Skip to main content

ये हिन्दी फीचर फ़िल्म, जनवादी सवालो से रुवरू करायेगी -विजय कुमार बन्धु

ये हिन्दी फीचर फ़िल्म, जनवादी सवालो से रुवरू करायेगी -विजय कुमार बन्धु

  • बहुत जल्द अटेवा के संघर्षों को देखेगा पूरा विश्व, पुरानी पेंशन बहाली में मील का पत्थर साबित होगी ये हिन्दी फीचर फ़िल्म, जनवादी सवालो से रुवरू करायेगी -विजय कुमार बन्धु

लखनऊ,  दिनांक.27.05.2024, अटेवा सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के प्रभारी धर्मेंद्र गोयन द्वारा पुरानी पेंशन बहाली हेतु NMOPS व अटेवा के अध्यक्ष विजय कुमार बन्धु के नेतृत्व में पूरे देश मे चलाये जा रहे आंदोलन पर एक हिन्दी फीचर फ़िल्म बनाये जाने हेतु आज यू0पी0 प्रेस क्लब लखनऊ में शाम 4:30 बजे एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया। इस फ़िल्म का पोस्टर अटेवा के अध्यक्ष विजय कुमार बन्धु , पूर्व सेवानिवृत अधिकारी एस एन यादव जी, चिकित्सा महासंघ के प्रदेश महासचिव श्री अशोक कुमार, लुअक्टा के अध्यक्ष डॉ मनोज पाण्डेय, वरिष्ठ सोशल एक्टिविस्ट दीपक कबीर द्वारा रिलीज किया गया। इस अवसर पर अटेवा के प्रदेश अध्यक्ष विजय कुमार बन्धु ने कहा कि आज चार राज्यों में पुरानी पेंशन की बहाली अटेवा के आंदोलन व संघर्ष का ही परिणाम है। आज राजस्थान, छत्तीसगढ़, झारखंड, हिमाचल प्रदेश के शिक्षकों व कर्मचारियों को जो पुरानी पेंशन मिल रही है वह अटेवा के कारण ही मिल रही है। पुरानी पेंशन का मुद्दा नेपथ्य में चला गया था, जिसे अटेवा ने अपने संघर्ष से जीवंत कर दिया। इस फ़िल्म का निर्माण    गोयन ब्रदर्स द्वारा किया जाएगा। यह फिल्म समाज व देश के तमाम जनवादी मुद्दों की तरफ लोगों का ध्यान आकर्षित करेगी। जो इस समय की जरूरत है।

     वरिष्ठ सोशल एक्टिविस्ट दीपक कबीर जी व डा० चन्द्रा ने कहा कि यह बहुत ही सराहनीय और अनुकरणीय है क्योंकि लोगों से जुड़े मुद्दे को पर्दे के माध्यम से समाज और सरकार के सामने लाना एक कलाकार का दायित्व होता है।

      पूर्व अधिकारी एस एन यादव व फार्मासिस्ट के वरिष्ठ नेता सुनील जी ने कहा कि अटेवा ने बहुत सारी प्रतिभाओं को मंच दिया और मौका दिया यह मंच निश्चित रूप से युवाओं के लिए एक बड़ा तोहफा है।

     लुआक्टा के अध्यक्ष डॉ मनोज पाण्डेय व PGI लखनऊ की अघ्यक्ष लता सचान ने इस कार्य के लिए अटेवा एवं उसके अध्यक्ष की सराहना किया निश्चित रूप से या आंदोलन जनआंदोलन की तरफ बढ़ेगा।

      उ0 प्र0 ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ के प्रदेश महामंत्री श्री रामेन्द्र श्रीवास्तव व पी0डब्ल्यू0डी0 के वरिष्ठ कर्मचारी नेता भारत सिंह ने कहा कि इस फिल्म के माध्यम से पुरानी पेंशन का आंदोलन जन-जन तक पहुंचेगा और किए जा रहे संघर्षों को दुनिया देखेगी।

   फिल्म के डायरेक्टर धर्मेंद्र गोयन ने फिल्म में काम करने वाले कलाकारों का परिचय कराया एवं फिल्म की थीम के बारे में बताते हुए कहा कि यह पेंशन आंदोलन, कैसे जनांदोलन का रूप लिया।  उन्होंने कहा कि यह मेरा छोटा सा प्रयास  है इस बड़े आंदोलन के लिए ,और थोड़ा सा भी पुरानी पेंशन की बहाली मे सहयोग करेगा तो मेरे लिए बेहद खुशी की बात होगी। 

   मुख्य भूमिका में विजय कुमार बन्धु, डा० नीरज पति त्रिपाठी, सुमन कुरील, दिव्यांशी गौतम, गोविंद चाहर, संगीत निर्देशक उपेन आरएमएक्स, गीतकार धर्मेंद्र गोयन और पार्वती विश्वकर्मा, कैमरामैन अशोक सरोज, प्रोडक्शन डिजाइनर रजत प्रकाश व विक्रमादित्य मौर्य करेगे।

        प्रेस वार्ता में कई सलहकार ओम प्रकाश ,नरेन्द्र जी ,श्रवण सचान , डा० राजेश राधा प्यारी रावत ,ज्योति शिखा मिश्रा, डा० जैनुल  ,अविनाश , विजय यादव सामाजिक, शिक्षक, कर्मचारी संगठनों के नेता, डॉक्टर, वकील , प्रोफेसर और समाज के तमाम प्रबुद्ध लोग उपस्थित रहे।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन  लखनऊ। आईसीएआई ने आज गोमतीनगर स्थित आईसीएआई भवम में इन्टरनेशनल वूमेन्स डे का आयोजन किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलन, मोटो साॅन्ग, राष्ट्रगान व सरस्वती वन्दना के साथ हुआ। शुभारम्भ के अवसर पर शाखा के सभापति सीए. सन्तोष मिश्रा ने सभी मेम्बर्स का स्वागत किया एवं प्रोग्राम की थीम ‘‘एक्सिलेन्स / 360 डिग्री’’ का विस्तृत वर्णन किया। नृत्य, गायन, नाटक मंचन, कविता एवं शायरी का प्रस्तुतीकरण सीए. इन्स्टीट्यूट की महिला मेम्बर्स द्वारा किया गया। इस अवसर पर के.जी.एम.यू की सायकाॅयट्रिक नर्सिंग डिपार्टमेन्ट की अधिकारी  देब्लीना राॅय ने ‘‘मेन्टल हेल्थ आफ वर्किंग वूमेन’’ के विषय पर अपने विचार प्रस्तुत किये। कार्यक्रम में लखनऊ शाखा के  उपसभापति एवं कोषाध्यक्ष सीए. अनुराग पाण्डेय, सचिव सीए. अन्शुल अग्रवाल, पूर्व सभापति सीए, आशीष कुमार पाठक एवं सीए. आर. एल. बाजपेई सहित शहर के लगभग 150 सीए सदस्यों ने भाग लिय।