Skip to main content

क्या निकोटीन कैंसर का मुख्य कारण है?

क्या निकोटीन कैंसर का मुख्य कारण है? 

  • अक्सर यह निष्कर्ष निकाल लिया जाता है कि निकोटीन केवल तम्बाकू में पाया जाता है, और इससे कैंसर होता है। लेकिन क्या यह सच है?

लखनऊ, निकोटीन एक प्राकृतिक तत्व है जो कई पौधों, मुख्यतः तंबाकू में पाया जाता है। तम्बाकू चबाए जाने या धूम्रपान से उत्पन्न होने वाला सुकून निकोटीन की वजह से मिलता है। निकोटीन नाम पुर्तगाल में पाये जाने वाले तम्बाकू के पौधे निकोटियाना टैबैकम के नाम पर पड़ा है। पुर्तगाल में फ्रांस के राजदूत जीन निकोट डे विलेमेन ने 1560 में तंबाकू के पौधे फ्रांस भेजे और औषधीय पौधों के रूप में उनका प्रचार किया। इसी दौरान ऐसा सोचा गया कि धूम्रपान द्वारा कई बीमारियों मुख्यतः प्लेग से बचाव हो सकता है।इसके लगभग तीन सौ सालों के बाद सन 1828 में दो जर्मन केमिस्ट्स, विल्हेम हेनरिक पोसेल्ट और कार्ल लुडविग रीमैन ने तंबाकू के पौधों से पहली बार निकोटीन निकाला। 1893 में एडोल्फ पिनर और रिचर्ड वोल्फेंस्टीन ने निकोटीन की रासायनिक संरचना पहचानी और बताया कि यह सामान्य तापमान पर तरल अवस्था में रहता है और पानी में घुलनशील है। 20वीं सदी तक शरीर, मुख्यतः सेंट्रल नर्वस सिस्टम पर निकोटीन के प्रभावों के लिए कई अध्ययन किए जा चुके थे। धूम्रपान के दौरान निकोटीन सिगरेट के धुएँ के साथ फेफड़ों में चला जाता है। शरीर में प्रवेश करने के बाद यह निकोटीन सर्क्युलेटरी सिस्टम में पहुँच जाता है, और फिर 20 सेकंड के भीतर ही मस्तिष्क तक पहुंच जाता है, जिससे नसों में उत्तेजना उत्पन्न होती है, और आनंद का अनुभव प्राप्त होता है।क्लिनिकल अध्ययनों ने प्रदर्शित किया है कि निकोटीन का फाइन मोटर, अल्पकालिक एपिसोडिक मैमोरी और वर्किंग मैमोरी की परफ़ॉर्मेंस पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

निकोटीन युक्त उत्पादों का उपयोग परफ़ॉर्मेंस व चेतनता बढ़ाने, और चिंता, तनाव या अवसाद को कम करने के लिए भी किया जाता है। कई लोगों का मानना है कि तम्बाकू में मौजूद निकोटीन से कैंसर होता है। लेकिन धूम्रपान से होने वाला कैंसर निकोटीन की वजह से नहीं होता है, बल्कि सिगरेट को जलाने से निकलने वाले धुएं के कारण होता है। सिगरेट के धुएं में 7,000 से ज़्यादा कैमिकल्स होते हैं। इनमें से कम से कम 250 कैमिकल्स, जैसे हाइड्रोजन साइनाइड, कार्बन मोनोऑक्साइड और अमोनिया स्वास्थ्य के लिए नुक़सानदायक होते हैं। इनमें से कुछ पदार्थ तम्बाकू के पौधे में प्राकृतिक रूप से पाए जाते हैं, लेकिन ज़्यादातर हानिकारक पदार्थ केवल सिगरेट को जलाने पर ही बनते हैं।

इन नुक़सानदायक पदार्थों में कम से कम 69 पदार्थों से कैंसर हो सकता है, जिनमें मुख्य रूप से सिगरेट के धुएं में पाये जाने वाले एसिटेल्डिहाइड, एरोमैटिक एमाइन, आर्सेनिक, बेंजीन, बेरिलियम, 1,3-ब्यूटाडीन आदि शामिल हैं... ख़ासकर बेंजोपाइरीन और आर्सेनिक ने प्रायोगिक अध्ययनों में कैंसर करने की 100% क्षमता प्रदर्शित की। उपरोक्त टॉक्सिन मानवों को होने वाले कैंसर का मुख्य कारण हैं। कैंसर के सबसे आम रूप फेफड़े, ओरल कैविटी, निचले फ़ैरिंक्स, लैरिंक्स, एसोफेगस, ब्लैडर, किडनी, लिवर, बिलियरी ट्रैक्ट, पैंक्रियाज, पेट, कोलोरेक्टल के कैंसर हैं...

यूरोप में प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक़ सेकंडहैंड धूम्रपान की वजह से फेफड़ों के कैंसर के लगभग 82% मामले होते हैं। धुएं में मौजूद टॉक्सिन कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम, एथेरोस्क्लेरोसिस को भी क्षति पहुंचाते हैं, और कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों का खतरा लगभग 25 से 30% बढ़ा देते हैं। इनसे स्ट्रोक का खतरा 20 से 30% बढ़ जाता है। कैंसर और कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों के अलावा धूम्रपान से क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिज़ीज़, डायबिटीज़, ऑस्टियोपोरोसिस, रूमेटॉयड आर्थराइटिस, मैक्यूलर डिजनरेशन, मोतियाबिंद और गंभीर अस्थमा भी हो सकते हैं...

निकोटीन से सीधे कैंसर नहीं होता, लेकिन निकोटीन की लत पद जाती है, जिसकी वजह से व्यक्ति तंबाकू जलाने से निकलने वाले सिगरेट के धुएँ में पाये जाने वाले नुक़सानदायक पदार्थों के संपर्क में आता है। इसलिए तंबाकू के सुरक्षित विकल्पों में निकोटीन की काफ़ी कम मात्रा का उपयोग किया जाता है, ताकि धूम्रपान करने वालों को निकोटीन की कम ज़रूरत पड़े और वो सिगरेट के धुएं में पाये जाने वाले कार्सिनोजेन और अन्य नुक़सानदायक पदार्थों के संपर्क में ना आएँ। निकोटीन रिप्लेसमेंट थेरेपी, जैसे कि गम, पैच, लोजेंज, इन्हेलर, नैसल स्प्रे आदि 2009 से आवश्यक दवाओं की डब्ल्यूएचओ मॉडल सूची में मौजूद हैं।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम