Skip to main content

पीएनबी का मुनाफा बीते साल की तुलना में 228.8 फीसदी बढ़कर 8245 करोड़ रुपये पहुंचा

पीएनबी का मुनाफा बीते साल की तुलना में 228.8 फीसदी बढ़कर 8245 करोड़ रुपये पहुंचा

लखनऊ, 9 मई, सार्वजनिक क्षेत्र में देश के अग्रणी बैंक, पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी) ने वित्त वर्ष 2024 में शानदार प्रदर्शन किया है। बैंक को 31 मार्च को समाप्त हुयी चौथी तिमाही में शुद्ध लाभ वर्ष दर वर्ष  आधार पर 159.8 फीसदी बढ़ा है। वित्त वर्ष 2023 की चौथी तिमाही में पीएनबी का शुद्ध लाभ 1159 करोड़ रुपये था जो वित्त वर्ष 2024 की चौथी तिमाही में बढ़कर 3010 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2024 की तीसरी तिमाही में शुद्ध लाभ 223 करोड़ रुपये था। बैंक के निदेशक मंडल ने 1.50 रुपये प्रति इक्विटी शेयर के डिविडेंड की अनुशंसा की है जो जरुरी स्वीकृतियों के बाद जारी किया जाएगा। वित्त वर्ष 2024 में पीएनबी ने 8245 करोड़ रुपये की सालाना शुद्ध आया अर्जित की है जो पिछले वर्ष के 2507 करोड़ रुपये की तुलना में 228.8 फीसदी अधिक है। 

गुरुवार को नई दिल्ली में बैंक के वित्तीय परिणाम का एलान करते हुए बैंक के प्रबंध निदेशक एवं सीईओ श्री अतुल कुमार गोयल ने बताया कि वित्त वर्ष 2024 में बचत खाते में जमाराशियां वर्ष दर वर्ष आधार पर 3.5 फीसदी बढ़कर 480298 करोड़ रुपये हो गयी जबकि तिमाही आधार पर चालू खाता जमा मार्च 2024 में 3565 करोड़ रुपये बढ़कर कुल 72201 करोड़ रुपये हो गया है। मार्च 2024 में बैंक का कुल रिटेल क्रेडिट 12.6 फीसदी बढ़कर 222574 करोड़ रुपये हो गया। 

वित्त वर्ष 2024 में पीएनबी का आवास ऋण 14.5 फीसदी बढ़कर 93694 करोड़ रुपये, वाहन ऋण 25.6 फीसदी बढ़कर 20692 करोड़ रुपये और वैयक्ति ऋण 14.4 फीसदी बढ़कर 20766 करोड़ रुपये हो गया है। बैंक का कृषि ऋण वर्ष दर वर्ष आधार पर 11.3 फीसदी बढ़कर 158188 करोड़ रुपये हो गया तो एमएसएमई अग्रिम वर्ष दर वर्ष आधार पर 7 फीसदी बढ़कर 139288 करोड़ रुपये हो गया है। बैंक का सकल एनपीए वित्त वर्ष 2024 में 20985 करोड़ रुपये घटकर 56343 करोड़ रुपये रह गया है। वित्त वर्ष 2023 में यह 77328 करोड़ रुपये था। शुद्ध एनपीए भी मार्च 2023 के 15786 करोड़ रुपये की तुलना में गिरकर मार्च 2024 में 6799 करोड़ रुपये हो गया है।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम