Skip to main content

सेप्सिस के खिलाफ लड़ाई के लिये यह जरुरी है कि हम एण्टीबायोटिक्स का इस्तेमाल विवेकपूर्वक करें

सेप्सिस के खिलाफ लड़ाई के लिये यह जरुरी है कि हम एण्टीबायोटिक्स का इस्तेमाल विवेकपूर्वक करें

LUCKNOW, 13 SEP. 2023: सेप्सिस के खिलाफ लड़ाई के लिये यह जरुरी है कि हम एण्टीबायोटिक्स का इस्तेमाल विवेकपूर्वक करें। सही समय पर सही एण्टीबायोटिक्स का इस्तेमाल ही काफी नही है, अपितु यह भी जानना है कि उसका इस्तेमाल कब नहीं करना है। प्रो० (डा०) वेद प्रकाश

सेप्टिसीमिया का अर्थ है- खून में संक्रमण खून में संक्रमण की वजह से शरीर के विभिन्न अंगों में नुकसान होता है जिससे ब्लड प्रेशर में कमी, अंगो का निष्क्रिय होना (मल्टी ऑर्गन फेल्योर हो सकता है। अगर सही समय पर इसकी पहचान एवं उपचार ना किया जाये तो इससे मृत्यु भी हो सकती है।

महत्वपूर्ण तथ्य:-सेप्सिस सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है। प्रतिवर्ष 5 करोड़ लोग इससे ग्रसित होते है। इसमें 40 प्रतिशत मामले, 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में होते हैं। • पूरे विश्व में सेप्सिस के कारण प्रतिवर्ष लगभग 01 करोड़ 10 लाख लोगो की मृत्यु होती है। • दुनिया भर में 5 में से 1 मृत्यु सेप्सिस से होती है एवं अस्पतालों में होने वाली मृत्यु में सबसे बडा कारण सेप्सिस है। • सेप्सिस से सबसे ज्यादा मृत्यु बुजुर्ग एवं बच्चों में होती है। सेप्सिस के प्रमुख कारण है- निमोनिया, मूत्र मार्ग में संक्रमण, सर्जिकल साइट संक्रमण इत्यादि । सेप्सिस का जोखिम कैंसर डायबिटीज आदि जैसी प्रतिरक्षा तंत्र कम करने वाली बीमारियों के ग्रजित लोगों में सबसे ज्यादा होता है। भारत में एक वर्ष में लगभग 1 करोड़ 15 लाख लोग सेप्सिस से ग्रसित होते हैं एवं लगभग 30 लाख लोगों की मृत्यु इससे होती है। • भारत में सेप्सिस की मृत्यु दर प्रति लाख व्यक्ति है। • एक अध्ययन के हिसाब से आई0सी0यू0 में 50 प्रतिशत से ज्यादा व्यक्ति सेप्सिस से ग्रसित रहते हैं जिसमें 45 प्रतिशत मामलें मल्टी ड्रग रेजिस्टेन्ट बैक्टीरिया के होते हैं।

सेप्सिस के के कारण :-यह विभिन्न कारणो से होती है:- बैक्टीरिया से होने वाला संक्रमण यह सेप्सिस का सबसे प्रमुख कारण है। यह विभिन्न प्रकार से हो सकता है, जैसे फेफड़ों का संक्रमण (निमोनिया), पेशाब के रास्ते का संक्रमण (यू०टी०आई०). त्वचा एवं अन्य अंगों का संक्रमण इत्यादि वायरल संक्रमण इसके उदाहरणों में पलू (इन्फ्लूएजा), एच०आई०बी०, कोविड डेंगू वायरस इत्यादि फंगस संक्रमण यह मुख्यतः ऐसे व्यक्तियों में होता है जिनकी प्रतिरोधक क्षमता कम होती है। इसके उदारण कैन्डिडा, एस्पराजिलस इत्यादि है। परजीवी संक्रमण:- उदाहरण मलेरिया इत्यादि ।

अस्पताल से प्राप्त संक्रमण : यह संक्रमण समुदाय से प्राप्त संक्रमण की तुलना में बहुत खतरनाक होता है। इसमें कैथेटर से होने वाले संक्रमण (जैसे यूरो कैथेटर सेन्ट्रल लाइन का संक्रमण). - पेन्टीलेटर से होने वाला संक्रमण इत्यादि आता है। मरीजों की अन्य बीमारिया जिससे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता घट जाती है, जैसे- डायबिटीज, कैंसर, सी०ओ०पी०डी० इत्यादि बीमारियों में सेप्सिस का खतरा काफी बढ़ जाता है। • एन्जीबायोटिक्स का सही तरह से इस्तेमाल ना करना या बिना डाक्टर सलाह के एन्टीबायोटिक्स का इस्तेमाल करना, सेप्सिस को बढ़ा सकता है।

सेप्सिस की बीमारी का पता लगाना - विभिन्न प्रकार की खून की जाँचों जैसे (सी०बी०सी० सी०आर०पी० पी०सी०टी० इत्यादि) एवं चिकित्सकीय परीक्षण करके इसका पता लगाया जा सकता है एवं बीमारी का सही तरह से ऑकलन करके उसका समय रहते समुचित इलाज दिया जा सकता है।

सेप्सिस का इलाज- जैसा कहा जाता शीघ्र पहचान तो सटीक इलाज" सेप्सिस के इलाज का मूल तंत्र यही है। अगर इसको शीघ्रता से पहचान लिया जाये एवं सही तरह से ऑकलन कर लिया जाये तो इसे नियंत्रित किया जा सकता है और समय रहते मरीज का जान बचाई जा सकती है। इसके इलाज के मुख्य बिन्दु निम्नलिखित है- 

संक्रमण स्रोत को नियंत्रित करना। ब्लड प्रेशर को नियमित रेंज में रखना इसके लिये कम बी०पी० को बढाने की दवाओं के साथ-साथ, फ्लूड का इस्तेमाल किया जाता है। एण्टीबायोटिक्स का सही एवं शीघ्र चुनाव एवं उनका समुचित कोर्स के तहत इस्तेमाल। वाइटल्स जैसे बी०पी० / पल्स / ऑसीजन की अच्छी मॉनिटरिंग । ऑक्सीजन थेरेपी आर्गन सपोर्ट जैसे कि गुर्दे की खराबी होने पर डायलिसिस, फेफडे को ऑक्सीजन देने वेन्टीलेटर इत्यादि । शुगर का समुचित रूप से नियमित रखना। सेप्सिस के इलाज के लिये एक समान्वित एवं साक्ष्य आधारित दृष्टिकोण तथा इलाज की जरूरत होती है। सेप्सिस की रोकथाम के लिये सबसे जरूरी यह है कि जनमानस को सेप्सिस के प्रारम्भिक लक्षणों के बारे में जागरुक किया जाये। सभी लोग अपने स्वास्थ्य को अपने दैनिक और व्यवसायिक कार्यों से ज्यादा महत्व दें एवं अपने शरीर की प्रतिरक्षा तंत्र को बढ़ाने के लिये संतुलित आहार, व्यायाम एवं साफ सफाई का ध्यान रखें। अपने वातावरण को साफ सुथरा बनाकर रखें। बिना किसी योग्य चिकित्सक की सलाह के बिना किसी भी तरह की एण्टीबायोटिक्स का इस्तेमाल ना करें। विवकेपूर्ण एण्टीबायोटिक्स के इस्तेमाल ना करने से मल्टी ड्रग रेसिस्टेन्ट बैक्टीरिया से इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता जाता है, जो कि सेप्सिस को उच्च स्तर तक पहुँचा कर शरीर को गम्भीर स्थिति में लाने के लिये काफी है।

पल्मोनरी एवं क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग द्वारा इस महत्त्वपूर्ण विषय पर आधारित सेप्सिस अपडेट 2023 का आयोजन करने पर हमें गर्व की अनुभूति हो रही है। इस एक दिवसीय कार्यक्रम में सेप्सिस के लिये जागरूकता फैलाने का प्रयास किया जायेगा एवं साथ ही चिकित्सकों को सेप्सिस की सभी पहलुओं पर विस्तृत चर्चा करके इस बीमारी के प्रति ज्ञान वर्धन किया जायेगा।

डा० वेद प्रकाश, प्रोफेसर एवं विभागाध्यक्ष पल्मोनरी एवं किटिकल केयर मेडिसिन

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम