Skip to main content

मिस्‍टर एण्‍ड मिसेज शमीम’ में सबा क़मर का बदलाव देखने लायक है

मिस्‍टर एण्‍ड मिसेज शमीम’ में सबा क़मर का बदलाव देखने लायक है

  • उमैना के किरदार में सबा का बेजोड़ परफॉर्मेंस देखिये, जि़न्‍दगी के यूट्यूब चैनल पर हर मंगलवार और शुक्रवार

लखनऊ,सबा क़मर ने हाल ही में पाकिस्‍तान की सबसे प्रतिभाशाली अदाकाराओं में से एक के तौर पर नाम कमाया है। उन्‍होंने पाकिस्‍तान और भारत के मनोरंजन उद्योग में अपने प्रदर्शन से दर्शकों का दिल जीता है। ‘हिन्‍दी मीडियम’ में स्‍वर्गीय इरफान खान के साथ वह हर किसी को पसंद आई थीं। अभी जि़न्‍दगी के यूट्यूब चैनल पर स्‍ट्रीम हो रहे शो ‘मिसेज एण्‍ड मिस्‍टर शमीम’ में उमैना की भूमिका निभाते हुए सबा ने अपने ही रिकॉर्ड तोड़ दिये हैं। उनकी वर्सेटिलिटी और भावनात्‍मक गहराई ने उन्‍हें वाकई एक बेहतरीन अभिनेत्री बनाया है।

सीरीज की शुरूआत में उमैना आत्‍मविश्‍वास से भरी और खरी बात करने वाली एक नौजवान है, जो अपने दिल की बात रखने से कतराती नहीं है। हालांकि, जब शो आगे बढ़ता है, तब हम उसका नाटकीय बदलाव देखते हैं। चौंका देने वाले एक ट्विस्‍ट के बाद उसे पता चलता है कि वह गर्भवती है, उसका पुराना प्रेमी उसे छोड़ चुका है और अपने परिवार ने भी उसे छोड़ दिया है। भावुक कर देने वाले इस सफर को सबा ने बड़ी खूबसूरती से दिखाया है। पूरी तरह एक आत्‍मनिर्भर महिला होने से लेकर कमजोर और भावुक बन जाने तक, उन्‍होंने उमैना के बदलाव में खुद को ढाला है। उमैना को उस दुनिया में प्‍यार और मान्‍यता चाहिये, जो अक्‍सर उसे समझने और सराहने में विफल रहती है। 

निर्देशक काशिफ निसार ने उमैना के किरदार में जान डालने के लिये सबा की तारीफ करते हुए कहा, ‘’उमैना के किरदार को निभाना आसान नहीं है, क्‍योंकि यह किरदार कई भावनाओं और जज्‍बातों से गुजरता है। लेकिन सबा ने उसकी भूमिका को बेहतरीन तरीके से निभाया है। जब हम इस शो के कलाकारों को चुन रहे थे, तब मुझे पता था कि सबा परफेक्‍ट तरीके से उमैना की दुनिया में ढल जाएंगी और उसकी जिन्‍दगी के सफर के कई पड़ाव दिखा सकेंगी। मुझे बहुत खुशी है कि उमैना की भूमिका के लिये हमने सबा को चुना और हम सोच भी नहीं सकते  कि उनके बिना ‘मिसेज एण्‍ड मिस्‍टर शमीम’ कैसा होता।’’

सबा क़मर ने कहा, ‘‘उमैना ऐसा किरदार है, जिसने एक कलाकार होने के नाते मुझे चौंकाया है। उसके पास सब-कुछ है और वह अपनेआप में पूरी है। मैं इस किरदार से रिलेट करती हूँ, क्‍योंकि असल जिन्‍दगी में मेरे भीतर भी उतनी ताकत है। लेकिन उमैना के हालात बहुत अलग हैं। वह एक वाइल्‍ड चाइल्‍ड है, निडर है, मस्‍ती से भरी है और जिंदादिल है। इस भूमिका के लिये मुझे काफी मेहनत करनी पड़ी और उसके पास तरह-तरह के जज्‍बात थे। मैंने इस भूमिका को निभाना एक चुनौती माना, क्‍योंकि उसमें तरह-तरह की भावनाएं उफनती हैं। दर्शकों तक उन भावनाओं को पहुँचाना, ताकि वे हर सीन में उमैना की स्थिति को समझ सके, यकीनन बड़ा काम था। लेकिन स्‍टोरीलाइन के चलते मैंने यह स्‍वाभाविक तरीके से कर दिखाया। मैंने उमैना जैसा किरदार पहले कभी नहीं किया है और शो को देखने के बाद आप मेरी बात से सहमत होंगे। वह प्रेरक है और समाज पर सवाल खड़े करती है। यह सवाल उन लोगों को पसंद नहीं हैं, जिनकी सोच अलग है।’’ 

अपनी कला को लेकर सबा क़मर का समर्पण साफ दिखता है और उमैना का किरदार आपको निशब्‍द कर देगा। इस परफॉर्मेंस को देखने से आप चूकना नहीं चाहेंगे। हर मंगलवार और शुक्रवार को जि़न्‍दगी के यूट्यूब चैनल पर इसका प्रीमियर देखने से न चूकें। प्‍यार और लचीलेपन के इस बेजोड़ सफर में शमीम और उमैना का साथ दें।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम