Skip to main content

कॉमेडके - कर्नाटक की प्रमुख इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन खुले

कॉमेडके - कर्नाटक की प्रमुख इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन खुले

लखनऊ ।  पिछले पांच दशकों में, कर्नाटक उच्च शिक्षा के क्षेत्र में एक स्तंभ के रूप में खड़ा रहा है।  इंजीनियरिंग में अपना करियर बनाने की ख्वाहिश रखने वालों के लिए यह हमेशा से पसंदीदा जगह बना हुआ है। इसकी वजह हैं इसके विविधतापूर्ण कॉलेजों की लम्बी श्रृंखला, शानदार शैक्षणिक सुविधाएं और ग्रेजुएशन के बाद ऊंची जॉब प्लेसमेंट दर का शानदार ट्रैक रिकॉर्ड। उच्च शिक्षा के प्रति राज्य की प्रतिबद्धता ने कुशल पेशेवरों का एक बड़ा पूल तैयार किया है, जिसने वैश्विक स्तर पर महत्वपूर्ण मांग को अपनी तरफ आकर्षित किया है। कॉमेडके यूजीईटी और यूनीगेजप्रवेश परीक्षा रविवार, 12 मई, 2024 को एक संयुक्त परीक्षा के रूप में आयोजित होने वाली है, जिसमें क्रमशः कर्नाटक के 150 से अधिक इंजीनियरिंग कॉलेजों और भारत भर के 50+ से अधिक प्रतिष्ठित निजी और डीम्ड विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन किया जा सकता है। यह एकीकृत परीक्षा कर्नाटक अनएडिड प्राइवेट इंजीनियरिंग कॉलेज एसोसिएशन (कुपेका) और यूनीगेजसदस्य विश्वविद्यालयों से जुड़े कॉलेजों के लिए विशेष रूप से तैयार की गई है, जो बीई/बीटेक कार्यक्रम प्रदान करते हैं। ऑनलाइन परीक्षा भारत के 200 से अधिक शहरों में 400 से अधिक परीक्षा केंद्रों पर आयोजित की जाएगी। इस वर्ष, उसे उम्मीद है कि 1,00,000 से अधिक छात्र परीक्षा में शामिल होंगे। पूरे भारत से उम्मीदवार परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं।

अभ्यर्थी www.comedk.org या www.unigauge.com पर पंजीकरण कर सकते हैं। आवेदन प्रक्रिया 1 फरवरी, 2024 से 5 अप्रैल, 2024 तक ऑनलाइन खुली है।

2022 में, कॉमेडके ने कॉमेडके केयर्स इनोवेशन हब की शुरुआत की, जिसका उद्देश्य भाग लेने वाले संस्थानों के छात्रों को कौशल वृद्धि पाठ्यक्रमों के माध्यम से वर्कफोर्स के लिए तैयार करना था। कर्नाटक भर में आठ इनोवेशन हब स्थापित किए गए हैं, जिनमें से चार बेंगलुरु में और अन्य मैसूरु, कालाबुरागी, मैंगलोर और बेलगाम में स्थित हैं। ये अत्याधुनिक केंद्र, 5000 वर्ग फुट से अधिक में फैले हुए हैं है, लकड़ी के राउटिंग, लेजर कटिंग, 3डी प्रिंटर, एआर-वीआर उपकरण, हाथ उपकरण, कंप्यूटर सॉफ्टवेयर, युआई-यूएक्स उपकरण आदि जैसे उन्नत उपकरणों से लैस हैं। इनोवेशन हब रैपिड प्रोटोटाइपिंग, रोबोटिक्स, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग और इंटरनेट ऑफ थिंग्स ( आईओटी) में कार्यक्रम प्रदान करते हैं। कर्नाटक कॉमेडके द्वारा इस शानदार पहल के माध्यम से निजी इंजीनियरिंग कॉलेजों में कौशल के आधार पर प्रशिक्षण शुरू करने वाला पहला राज्य है। 

कॉमेडके के एग्जीक्यूटिव सेक्रेटरी डॉ. कुमार ने कहा, "कॉमेडके में, हम इस विश्वास को मजबूत बनाते हैं कि एक छात्र की योग्यता और रुचि उसकी शैक्षिक यात्रा के लिए एकमात्र मार्गदर्शक कारक होने चाहिए। हमारी प्रवेश परीक्षा, कॉमेडके UGET, परीक्षण प्रक्रिया में निष्पक्षता और वस्तुनिष्ठता के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का प्रमाण है। "हमारी प्रवेश परीक्षा, कॉमेडके UGET, परीक्षा प्रक्रिया में निष्पक्षता और वस्तुनिष्ठता के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का प्रमाण है। 150 से ज्यादा शीर्ष महाविद्यालय UGET के माध्यम से छात्रों को प्रवेश देते हैं, और हमें उन्हें युवा प्रतिभाओं से जोड़ने के लिए एक समान, समावेशी और गैर-शोषणकारी मंच प्रदान करने पर गर्व है।"

ईआरए फाउंडेशन के सीईओ श्री पी. मुरलीधर कहते हैं, "“हमारा दृढ़ विश्वास है कि कि किसी छात्र की योग्यता और रुचि ही आगे की पढ़ाई के लिए संस्थान चुनने का एकमात्र मापदंड होना चाहिए। यूनीगेजको एक परीक्षक के रूप में निष्पक्षता और वस्तुनिष्ठता के उच्चतम मानकों का पालन करने के लिए सावधानीपूर्वक तैयार किया गया है। हम आने वाले कल के वर्कफोर्स के समग्र विकास में अपने योगदान पर गर्व करते हैं। '' आवेदन और परीक्षा प्रक्रिया पूरी तरह ऑनलाइन होगी। ऑनलाइन परीक्षा और आवेदन प्रक्रिया पर एक विस्तृत प्रक्रिया दिशानिर्देश छात्रों को www.कॉमेडके.org या www.unigauge.com पर उपलब्ध कराया गया है।

कृपया ध्यान दें: https://www.comedk.org/ और www.unigauge.com क्रमशः कॉमेडके और Uni GAUGE की एकमात्र आधिकारिक वेबसाइट हैं। छात्रों और अभिभावकों से अनुरोध है कि वे अत्यधिक सावधानी बरतें और जानकारी अपडेट और आवेदन प्रक्रिया के लिए केवल आधिकारिक वेबसाइट का ही उपयोग करें।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम