Skip to main content

केन्‍द्रीय मंत्री स्‍मृति ईरानी ने अमेठी के लोगों को बोईंग लिटरेसी तथा हेल्‍थकेयर प्रोग्राम्‍स समर्पित किए

केन्‍द्रीय मंत्री स्‍मृति ईरानी ने अमेठी के लोगों को बोईंग लिटरेसी तथा हेल्‍थकेयर प्रोग्राम्‍स समर्पित किए

अमेठी, भारत, 25 अगस्‍त, 2023 - भारत सरकार में महिला और बाल विकास तथा अल्‍पसंख्‍यक मामलों की माननीय मंत्री श्रीमती स्‍मृति जुबिन ईरानी ने आज उत्‍तर प्रदेश के अमेठी जिले में बोईंग- रूम टू रीड लिटरेसी प्रोग्राम और डॉक्टर्स फॉर यू (डीएफवाई) डायग्‍नोस्टिक सेंटर के शुभारम्भ की घोषणा की है।

इस प्रोग्राम के अंतर्गत बोईंग, रूम टू रीड- विश्व स्तर पर विख्यात लाभ-निरपेक्ष संगठन, को अगले चार वर्षों के लिए अमेठी में 60 चयनित प्राथमिक विद्यालयों में लिटरेसी प्रोग्राम (साक्षरता कार्यक्रम) क्रियान्वित करने में मदद करेगा। इस प्रोग्राम के द्वारा स्वतन्त्र पाठकों और आजीवन शिक्षार्थियों का पालन-पोषण किया जाएगा। बोईंग द्वारा वित्त-पोषित मेडिकल डायग्नोस्टिक सेंटर में सीटी स्कैन, डिजिटल एक्स-रे, और अल्ट्रासाउंड मशीनों सहित उन्‍नत चिकित्सीय उपकरण होंगे, जिनसे अगले तीन वर्षों तक ज़रूरतमंद लोगों को मुफ्त चिकित्सीय जाँच प्रदान करने में डीएफवाई को मदद मिलेगी। इसके अलावा इस केन्‍द्र में मेडिकल टेक्‍नीशियंस और पैरामेडिक्‍स को प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।

आज अमेठी में इस उद्घाटन समारोह में मंत्री ईरानी के साथ सरकार और जिले के वरिष्‍ठ अधिकारी, बोईंग इंडिया की चीफ ऑफ स्‍टाफ और बोईंग ग्‍लोबल एंगेजमेन्‍ट लीड सुश्री प्रवीणा यग्नमभट, रूम टू रीड इंडिया की कंट्री डायरेक्‍टर सुश्री पूर्णिमा गर्ग और डीएफवाई के फाउंडर डॉ. रविकांत सिंह मौजूद थे।

श्रीमती स्मृति ईरानी ने कहा कि, “अमेठी में जमीनी स्तर पर लोगों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और स्वास्थ्य-देखभाल की सुविधाओं की सुलभता प्रदान करने पर सरकार का मुख्य ध्यान केन्द्रित है। रूम टू रीड और डॉक्टर्स फॉर यू के साथ बोईंग की सामुदायिक सहभागिता पहल प्राथमिक शिक्षा और गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल की सुलभता प्रदान करने में अमेठी के लोगों के जीवन में उल्लेखनीय योगदान करेगी। मैं सभी के लिए बेहतर भविष्य के निर्माण में मदद करने के लिए अमेठी के लोगों के साथ सहयोग करने की बोईंग की वचनबद्धता की सराहना करती हूँ।”

बोईंग इंडिया के प्रेसिडेंट, श्री सलिल गुप्‍ते ने कहा, “जब हम बच्‍चों में कल्‍पना शक्ति और जिज्ञासा का पोषण करते हैं, तब अगली पीढ़ी के आविष्‍कारकों और प्रवर्तकों का निर्माण होता है। इसी प्रकार, हम जब विविध समुदायों के लोगों को चिकित्सीय सहायता और सतत स्वास्थ्य-देखभाल प्रदान करते हैं तो प्रगति आगे बढ़ती है। रूम टू रीड और डॉक्टर्स फॉर यू के साथ हमारी दीर्घकालिक साझेदारियाँ सभी के लिए साक्षरता, शिक्षा, और स्वास्थ्य देखभाल उपलब्ध कराने वाले संसाधन प्रदान करने के प्रति हमारी निरंतर वचनबद्धता को रेखांकित करती हैं।” 

