाया कि व्यापारी समाज पूर्णता सरकार के साथ सदैव सहभागिता करने को तत्पर है। माननीय गोयल जी ने घोषणा की है कि प्रत्येक वर्ष 29 जून को भामाशाह जी का जन्मदिन और भी धूमधाम से प्रदेश के प्रत्येक जनपदों में मनाया जाएगा एवं इसके लिए प्रदेश के सभी व्यापारियों को प्रेरित किया जाएगा। वैश्य नटवर गोयल जी ने कहा दानवीर वैश्य कुलभूषण महाराज भामाशाह का जन्म 1547 में वैश्य परिवार में हुआ था, महाराज एक अद्वितीय व्यक्ति थे, जिनकी जीवनगाथा ने भारतीय इतिहास में एक महत्वपूर्ण स्थान बनाया है। मेवाड़ के महाराणा प्रताप के बाल्यकाल से मित्र और सहयोगी होने के नाते, भामाशाह न केवल उनके विश्वासपात्र सलाहकार थे, बल्कि एक समर्पित योद्धा और महान परोपकारी भी ये। वैश्य नटवर गोयल जी ने यह भी बताया भामाशाह का जीवन अपरिग्रह, अर्थात संग्रहण की प्रवृत्ति से दूर रहकर, अपनी मातृभूमि और समाज के प्रति समर्पित था। उन्होंने हमेशा अपने जीवन का मूलमंत्र दूसरों की सहायता और उदारता में देखा। उनका मानना था कि समाज के कल्याण के लिए व्यक्तिगत समृद्धि से ऊपर उठकर सोचना चाहिए। इस विचारधारा के चलते, भामाशाह का नाम इतिहास में अमर हो गया है। मेवाड के संघर्षपूर्ण दिनों में, जब महाराणा प्रताप मुगलों के विरुद्ध लडाई लड़ रहे थे, भामाशाह ने अपनी अकूत संपति समर्पित सेवाओं से महाराणा प्रताप का भरपूर सहयोग किया। जिससे महाराणा प्रताप को मेवाड का राज्य पुनः प्रास हो सका। इस महान योगदान ने भामाशाह को इतिहास में 'दानपौर' के रूप में पतिहित किया। भामाशाह जी की अपनी महान परंपराओं के कारण उल्लेखनीय व्यक्तित्वों में गिनती होती है। वैश्य समुदाय ने सदैव भामाशाह की उदारता और परोपकार को उच्च सम्मान में दिया है ।भारतीय इतिहास में ऐसे महान दानवीरों का उल्लेख मिलता है, जैसे कि महाभारत के कर्ण, जिन्हें दानवीर' और 'अगराज कहा जाता है। मामासाह को भी इसी श्रेणी में रखा जा सकता है, जिन्होंने न केवल अपनी संपत्ति, बल्कि अपने जीवन को भी परोपकार और मातृ‌भू‌मि की सेवा में समर्पित कर दिया। भामाशाह का जीवन और उनकी असाधारण उदारता हमें सिखाती है कि सच्चा सम्मान और अमरता परोपकार और सेवा से प्रास होती है, न कि केपल व्यक्तिगत संपति और शक्ति से। उनकी कहानी भारतीय इतिहास में एक प्रेरणास्रोत के रूप में बनी रहेगी। माननीय मुख्यमंत्री द्वारा पूर्व में भी समय समय पर शासनादेश जारी कर अधिकारीयों को स्पष्ट निर्देश करते रहे है कि व्यापारियों का सम्मान एवं सुरक्षा एवं व्यापारी का शोषण ना हो इस पर भी बल दिया जाए जिसपर माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के ऊपर प्रदेश के व्यापारियों का भरोसा बढ रहा है यही कारण है तमाम व्यापारी वर्ग जिनका प्रदेश से पलायन हो चुका था यह उत्तरप्रदेश में पुनः अपना व्यापार स्थापित कर रहे हैं।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन  लखनऊ। आईसीएआई ने आज गोमतीनगर स्थित आईसीएआई भवम में इन्टरनेशनल वूमेन्स डे का आयोजन किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलन, मोटो साॅन्ग, राष्ट्रगान व सरस्वती वन्दना के साथ हुआ। शुभारम्भ के अवसर पर शाखा के सभापति सीए. सन्तोष मिश्रा ने सभी मेम्बर्स का स्वागत किया एवं प्रोग्राम की थीम ‘‘एक्सिलेन्स / 360 डिग्री’’ का विस्तृत वर्णन किया। नृत्य, गायन, नाटक मंचन, कविता एवं शायरी का प्रस्तुतीकरण सीए. इन्स्टीट्यूट की महिला मेम्बर्स द्वारा किया गया। इस अवसर पर के.जी.एम.यू की सायकाॅयट्रिक नर्सिंग डिपार्टमेन्ट की अधिकारी  देब्लीना राॅय ने ‘‘मेन्टल हेल्थ आफ वर्किंग वूमेन’’ के विषय पर अपने विचार प्रस्तुत किये। कार्यक्रम में लखनऊ शाखा के  उपसभापति एवं कोषाध्यक्ष सीए. अनुराग पाण्डेय, सचिव सीए. अन्शुल अग्रवाल, पूर्व सभापति सीए, आशीष कुमार पाठक एवं सीए. आर. एल. बाजपेई सहित शहर के लगभग 150 सीए सदस्यों ने भाग लिय।