Skip to main content

डॉ. शुजाअत अली संडीलवी सिप्हरे शराफ़त के बद्रे मुनीर थे: प्रो. अनीस अशफ़ाक़

डॉ. शुजाअत अली संडीलवी सिप्हरे शराफ़त के बद्रे मुनीर थे: प्रो. अनीस अशफ़ाक़

  • डॉ. शुजाअत अली संडीलवी एक नेक इंसान और अखलाक का पैकर थे: प्रोफेसर क़मर जहां

 लखनऊ 15 अक्टूबर:  उस्तादे मोहतरम  डॉ. शुजाअत अली संडीलवी एक नेक इंसान, सदाचारी और अखलाक का पैकर   थे।  वह अपने छात्रों के प्रति दयालु और सम्मानजनक होने के साथ-साथ सहानुभूतिशील भी थे और उनके दर्द और समस्याओं को सुनते थे और उन्हें हल करने की पूरी कोशिश करते थे।  शिक्षण-अध्यापन के क्षेत्र में उच्च सिद्धांतों का पालन करने के कारण उन्हें समाज के हर वर्ग में आदर और सम्मान प्राप्त हुआ।  डॉ. शुजात अली संडेलवी के बारे में ये विचार एमेरिटस प्रोफेसर और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, उर्दू विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर एमेरिटस प्रोफेसर कमर जहां ने व्यक्त किए।  डॉ. शुजाअत अली संडीलवी मेमोरियल सोसायटी और फखरुद्दीन अली अहमद मेमोरियल कमेटी उत्तर प्रदेश सरकार के सहयोग से भारतीय भाषा उत्सव के तहत "डॉ. शुजाअत अली संडीलवी व्यक्तित्व एवं कृतित्व" विषयक सेमिनार की अध्यक्षता करते हुए प्रोफेसर कमर जहां ने आगे कहा कि शुजात अली संडीलवी की शिक्षाएं उन्होंने उन्होंने खुद को पढ़ाने तक ही सीमित नहीं रखा, बल्कि कलम के इस्तेमाल से अपने विशाल ज्ञान को अखबार के पन्नों पर उतार दिया कि कई उपयोगी और ज्ञानवर्धक लेख सामने आये।  मुझे उनकी छात्रा होने का सदैव गर्व रहेगा।

इससे पहले कार्यक्रम की शुरुआत पवित्र कुरान की तिलावत से हुई।  मुमताज पीजी कॉलेज की छात्रा जाकिरा और छात्र अब्दुल अजीज ने क्रमश: डॉ. शुजात अली संडेलवी द्वारा लिखित हम्द और नात प्रस्तुत किया।  डॉ. शुजात अली संडीलवी मेमोरियल सोसायटी के अध्यक्ष सोहेल काकोरवी ने स्वागत भाषण दिया।

 सोसाइटी की मैनेजर डॉ. परवीन शुजाअत ने डॉ. शुजाअत अली संडीलवी मेमोरियल सोसाइटी के लक्ष्य और उद्देश्य प्रस्तुत किये।  इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में लखनऊ विश्वविद्यालय के उर्दू विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर अनीस अशफाक ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि डॉ. शुजात अली संडीलवी छात्रों में गैर महसूस रूप से बदलाव लाते थे।  उर्दू उनकी रग-रग में बसी थी ।  वे चाहते तो आसानी से सरकार से उच्च पद प्राप्त कर सकते थे, लेकिन उन्होंने ऐसा कोई पद स्वीकार नहीं किया और सदैव ज्ञान और कला की सेवा में समर्पित रहे।  यदि उनके व्यक्तित्व को एक वाक्य में वर्णित किया जा सकता है, तो वह सिप्हरे शराफ़त के बद्रे मुनीर थे । जामिया मिलिया इस्लामिया दिल्ली के पूर्व डीन प्रोफेसर वहाजुद्दीन अल्वी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि शुजाअत अली संडीलवी की शैक्षणिक और व्यावहारिक उपलब्धियों पर कई सेमिनारों की आवश्यकता है।  उन्हें अपनी उर्दू भाषा और अपनी किताबों से बहुत प्यार था।  शुजाअत अली संडीलवी मातृभाषा उर्दू के विकास, विस्तार और प्रचार के लिए व्यावहारिक प्रयासों में विश्वास करते थे। वह संडीला के थे।  जो अवध के शैक्षणिक एवं साहित्यिक माहौल का प्रतिनिधित्व करता है।  उनके व्यक्तित्व को समझने के लिए अवध को समझना जरूरी है।