रूम टू रीड प्रोग्राम के हिस्से के तौर पर, चयनित 60 विद्यालयों में पुस्तकालय कक्षों को स्थापित किया जाएगा, जहाँ पुस्तकों, पठन टेबल, पुस्तकों के लिए खुली आलमारियों, डिस्प्ले इकाइयों, और अन्य शैक्षणिक सामग्रियों सहित आधुनिक सुविधायें और संसाधन प्रदान किये जायेंगे। इसके अलावा, इस प्रोग्राम के द्वारा सामुदायिक सभाओं, समारोहों, ग्रीष्मकालीन शिविरों, अभिभावकीय अनुकूलन( पेरेंटल ओरिएन्‍टेशन), विद्यालय प्रबंधन समिति प्रशिक्षण, और पठन अभियानों ( रीडिंग कैंपेन्‍स) के माध्यम से पारिवारिक तथा सामुदायिक सहभागिता को आगे बढ़ाएगा। यह प्रोग्राम शिक्षकों और संकाय सदस्यों के लिए पेशागत विकास प्रशिक्षण भी आरम्भ किया जाएगा। इन पहलों से घर में और विद्यालय में बच्चों की सहायता के सही तरीकों के बारे में परिवारों, समुदायों, और शिक्षकों के बीच जागरूकता का निर्माण करने में मदद मिलेगी।

रूम टू रीड की सीईओ, सुश्री गीता मुरली ने बताया, “जब बच्‍चे सीखते हैं, तब बदलाव की ऐसी लहरें पैदा करते हैं, जो उनके परिवारों, समुदायों और भविष्‍य की पीढि़यों तक जाती हैं। बोईंग और रूम टू रीड के बीच मजबूत भागीदारी बच्‍चों की निरक्षरता को दूर करने और सकारात्‍मक बदलाव लाने में सहयोग की शक्ति का उदाहरण है। साथ मिलकर हम न केवल बच्‍चों का उज्‍जवल भविष्‍य सुनिश्चित कर रहे हैं, बल्कि शिक्षा को विकास की कार्यसूची में सबसे ऊपर रख रहे हैं। हम जानते हैं कि शिक्षा हमारे दौर की दूसरी महत्‍वपूर्ण चुनौतियों को हल करने का आधार है।”

‘दुनिया का बदलाव शिक्षित बच्‍चों से आरम्भ होता है®️’, इस मान्‍यता के साथ वर्ष 2000 में स्थापित रूम टू रीड का अभिनव प्रतिदर्श दो महत्वपूर्ण अवधियों - आरंभिक प्राथमिक विद्यालाय और माध्यमिक विद्यालय के दौरान स्‍कूलों के भीतर गहन, सर्वांगीण कायाकल्‍प पर केन्द्रित है। यह संस्‍था प्राथमिक विद्यालयों के बच्‍चों के बीच साक्षरता की कुशलताएं और पढ़ाई की आदत विकसित करने में मदद करती है और सुनिश्चित करती है कि लड़कियाँ आवश्‍यक जीवन-कौशल के साथ माध्‍यमिक विद्यालय की पढ़ाई पूरी करें। 23 देशों में रूम टू रीड ने 39 मिलियन से ज्‍यादा बच्‍चों को फायदा पहुँचाया है।

बोईंग द्वारा वित्त-पोषित डीएफवाई मेडिकल डायग्नोस्टिक सेंटर का उदघाटन करते हुए, डॉक्टर्स फॉर यू के फाउंडर, डॉ. रविकांत सिंह ने कहा कि, “आज अमेठी में इस माइलस्टोन प्रोजेक्ट पर बोईंग के साथ अपनी साझीदारी का विस्तार करना गौरवपूर्ण पल है। हम अत्याधुनिक डायग्नोस्टिक सेवाओं की सुलभता प्रदान करके इस जिले के लोगों के लिए लगार गुणवत्ता, निःशुल्क स्वास्थ्य देखभाल सेवायें प्रस्तुत कर रहे हैं।” डीएफवाई एक अखिल-भारतीय मानवतावादी संगठन है। इसकी स्थापना वर्ष 2007 में डॉक्टरों, मेडिकल स्टूडेंट्स, और समान सोच के लोगों द्वारा “सभी के लिए स्वास्थ्य” की दूरदृष्टि के साथ की गई थी। यह संगठन सौदे-आधारित आपदा जोखिम न्यूनीकरण, सार्वजनिक स्वास्थ्य, प्रशिक्षण और आपदा आपातकालीन प्रतिक्रिया में पथ-प्रदर्शक कार्यों का प्रदर्शन करता रहा है। साथ ही, यह भारत के छः राज्यों में सभी के लिए स्वास्थ्य का कुशल, प्रभावकारी, एवं न्यायोचित वितरण प्रदान करते हुए आरक्षित समुदायों के साथ व्यापक रूप से शामिल रहा है।

सामाजिक रूप से जिम्‍मेदार बिजनेस लीडर के नाते बोईंग अपने परिचालन स्‍थलों के समुदायों के जीवन की गुणवत्‍ता सुधारने के लिये प्रतिबद्ध है। कौशल, शिक्षा एवं पोषण, स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल और स्‍वच्‍छता, कार्यबल विकास और भूतपूर्व सैनिकों के कल्‍याण पर केन्द्रित कार्यक्रमों के माध्‍यम से बोईंग ने विगत वर्षों में भारत में 5 लाख से ज्‍यादा लोगों के जीवन को प्रभावित किया है।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम