Skip to main content

पाचन स्वास्थ्य बेहतर बनाने के लिए कोर्स तैयार: लॉन्गटर्म में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल

पाचन स्वास्थ्य बेहतर बनाने के लिए कोर्स तैयार: लॉन्गटर्म में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल 

  • स्वास्थ्य अच्छा बनाये रखने के लिए जरूरी उपाय

लखनऊ , 5 मार्च 2024: वर्तमान समय में पेट के स्वास्थ्य को लोग ज्यादा तवज्जो दे रहे हैं इसलिए लोग अपने पाचन स्वास्थ्य को बेहतर रखने के लिए तमाम उपाय कर रहे हैं। लोग पाचन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए व्यावहारिक मार्गदर्शन की तलाश कर रहे हैं। शरीर के स्वस्थ रहने में आंत का स्वस्थ रहना बहुत जरूरी होता है इसलिए एक्सपर्ट लॉन्ग टर्म में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्वास्थ्य को मजबूत करने वाली रणनीतियों और उपायों को अपनाने के महत्व पर जोर देते हैं।

पाचन स्वास्थ्य के अच्छे होने में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम के अन्दर कई फैक्टर्स यानी कारक शामिल होते हैं। इन कारकों में पाचन, माइक्रोबायोम संतुलन, इम्यून फंक्शन (प्रतिरक्षा कार्य) और भावनात्मक स्वास्थ्य शामिल होता हैं। एक अच्छा आंत का वातावरण न केवल कुशल पाचन और पोषक तत्वों के अवशोषण की सुविधा देता है, बल्कि इम्यून रिस्पोंस (प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया) मॉड्यूलेशन और मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

रीजेंसी हेल्थकेयर में सीनियर कंसल्टेंट गैस्ट्रोएंटरोलॉजी डॉ. प्रवीण झा ने पाचन स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने के लिए आवश्यक दृष्टिकोण पर जोर देते हैं। वह इस बात पर कहते हैं, “हमारे समग्र स्वास्थ्य पर आंत के स्वास्थ्य के गहरे प्रभाव को समझना एक स्वस्थ, ज्यादा संतुलित लाइफस्टाइल को बढ़ावा देने की कुंजी है। एक अच्छी तरह से पोषित आंत हमारे शरीर के लचीलेपन की आधारशिला के रूप में कार्य करती है, जो पाचन में सुधार, इम्यूनिटी को मजबूत करने, मानसिक स्पष्टता बढ़ाने और ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने में योगदान करती है। पाचन स्वास्थ्य को प्राथमिकता देने वाली रणनीतियों को अपनाने से, हम न केवल अपने शारीरिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाते हैं बल्कि जीवन शक्ति की भावना भी विकसित करते हैं जो हमारे जीवन के हर पहलू में व्याप्त है।

वैज्ञानिक सुझाव और साक्ष्य-आधारित उपायों के आधार पर व्यक्ति अपने पेट के स्वास्थ्य को स्वाभाविक रूप से बढ़ाने के लिए सक्रिय उपाय अपना सकते हैं। पाचन कल्याण को नेविगेट करने के लिए यहां 6 प्रमुख रणनीतियों दी गई हैं: पोषक तत्वों से भरपूर डाइट खाएं: आंत के माइक्रोबायोटा को पोषण देने और पाचन स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए फल, सब्जियां, साबुत अनाज, दही और किण्वित खाद्य पदार्थों सहित फाइबर युक्त और प्रोबायोटिक-पैक खाद्य पदार्थों को खाएं।

नियमित एक्सरसाइज़ करें: आंत बैक्टीरिया विविधता को प्रोत्साहित करने और समग्र कल्याण को बढ़ावा देने के लिए लगातार शारीरिक गतिविधि करें। रोज में मध्यम तीव्रता वाली एक्सरसाइज करने से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल फंक्शन और मेटाबोलिज्म स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है।

शराब का सेवन कम करें या न करें: आंत माइक्रोबायोटा संरचना और आंतों की सूजन पर संभावित नकारात्मक प्रभावों को कम करने के लिए शराब का सेवन करें। शराब का सेवन कम करने या न करने से पाचन बेहतर हो जाता है और गैस्ट्रोएंटरोलॉजी डिसऑर्डर का खतरा कम हो जाता है। स्ट्रेस मैनेजमेंट: मनोवैज्ञानिक तनाव को कम करने और आंत-मस्तिष्क के बीच सामंजस्य बनाए रखने के लिए तनाव कम करने की तकनीकें जैसे माइंडफुलनेस, रिलैक्सेशन एक्सरसाइज और नियमित शारीरिक गतिविधि करें। तनाव के स्तर को बेहतर तरीके से मैनेज करने से आंत का कार्य और भावनात्मक लचीलेपन में योगदान देता है।

प्रोबायोटिक सप्लीमेंटेशन: आंत के स्वास्थ्य को मजबूत करने के लिए प्रोबायोटिक सप्लीमेंटेशन को विशेष रूप से एंटीबायोटिक थेरेपी, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल डिसऑर्डर या इम्यून सिस्टम सपोर्ट से जुड़े परिदृश्यों में कंप्लीमेंटरी एप्रोच (पूरक दृष्टिकोण) के रूप में मानें। जिन प्रोबायोटिक स्ट्रेंस की प्रभाविकता सिद्ध हो चुकी हो उसे चुने और रिकमेंडेड डोज का पालन करना पाचन के स्वास्थ्य को बेहतर बना सकता है।

पर्याप्त हाइड्रेशन बनाए रखें: पाचन स्वास्थ्य के लिए उचित हाइड्रेशन बहुत जरूरी होता है क्योंकि यह आंतों की म्यूकोसल लाइनिंग को बनाए रखने में मदद करता है, पोषक तत्वों के अवशोषण में मदद करता है और पाचन अच्छे से करने की सहूलियत देता है। पूरे दिन पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से संपूर्ण गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल फ़ंक्शन को बढ़ावा मिलता है। इन उपरोक्त साक्ष्य-आधारित रणनीतियों को अपनाकर व्यक्ति पाचन स्वास्थ्य को बेहतर करने की दिशा में सकारात्मक कदम उठा सकते हैं और अंदर से लचीलापन और जीवन शक्ति को बढ़ावा दे सकते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम