Skip to main content

सत्येंद्र सिंह व श्रुति रॉय की फिल्म "शिव गंगा" व "मेरी ज़िंदगी है तू" का मुहूर्त मुम्बई में .!

सत्येंद्र सिंह व श्रुति रॉय की फिल्म "शिव गंगा" व "मेरी ज़िंदगी है तू" का मुहूर्त मुम्बई में .!

मुम्बई,अभिनेता सत्येंद्र सिंह और श्रुति रॉय की आनेवाली दो बड़ी फिल्मों का ग्रैंड मुहूर्त आज मुम्बई में सम्पन्न हुआ । दोनों पहली बार एक साथ बड़े पर्दे पर नज़र आएंगे । दोनों की केमिस्ट्री देखने के लिए दर्शकों में उत्सुकता भी बनी हुई है । फ़िल्म निर्माता सुबीर कुमार ने आज मुम्बई में एक बड़े इवेंट में अपनी आने वाली दो बड़ी फिल्मों का ग्रैंड मुहूर्त बड़ी ही धूमधाम से किया । इस मौक़े पर फ़िल्म इंडस्ट्री से तमाम बड़े लोगों ने शिरकत करके सुबीर कुमार व उनकी टीम को बधाइयाँ व शुभकामनाएं दीं । आज मुम्बई के ओशिवरा अंधेरी में आयोजित समारोह में भोजपुरी फ़िल्म शिव गंगा व मेरी ज़िंदगी है तू का भव्य मुहूर्त किया गया । दोनों ही फिल्मों की शूटिंग भी शीघ्र ही शुरू की जाएगी । मुम्बई में ही मुहूर्त के मौके पर आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में निर्माता सुबीर कुमार ने बताया कि दोनों ही फिल्मों की कहानी अद्भुत विषय पर आधारित है और इन फिल्मों के बारे में जब दर्शक बात करेंगे तो वह वाक़ई गर्व करने काछण होगा । उन्होंने कहा कि वे चाहते तो दोनों फिल्मों को आगे पीछे भी कर सकते थे लेकिन इनके विषय इतने दमदार लगे और उसमें खुद वे इतना खो गए कि उन्होंने निर्णय लिया कि दोनों ही फिल्मों को एक साथ ही शुरू करने का निर्णय ले लिया । ऐसे में मेरी ज़िंदगी है तूँ की शूटिंग अगले ही महीने में उत्तरप्रदेश में शुरू की जाएगी और उसके बाद शिव गंगा के शूटिंग की ख़बर दी जाएगी । प्रेसकर्मियों से बात करते हुए अभिनेता सत्येंद्र सिंह ने कहा कि ऐसा बहुत कम ही देखने को मिलता है कि जब कोई निर्माता एकबार में ही दो फिल्मों का मुहूर्त करता हो । चुकीं फ़िल्म का कॉन्सेप्ट इतना दमदार है और उनकी श्रुति रॉय के साथ बनी हुई जोड़ी की ऐसी चर्चा है कि जिसके कारण से निर्माता इस मौक़े को भुना लेना चाहते हैं । ऐसे में मेरी ज़िंदगी है तूँ की शूटिंग पहले की जाएगी । इस फ़िल्म के बारे में बात करते हुए अभिनेत्री श्रुति रॉय ने कहा कि यह एक बहुत ही प्यारे इंसान की कहानी है जो सिर्फ़ प्यार करना जानता है और उसके हिंसाब से इस दुनिया मे सिर्फ प्यार होना चाहिए । इसके अलावा नफरत और बाकी की नकारात्मक बातों के लिए कोई भी स्पेस नहीं होना चाहिए । हर ओर प्यार रहेगा तभी ज़िन्दगी खुशहाल रहेगी । 

दोनों ही फिल्मों के तकनीशियनों की बात की जाए तो निर्माता सुबीर कुमार के साथ सह निर्माता बबली चन्द्रा हैं । वही फ़िल्म शिव गंगा के निर्देशन कि जिम्मेवारी मनोज ओझा की है जिसकी कथा पटकथा व सम्वाद सभा वर्मा ने लिखे हैं , वहीं गीत संगीत प्रकाश बारूद का है । इसके सिनेमेटोग्राफी फिरोज खान करेंगे और संकलन का जिम्मा गोविंद दुबे का होगा । इस फ़िल्म के बारे में बात करते हुए निर्देशक मनोज ओझा ने कहा कि यह फ़िल्म भगवान शिव और पार्वती के प्रेम को उदाहरण मानकर बनाई जा रही है, जिसमें प्रेम का स्वरूप माँ गंगा की भांति पवित्र और निर्मल है । वहीं फ़िल्म मेरी ज़िंदगी है तू के निर्देशन की कमान रंजीत महापात्रा की होगी।  इस फ़िल्म की कथा दिल्लू सिंह ने लिखी है जिसका पटकथा व सम्वाद लिखे हैं विजय साहनी ने । इस फ़िल्म के बारे में बात करते हुए निर्देशक रंजीत महापात्रा ने कहा कि इस फ़िल्म के टाइटल से ही परिलक्षित हो रहा है कि फ़िल्म का सारा निष्कर्ष ही प्रेम है । इस फ़िल्म में यही दिखाने का प्रयास है कि असल ज़िंदगी में प्यार की जरूरत किस हद्द तक होती है । बेहद खूबसूरत कहानी का फिल्मांकन भी हम शीघ्र ही करने जा रहे हैं । मेरी ज़िंदगी है तूँ के गीत लिखे हैं दिल्लू सिंह ने जिसको संगीत से सजायेंगे आकाश पटेल । इस फ़िल्म के नृत्य निर्देशक होंगे पप्पू खन्ना । फिल्मों में अभिनय की बात करें तो अभिनेता सत्येंद्र सिंह , श्रुति रॉय , अलीशा अली खान और मनोज टाईगर इन फिल्मों का हिस्सा होंगे । इन दोनों ही फिल्मों के प्रचार प्रसार का जिम्मा संजय भूषण पटियाला का है ।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम