Skip to main content

आचार्य देव ने बताया कब है बड़ा मंगल? जानें डेट और हनुमान जी की पूजा विधि

आचार्य देव ने बताया कब है बड़ा मंगल? जानें डेट और हनुमान जी की पूजा विधि

LUCKNOW 26-5-2024: कलयुग में सबकी जिंदगी में संकट हैं और संकट को हरने के लिए  संकटमोचक हनुमान ही एक मात्र विकल्प हैं और अब उनको प्रसन्न करने वाला खास समय भी आ चुका है। इस वर्ष पहला बड़ा मंगल 28 मई को पड़ रहा है। इसके अलावा यह 4, 11 और 18 जून को पड़ेगा। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार यह पर्व ज्येष्ठ माह के प्रत्येक मंगवार के दिन मनाया जाता है।

बड़ा मंगल के दिन हनुमान जी की व्रत-पूजा अचूक मानी गई है। भक्त इस दिन हनुमान जी की पूजा-अर्चना के बाद चौराहों पर जगह-जगह पंडाल लगाकर भंडारे का आयोजन करते हैं और हनुमान जी का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं।

तो आइए, प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य आचार्य देव से जानते हैं, बड़ा मंगल का महत्व क्या है और इस दिन हनुमान जी की पूजा कैसे करें?

विशेष तौर पर बड़ा मंगल का पर्व मध्य भारत में मनाया जाता है। कुछ स्थानों पर भक्त इसे बूढ़वा मंगल के नाम से भी जानते हैं। इस दिन हुनमान जी के मंदिरों में सुंदर कांड और हनुमान चालीसा का पाठ किया जाता है।

कब-कब है 2024 में बड़ा मंगल

ज्येष्ठ का पहला बड़ा मंगल -  28 मई 2024

ज्येष्ठ का दूसरा बड़ा मंगल -  04 जून 2024

ज्येष्ठ का तीसरा बड़ा मंगल - 11 जून 2024

ज्येष्ठ का चौथा बड़ा मंगल -   18 जून 2024

बड़ा मंगल का महत्व (Bada Mangal Significance)

मान्यता है कि इस दिन बजरंगबली को चोला चढ़ाने, दान पुण्य करने से हर तरह की बाधा दूर हो जाती है। बड़ा मंगल के दिन विधि विधान से हनुमान जी की पूजा करने से आर्थिक, मानसिक और शारीरिक पीड़ा से मुक्ति मिलती है।

ज्येष्ठ माह के बड़ा मंगल का संबंध महाभारत और रामायण से जुड़ा है। मान्यताओं के अनुसार ज्येष्ठ माह के मंगलवार को भगवान हनुमान पहली बार भगवान राम से मिले थे।

अन्य मान्यता के अनुसार एक बार भीम को अपनी शक्तियों पर बड़ा घमंड हो गया था। तब उन्‍हें सबक सिखाने के लिए हनुमानजी ने एक बूढे़ वानर का रूप धारण करके उनके घमंड को तोड़ा था। तभी से इस दिन को बुढ़वा मंगल के नाम से मनाया जाने लगा।

ऐसे करें हनुमान जी की पूजा, सभी संकटों से मिलेगी मुक्ति

बड़ा मंगल के दिन सूर्योदय से पहले ब्रह्ममुहूर्त में उठकर स्नान करके भगवा वस्त्र धारण करें।

लाल रंग के स्वच्छ आसन पर बैठें।

मंदिर को साफ करके दीप प्रज्वलित करें।

संध्या वंदन करें एवं हनुमान जी का ध्यान विशेष रूप से करें।

चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर हनुमान जी की प्रतिमा को विराजमान करें।

हनुमान जी को सिंदूर एवं चमेली के तेल का लेपन करें।

चांदी का वर्क अर्पण करें।

फूल, चावल एवं सामर्थ्य अनुसार उपलब्ध साधनों से हनुमान जी का पूजन करें।

घी का दीपक जलाकर आरती करें और मंत्रों का जाप करें।

सुंदर कांड और हनुमान चालीसा का पाठ करें।

हनुमान जी को सवामणि का भोग लगाएं।

अपनी श्रद्धा अनुसार गरीब लोगों में लाल चीजों का दान करें।

बड़े मंगल पर करें इन मंत्रों का जाप

हनुमान मंत्र

अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहम्

दनुजवनकृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यम् ।

सकलगुणनिधानं वानराणामधीशम्

रघुपतिप्रियभक्तं वातजातं नमामि।।

ॐ ऐं ह्रीं हनुमते श्री रामदूताय नमः

यश-कीर्ति की प्राप्ति के लिए मंत्र

ऊँ नमो हनुमते रुद्रावताराय विश्वरूपाय अमितविक्रमाय

प्रकट-पराक्रमाय महाबलाय सूर्यकोटिसमप्रभाय रामदूताय स्वाहा।

शत्रु पराजय के लिए हनुमान मंत्र

ऊँ नमो हनुमते रुद्रावताराय रामसेवकाय

रामभक्तितत्पराय रामहृदयाय लक्ष्मणशक्ति

भेदनिवावरणाय लक्ष्मणरक्षकाय दुष्टनिबर्हणाय रामदूताय स्वाहा।

बड़ा मंगल के दिन करें ये उपाय हर काम में मिलेगी सफलता

इस दिन बंदरों को गुड़ और चना खिलाएं।

हनुमान जी को लाल वस्तुएं अर्पण करें।

हनुमान जी को चमेली का तेल, सिंदूर और चांदी का वर्क चढ़ाएं।

हुनमान जी को मीठे पान का भोग लगाएं।

मंदिर के बाहर बैठे गरीब लोगों को मीठे चावल बांटे।

इन उपायों को करने से भक्तों के जीवन में संबंधों में सुधार आता है। घरेलु झगड़े शांत होते हैं। भूमि से जुड़ी समस्याओं का समाधान होता है। जो युवा सेना में नौकरी का सपना देखते हैं उनके सपने पूरे होते हैं। राजनीति से जुड़े लोगों को नेतृत्व प्राप्त होता है। सामाजिक गतिविधियों से जुड़े लोगों को सम्मान की प्राप्ति होती है।

ऐसे ही सनातन धर्म की व्रत कथा, त्योहार आदि महत्वपूर्ण जानकारी के लिए वामा ब्लॉग पढ़ें।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन  लखनऊ। आईसीएआई ने आज गोमतीनगर स्थित आईसीएआई भवम में इन्टरनेशनल वूमेन्स डे का आयोजन किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलन, मोटो साॅन्ग, राष्ट्रगान व सरस्वती वन्दना के साथ हुआ। शुभारम्भ के अवसर पर शाखा के सभापति सीए. सन्तोष मिश्रा ने सभी मेम्बर्स का स्वागत किया एवं प्रोग्राम की थीम ‘‘एक्सिलेन्स / 360 डिग्री’’ का विस्तृत वर्णन किया। नृत्य, गायन, नाटक मंचन, कविता एवं शायरी का प्रस्तुतीकरण सीए. इन्स्टीट्यूट की महिला मेम्बर्स द्वारा किया गया। इस अवसर पर के.जी.एम.यू की सायकाॅयट्रिक नर्सिंग डिपार्टमेन्ट की अधिकारी  देब्लीना राॅय ने ‘‘मेन्टल हेल्थ आफ वर्किंग वूमेन’’ के विषय पर अपने विचार प्रस्तुत किये। कार्यक्रम में लखनऊ शाखा के  उपसभापति एवं कोषाध्यक्ष सीए. अनुराग पाण्डेय, सचिव सीए. अन्शुल अग्रवाल, पूर्व सभापति सीए, आशीष कुमार पाठक एवं सीए. आर. एल. बाजपेई सहित शहर के लगभग 150 सीए सदस्यों ने भाग लिय।