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के मास कम्युनिकेशन विभाग के प्रोफेसर शाफे किदवई ने अपने विचार प्रस्तुत करते हुए कहा कि मैं उनका छात्र रहा हूं और उनकी शिक्षण शैली बहुत अनूठी थी।  उनके व्यक्तित्व का मुख्य संदर्भ बिंदु अपने छात्रों के प्रति उनकी अद्वितीय दयालुता और उस पर महारत हासिल करना था।  उन्होंने छात्रों के विकास और उनके व्यक्तित्व के विकास पर विशेष ध्यान दिया।  वह जीवन भर उर्दू के लिए सक्रिय रहे और अपनी भाषा के प्रति प्रेम की नई ऊंचाइयों की खोज करते रहे।

 अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के उर्दू विभाग से आए प्रोफेसर सैयद सिराजुद्दीन अजमली ने डॉ. शुजाअत अली संडीलवी की विद्वतापूर्ण अंतर्दृष्टि को स्वीकार किया और कहा कि शुजाअत अली संडीलवी और उर्दू का विकास दोनों लाज़िम और मल्ज़ूम हैं। उनकी विशेष उपलब्धि यह थी कि उन्होंने जेल में कैदियों को उर्दू से परिचित कराया।  अवध, संडीला, काकोरी और लखनऊ के महत्वपूर्ण क्षेत्र उनके शैक्षणिक और व्यावहारिक केंद्र थे। उनके स्वभाव में बड़प्पन का एक विशेष तत्व था जो उन्हें अन्य शिक्षकों और बुद्धिजीवियों के बीच एक विशिष्ट पहचान देता था।

 विशिष्ट वक्ता के रूप में जाने-माने पत्रकार एवं लेखक अहमद इब्राहिम अल्वी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि शुजाअत अली संडीलवी साहब उर्दू के मुजाहिद के नाम से जाने जायेंगे । वे उर्दू भाषा के विकास और उसके प्रचार-प्रसार के लिए जीवन भर सक्रिय रहे।  उर्दू प्रेम की भाषा है और शुजाअत साहब उसके दूत हैं।  यदि हम उनकी बौद्धिक विरासत के संरक्षक बन सकें तो यह बहुत अच्छा है।

 करामत हुसैन मुस्लिम गर्ल्स पीजी कॉलेज की पूर्व प्राचार्य डॉ. सबीहा अनवर ने कहा कि शुजाअत अली संडीलवी ने ख्वाजा अल्ताफ हुसैन हाली की शायरी को अपने शोध का विषय चुना।  हाली की मानसिकता और उसकी मानवता का सार उन्होंने अपने खुद में पाया ।  एक शिक्षक के रूप में शुजाअत अली संडीलवी हमेशा अपने छात्रों के संपर्क में रहते थे।  उर्दू का जुनून उनमें कूट-कूट कर भरा हुआ था ।  वह हमेशा एक व्यावहारिक व्यक्ति थे और कम बोलते थे और सबसे कम से कम शब्दों में अपनी बात बता देते थे, लेकिन जब सक्रिय रुप से काम करने की बात आती थी तो वह सबसे आगे रहने की कोशिश करते थे, चाहे वह उर्दू के लिए आंदोलन हो या उर्दू शिक्षण ।  हर जगह उन्होंने अपनी मौजूदगी साबित की.

 इस अवसर पर फखरुद्दीन अली अहमद मेमोरियल कमेटी के सचिव जनाब आदिल हसन, उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी के पूर्व सचिव जनाब एस रिजवान, सज्जादा नशीन ख़ानक़ाहे काजमिया शाह ऐनुल हैदर जिया मियां, जिया अल्वी, प्रो जमाल नुसरत, मोहसिन खान, डॉ. हुमा ख्वाजा, फिदा हुसैन अंसारी, डॉ. अतीक फारूकी, प्रो.वंदना मिश्रा, बेगम शाफे किदवई, बेगम वहाजुद्दीन अल्वी, संतोष कुमार बाल्मीकि, प्रो.रमेश दीक्षित, राजीव प्रकाश साहिर, परवेज मलिकजादा, डॉ. सरवत तकी, डॉ. अब्दुर्रहीम, डॉ. मदनी अंसारी, वकार अहसन और कई अन्य प्रतिष्ठित गणमान्य उपस्थित थे।

 कार्यक्रम का संचालन खुनखुनजी गिल्स पीजी कॉलेज के उर्दू विभाग की प्रोफेसर रेशमा परवीन ने किया।  युवा नाजिम असीम काकोरवी ने उनका बखूबी साथ दिया.  कार्यक्रम को सफल बनाने में डॉ. यासिर जमाल, मुहम्मद तौफीक और कैप्टन जीशान शकील समेत सोसायटी के सचिव मुहम्मद शकीलुद्दीन ने अपना सहयोग दिया।

 अंत में डॉ. शुजाअत अली संडीलवी के सुपुत्र सरवत परवेज़ ने सभी अतिथियों एवं उपस्थित लोगों को हृदय से धन्यवाद देते हुए कार्यक्रम की समाप्ति की घोषणा की।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम