Skip to main content

फार्मेसिस्ट अधिकार दिवस मनाया गया

फार्मेसिस्ट अधिकार दिवस मनाया गया

LUCKNOW. यूथ फार्मेसिस्ट फेडरेशन का द्वितीय स्थापना दिवस मनाया गया, अपने अधिकारों के साथ अपने ज्ञान को भी अपडेट करेंगे फार्मासिस्ट, इस हेतु लगातार सतत शिक्षा कार्यक्रम भी चलाया जाएगा, उक्त बातें आज यूथ फार्मासिस्ट फेडरेशन की स्थापना दिवस के अवसर पर फार्मासिस्ट अधिकार दिवस को संबोधित करते हुए फार्मासिस्ट फेडरेशन के अध्यक्ष सुनील यादव ने कहीं गांव के गरीबों के लिए भगवान के रूप होते हैं फार्मासिस्ट गरीब व्यक्ति अस्पतालों में जाकर फार्मेसी से मिलता है और उनसे स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करता है इसलिए उन्हें उनका अधिकार मिलना ही चाहिए यह बातें आज पूर्व विधायक लालजी यादव ने सभा को संबोधित हुए करते हुए कही ।

विशिष्ट अतिथि के रूप में कार्यक्रम में सम्मिलित शिक्षक सभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ मणिंद्र मिश्रा ने कहा कि विदेश के बाद देश में भी फार्मासिस्टों को सम्मान मिलना चाहिए उन्होंने कहा कि देश में फार्मेसी शिक्षा बहुत विकसित हो रही है लेकिन उसका उपयोग जनता को भी उतना नहीं मिल पा रहा है । यूथ फार्मेसिस्ट फेडरेशन के संरक्षक उपेंद्र यादव एवं प्रदेश अध्यक्ष आदेश कृष्ण ने बताया कि  फार्मेसिस्ट फेडरेशन के आह्वान पर आज  'फार्मेसिस्ट अधिकार दिवस ' मनाया गया, जिसमें सभी विधाओं के फार्मेसिस्ट, शिक्षक एवं फार्मेसी छात्रों ने अपने अधिकारों पर चर्चा की । इस अवसर पर फेडरेशन की यूथ विंग का द्वितीय स्थापना दिवस मनाया गया । 

इस अवसर पर पूरे प्रदेश में आज फेडरेशन के अध्यक्ष सुनील यादव का जन्मदिन भी धूमधाम से मनाया गया । फेडरेशन की केंद्रीय कार्यकारिणी द्वारा इस वर्ष का विषय "फार्मेसिस्टो को मिले प्राथमिक उपचार का प्रिस्क्रिप्शन राइट" निर्धारित किया गया था  । 

कार्यक्रम में फार्मेसी व्यवसाय के महत्व को बढ़ाने, रोजगार सृजन सहित अनेक सामयिक बिंदुओं पर  चर्चा किया गया और प्रस्ताव पारित कर माननीय मुख्यमंत्री जी को ज्ञापन प्रेषित किया गया । फेडरेशन के संयोजक के के सचान,ने  फार्मासिस्टों को लगातार अपग्रेड करने की बात कही रिटायर विंग के अध्यक्ष जय सिंह सचान ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की सचिव ओपी सिंह राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के प्रदेश सचिव डॉक्टर पी के सिंह जनपद अध्यक्ष सुभाष श्रीवास्तव महामंत्री अशोक कुमार ने कार्यक्रम को संबोधित किया और सभी यूथ फार्मासिस्टों को लगातार सक्रिय रहकर संघर्ष करने का आवाहन किया  फेडरेशन के उपाध्यक्ष देवेंद्र , संगठन मंत्री अफजल, मंडल अध्यक्ष अनिल दुबे ने बताया कि फार्मेसिस्टों की योग्यता के अनुसार कुछ अन्य राज्यों की भांति उत्तर प्रदेश में भी कुछ दवाएं लिखने का अधिकार दिया जाना उचित है, कई विकसित देशों में भी ऐसा प्राविधान किया गया है । इससे गांवों में जहां योग्य चिकित्सकों का अभाव हैं, वहां मरीजों की प्राथमिक चिकित्सा कर सही सलाह दी जा सकेगी और दवाओं के कुप्रभाव, रोगों की विकरालता को रोककर जनहानि को रोका जा सकता है क्योंकि फार्मेसिस्टों को क्रूड ड्रग, शरीर क्रिया विज्ञान, फार्माकोलॉजी, विष विज्ञान,  माइक्रोबायोलॉजी सहित फार्मास्युटिक्स, फार्मास्यूटिकल केमिस्ट्री, हेल्थ एजुकेशन सहित विभिन्न विषयों का विस्तृत अध्ययन फार्मेसिस्ट को कराया जाता है। औषधि की खोज से लेकर, उसके निर्माण,भंडारण, प्रयोग , कुप्रभाव, दवा को ग्रहण करने, उसके पाचन, प्रभाव और उत्सर्जन (ADME) की पूरी जानकारी फार्मेसिस्ट को होती है ।

उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिला चिकित्सालयो एवं महिला चिकित्सालयो को एक साथ मिलाकर उन्हें मेडिकल कॉलेज बनाये जाते समय वहां पर पूर्व से कार्यरत सभी कर्मचारियों को धीरे-धीरे कार्यमुक्त कर चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग को भेजा जा रहा है । पदों का समायोजन ना होने से अनेक पद समाप्त हो जा रहे हैं, वहीं उच्च संवर्गीय पदोन्नति के पद भी समाप्त हो रहे हैं, जिससे पदोन्नतिया बाधित होंगी । फार्मासिस्ट संवर्ग में प्रभारी अधिकारी फार्मेसी के पद जिला चिकित्सालयों में ही सृजित है, वहीं चीफ फार्मेसिस्ट के ज्यादातर पदों को जिला और महिला चिकित्सालयों में स्थापित किया गया है, इन परिस्थितियों में यह सभी पद समाप्त हो जाएंगे, जिससे कार्मिक नीचे के पदों से ही सेवानिवृत्त होने लगेंगे ।

फेडरेशन ने अनुरोध किया है कि  मेडिकल कॉलेज बनते समय जिला चिकित्सालय एवं महिला चिकित्सालय को संबद्ध चिकित्सालय का दर्जा दिया जाए एवं कार्मिकों को पूर्ववत बने रहने दिया जाए । यदि यह संभव नहीं हो पा रहा है तो कार्मिकों को कार्यमुक्त करते समय उन्हें पद सहित चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग में भेजा जाए जिससे उनका समायोजन तत्काल हो सके और कार्मिकों को परेशानी का सामना ना करना पड़े ।

केंद्र सरकार की भांति उत्तर प्रदेश सरकार में फार्मेसिस्ट पद पर नियुक्ति हेतु न्यूनतम योग्यता ' डिप्लोमा इन फार्मेसी + 2 वर्ष का अनुभव या बैचलर फार्मेसी ' निर्धारित किए जाने, फार्मेसिस्ट की शैक्षिक योग्यता को देखते हुए नेशनल हेल्थ पॉलिसी के पैरा 3.3.1  और 11.4 के अनुसार सी एच ओ के पदों पर फार्मेसिस्टों की भी तैनाती किए जाने, वेटनरी फार्मेसिस्ट सेवा नियमावली प्रख्यापित कर शासनदेशानुसार  फार्मेसिस्ट की नियुक्तियां किए जाने, आयुर्वेद की दवाओं के भंडारण वितरण के लिए भी फार्मेसिस्ट की अनिवार्यता, दवा कंपनियों में केमिस्ट के पद पर केवल फार्मेसिस्ट की नियुक्तियां अनिवार्य किए जाने, मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव के लिए फार्मेसिस्ट को वरीयता, फार्मेसी शिक्षको का न्यूनतम वेतन निर्धारण सरकारी शिक्षको के समान करने,

मेडिकल स्टोरों पर फार्मेसिस्ट का न्यूनतम मानदेय निर्धारित करने, लाखो बेरोजगार फार्मेसिस्टों के लिए रोजगार का सृजन करने हेतु मुख्यमंत्री जी से अनुरोध किया गया। अधिकार दिवस के अवसर पर एक्स-राय टेक्निशियन संघ के अध्यक्ष राम मनोहर कुशवाहा महामंत्री दिलीप कुमार, आर के पी सिंह ने भी अपने विचार रखें अपने विचार रखे । जिले की समस्याओं पर विचार किया गया । जनपद की टीम ने निर्णय लिया कि स्थानीय ड्रग इंस्पेक्टर, ड्रग लाइसेंसिंग अथॉरिटी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी और जिलाधिकारी ने नियमित संपर्क कर फार्मेसिस्ट की समस्याओं का समाधान कराया जाएगा । कार्यक्रम को मुख्य रूप से डॉ हरद्वारी लाल राज, संविदा संघ के अध्यक्ष प्रवीण कुमार महामंत्री रामशरण राहुल देव मौर्य अमरेश श्रीवास्तव अजीत यादव, Dr शालिनी, आदि ने संबोधित किया

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम