Skip to main content

अपोलोमेडिक्स लखनऊ में की गई यूपी की पहली और देश की पांचवीं रीनल डिनेर्वेशन थेरेपी

अपोलोमेडिक्स लखनऊ में की गई यूपी की पहली और देश की पांचवीं रीनल डिनेर्वेशन थेरेपी

  • यह उन सभी आयु वर्ग के रोगियों के लिए वरदान है जिनका कई दवाइयां लेने के बाद भी बीपी अनियंत्रित बना रहता है
  • यह थेरेपी बिना किसी सर्जिकल प्रोसीजर को अंजाम दिए 30 मिनट से भी कम समय में की जाने वाली प्रक्रिया है।

लखनऊ, 24 जुलाई 2023, अल्ट्रामॉडर्न मेडिकल टेक्नोलॉजी के जरिए मरीजों को बेहतर से बेहतर इलाज मुहैया कराने की अपनी प्रतिबद्धता को आगे बढ़ाते हुए, अपोलोमेडिक्स अस्पताल लखनऊ के डॉक्टरों ने असाधारण थेरेपी से कई वर्षों से रेजिस्टेंट हाई बीपी के 60 वर्षीय मरीज का इलाज किया। यह देश में पांचवीं और उत्तर प्रदेश की पहली रीनल डिनेर्वेशन थेरेपी (आरडीएन) है, जिसे सफलतापूर्वक अंजाम दिया गया है।

डॉक्टरों ने बताया कि रीनल डिनेर्वेशन थेरेपी (आरडीएन) उन लोगों के लिए उच्च रक्तचाप के इलाज का एक आधुनिक विकल्प है जो आमतौर पर हर दिन 4-5 तरह की दवाएं लेते हैं लेकिन फिर भी उच्च रक्तचाप से राहत नहीं मिलती हैं।

इस मामले में 60 वर्षीय मरीज ने 16 जुलाई को अपोलोमेडिक्स हॉस्पिटल लखनऊ के इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. गौतम स्वरूप से संपर्क कर सलाह ली थी।

मरीज़ कई प्रकार की उच्च रक्तचापरोधी दवाएं ले रहा था, लेकिन फिर भी, उसका रक्तचाप 170/100 तक बना हुआ था। इस बढ़े हुए अनियंत्रित रक्तचाप ने मरीज के लिए हृदय गति रुकने का खतरा उत्पन्न कर दिया था और उन्हें पहले भी दो बार अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था।

अपोलोमेडिक्स अस्पताल लखनऊ के इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. गौतम स्वरूप ने बताया, " मरीज का रक्तचाप फिर से बढ़ गया, जिससे उनकी हृदय गति अनियमित हो गई थी। इस स्थिति में मरीज को अस्पताल में भर्ती कराया गया। परीक्षणों के दौरान, हमने पाया कि प्रतिरोधी उच्च रक्तचाप की स्थिति ने उनके गुर्दे के कार्य करने की क्षमता को भी प्रभावित कर दिया था, क्रिएटिनिन का स्तर 1.9 था, जो सामान्य स्तर से काफी ऊपर है। उनकी स्थिति को देखते हुए, हमने रीनल डिनेर्वेशन थेरेपी (आरडीएन) की सिफारिश की, यह उन मामलों में एक जीवन रक्षक प्रक्रिया है जहां बीपी कई दवाओं के बाद भी यह अनियंत्रित है।"

अपोलोमेडिक्स हॉस्पिटल, लखनऊ के एमडी और सीईओ डॉ. मयंक सोमानी ने कहा, "हमारे डॉक्टरों की टीम कुछ नवीनतम चिकित्सा तकनीकों का उपयोग करके जीवन बचाने के लिए महत्वपूर्ण निर्णय लेने में माहिर हैं। रीनल डिनेर्वेशन थेरेपी एक ऐसी थेरेपी है जो प्रतिरोधी उच्च रक्तचाप से पीड़ित रोगियों के लिए आशा की किरण साबित हो रही है।"

देश में युवा आबादी में उच्च रक्तचाप तेजी से फैल रहा है। कभी-कभी, इस स्थिति से पीड़ित बहुत से लोग समस्या के बारे में उचित जानकारी न होने से सही दवा और उपचार से चूक जाते हैं। कई दवाएँ लेने से मरीज की किडनी पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। रीनल नर्वेशन थेरेपी ऐसे कई रोगियों के लिए एक आशा की किरण है जो प्रतिरोधी उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं। थेरेपी बिना कोई चीरा लगाए दी जाती है और 30 मिनट के भीतर पूरी की जा सकती है।

रीनल नर्वेशन थेरेपी (आरडीएन) एक छोटे से छेद के साथ की जाने वाली एक प्रक्रिया है जहां कैथेटर को रक्त वाहिका के अंदर गुर्दे और रक्त वाहिकाओं के आसपास की नसों तक पहुंचाया जाता है। फिर कैथेटर का उपयोग करके गुर्दे की नसों को ऊष्मा पहुंचाई जाती है, जिससे रक्तचाप के स्तर में कमी आती है और गुर्दे पर दबाव कम हो जाता है।

डॉ. गौतम स्वरूप ने बताया, "रीनल डिनेर्वेशन थेरेपी (आरडीएन) 30 मिनट की एक प्रक्रिया है, जो प्रतिरोधी उच्च रक्तचाप वाले लोगों के लिए अत्यधिक लाभकारी है। थेरेपी डायलिसिस या किडनी विफलता जैसी स्थितियों को रोक सकती है, जो लगातार उच्च रक्तचाप के चलते पैदा होती हैं।"

उच्च रक्तचाप (हाई बीपी) दुनिया भर में मौत का एक प्रमुख कारण है, जिसे रोका जा सकता है। हाई बीपी से दिल का दौरा, स्ट्रोक, हार्ट फेलियर या गुर्दे की बीमारी होने की संभावना बहुत बढ़ जाती है।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन

आईसीएआई ने किया वूमेन्स डे का आयोजन  लखनऊ। आईसीएआई ने आज गोमतीनगर स्थित आईसीएआई भवम में इन्टरनेशनल वूमेन्स डे का आयोजन किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलन, मोटो साॅन्ग, राष्ट्रगान व सरस्वती वन्दना के साथ हुआ। शुभारम्भ के अवसर पर शाखा के सभापति सीए. सन्तोष मिश्रा ने सभी मेम्बर्स का स्वागत किया एवं प्रोग्राम की थीम ‘‘एक्सिलेन्स / 360 डिग्री’’ का विस्तृत वर्णन किया। नृत्य, गायन, नाटक मंचन, कविता एवं शायरी का प्रस्तुतीकरण सीए. इन्स्टीट्यूट की महिला मेम्बर्स द्वारा किया गया। इस अवसर पर के.जी.एम.यू की सायकाॅयट्रिक नर्सिंग डिपार्टमेन्ट की अधिकारी  देब्लीना राॅय ने ‘‘मेन्टल हेल्थ आफ वर्किंग वूमेन’’ के विषय पर अपने विचार प्रस्तुत किये। कार्यक्रम में लखनऊ शाखा के  उपसभापति एवं कोषाध्यक्ष सीए. अनुराग पाण्डेय, सचिव सीए. अन्शुल अग्रवाल, पूर्व सभापति सीए, आशीष कुमार पाठक एवं सीए. आर. एल. बाजपेई सहित शहर के लगभग 150 सीए सदस्यों ने भाग लिय।