Skip to main content

न्यू इंडिया इन द 21 सेंचुरी' किताब का विमोचन अमेरिका में हुआ

'न्यू इंडिया इन द 21 सेंचुरी' किताब का विमोचन अमेरिका में हुआ

  • विश्व नेताओं और नोबेल शांति पुरस्कार विजेताओं ने डॉ. शिशिर श्रीवास्तव की नवीनतम पुस्तक का विमोचन किया |

लॉस एंजेल्स, अमेरिका, डॉ. शिशिर श्रीवास्तव द्वारा लिखित '21वीं सदी में नया भारत: 2050 तक विकसित भारत के लिए 21 दृष्टिकोण' का आज होटल ली मेरिडियन, पासाडेना अर्काडिया में त्रिनिदाद के पूर्व राष्ट्रपति महामहिम एंथोनी कार्मोना और टोबैगो, लेसोथो के पूर्व प्रधान मंत्री महामहिम पाकलिथा बी. मोसिली, नोबेल शांति पुरस्कार विजेता अब्देसतार बेनमौसा और जेरी व्हाइट के द्वारा पुस्तक का विमोचन किया गया। लेखक को यहां लॉस एंजिल्स, अमेरिका में प्रेम और शांति के विश्व नेता शिखर सम्मेलन को संबोधित करने के लिए आमंत्रित किया गया था।

पुस्तक की सराहना में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पूर्व में लिखे एक पत्र में कहा कि: "इस पुस्तक का उद्देश्य भारत के बच्चों और युवाओं को ज्ञान और दूरदृष्टि से सशक्त बनाना है। यह भविष्य के भारतीयों के लिए वास्तव में उपयोगी और प्रेरणादायक साबित होगी।"

'न्यू इंडिया इन द 21 सेंचुरी' पुस्तक में लेखक, डॉ शिशिर श्रीवास्तव ने प्रधानमंत्री मोदी जी को 21वी सदी के नए भारत  के राष्ट्रपिता का पद दिया है क्योकि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में पिछले एक दशक में भारत आर्थिक महाशक्ति के रूप में तेजी से उभर रहा है तथा सम्पूर्ण जगत उसे एक विश्व गुरु के रूप में देख रहा है। मोदी जी ने एक प्रधान सेवक के रूप में रात दिन परिश्रम कर 140 करोड़ भारतवासियों के ह्रदय में एक नए भारत के स्वप्न निर्माण के लिए आशा की किरण उत्पन्न करी है। 

पुस्तक की सराहना श्री नरेंद्र मोदी के साथ साथ श्री राजनाथ सिंह, श्री पीयूष गोयल, गुरुदेव श्री श्री रविशंकर, डॉ. एमएस स्वामीनाथन, डॉ. विक्रम सिंह, सुश्री साइना नेहवाल और डॉ. जगदीश गांधी ने भी की है।

डॉ. शिशिर श्रीवास्तव 23 वर्षों से अधिक के अनुभव के साथ अंतरराष्ट्रीय संबंधों, करियर परामर्श और प्रेरक भाषण में एक अत्यधिक सम्मानित व्यक्ति हैं। उनके पास हार्वर्ड बिजनेस स्कूल और जिनेवा स्कूल ऑफ डिप्लोमेसी जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों से योग्यता है। डॉ. श्रीवास्तव ने शिक्षा और परामर्श में महत्वपूर्ण योगदान दिया है, खासकर 61,000 छात्रों के साथ दुनिया के सबसे बड़े स्कूल सिटी मोंटेसरी स्कूल (सीएमएस) में उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों के आयोजन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

डॉ शिशिर श्रीवास्तव एक मोटिवेशनल स्पीकर, लेखक, कवि और करियर काउंसलर हैं। उनका जन्म 26 सितंबर 1977 को लखनऊ में डॉ. सुशील कुमार श्रीवास्तव और श्रीमती नीरजा श्रीवास्तव के घर हुआ था। डॉ श्रीवास्तव की पहली कविताएँ टाइम्स ऑफ इंडिया में तब छपीं जब वह 16 साल के थे। उन्होंने पांच पुस्तकें लिखी हैं। 

एक कुशल लेखक के रूप में, उनकी उल्लेखनीय कृतियों में 'द एइट पॉवर्स विदिन यू' और 'उथो युवा' शामिल हैं, जिन्हें प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी से प्रशंसा मिली। उनकी पहली पुस्तक 'द एट पॉवर्स विदिन यू: योर गाइड टू सक्सेस' (पेंगुइन बुक्स, जून 2010) लॉन्च होने के दो महीने के भीतर इंडियन टुडे की नॉन-फिक्शन बेस्टसेलिंग सूची में आ गई और इसका चार भाषाओं में अनुवाद किया गया। उनकी दूसरी पुस्तक 'द पावर ऑफ प्रेयर' 2011 में एक ईबुक के रूप में प्रकाशित हुई थी। 2013-14 में, उन्होंने डॉ किरण बेदी के साथ 'यूथ फॉर यूथ' का सह-लेखन किया, एक ई-बुक जिसमें 101 युवा पुरुषों और महिलाओं की आवाज़ें शामिल हैं। 'भ्रष्टाचार' और 'महिला सुरक्षा' के मुद्दे। "उठो युवा" उनकी चौथी पुस्तक थी जिसमे युवाओं को प्रेरित करने के लिए कविताएँ लिखी गयी हैं और इस किताब का विमोचन 04 अप्रैल 2016 को भाजपा के भूतपूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष तथा वर्तमान में भारत के गृहमंत्री श्री अमित शाह के द्वारा किया गया था।

डॉ. श्रीवास्तव को कई प्रतिष्ठित उपाधियाँ और पुरस्कार से नवाज़ा गया हैं, जिनमें 'ग्लोबल फ्रेंड ऑफ़ वर्ल्ड्स चिल्ड्रेन' और 'मैन ऑफ़ द ईयर' जैसे अवार्ड शामिल हैं। 2021 में, शिक्षा के प्रति उनके आजीवन समर्पण को मान्यता देते हुए, उन्हें हैती देश की थियोफनी विश्वविद्यालय द्वारा शिक्षा में मानद डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित किया गया। उनके बारे में अधिक जानकारी उनकी वेबसाइट www.drshishir.in पर पाई जा सकती है।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम