Skip to main content

मीशो ने उत्तर प्रदेश के 1.3 लाख से ज्यादा छोटे बिज़नेसेज़ को मजबूत किया

मीशो ने उत्तर प्रदेश के 1.3 लाख से ज्यादा छोटे बिज़नेसेज़ को मजबूत किया

  • वर्ष 2022 में राज्य से मीशो प्लेटफॉर्म पर ऑनबोर्ड होने वाले सप्लायर्स 77 प्रतिशत बढ़े

लखनऊ। भारत के एकमात्र ट्रू ई-कॉमर्स बाजार, मीशो ने आज बताया कि इसके प्लेटफॉर्म पर उत्तर प्रदेश के 1,30,000 से ज्यादा छोटे बिज़नेस रजिस्टर्ड हैं। मीशो द्वारा उद्योग में पहली बार चलाए जा रहे जीरो कमीशन मॉडल जैसे अभियानों की बदौलत पिछले कुछ सालों में उत्तर प्रदेश से बड़ी संख्या में एमएसएमईज़ ने मीशो पर रजिस्ट्रेशन कराया है। मीशो के डायरेक्टर, फुलफिलमेंट एंड एक्सपीरियंस, सौरभ पांडे ने आज यहां बताया कि साल 2022 में राज्य में मीशो प्लेटफॉर्म से जुड़ने वाले सप्लायर्स 77 प्रतिशत बढ़े, जिनमें से 73 प्रतिशत ने अपने ई-कॉमर्स व्यवसाय की शुरुआत ही मीशो के साथ की। इसके अलावा, उत्तर प्रदेश से अब तक लगभग 700 विक्रेता करोड़पति और 130,000 से ज्यादा विक्रेता लखपति बन चुके हैं। इस क्षेत्र के सप्लायर्स की पसंदीदा श्रेणियों में महिलाओं की पोषाक, किड्सवियर, होम एंड किचन, कंज़्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स एवं पर्सनल केयर और ब्यूटी हैं। मीशो ने अपनी शुरुआत से ही देश में विशेषतया टियर 2 और टियर 3 शहरों में छोटे एवं मध्यम व्यवसायों (एसएमबी) को मजबूत व उनका सहयोग करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। मीशो के लगभग 50 प्रतिशत विक्रेता टियर 2 शहरों जैसे अमृतसर, राजकोट, हुबली, कोझिकोडे, जमशेदपुर, और तिरुप्पुर से हैं। मीशो हाल ही में 1 मिलियन विक्रेताओं की संख्या को पार करने वाली भारत की सबसे तेज ई-कॉमर्स कंपनी भी बन गई, जिसने अपनी शुरुआत से 8 साल से भी कम समय में इतना बड़ा विक्रेता आधार हासिल किया। प्लेटफॉर्म पर रजिस्टर्ड 1.1 मिलियन विक्रेताओं में 80 प्रतिशत से ज्यादा ई-कॉमर्स के क्षेत्र में नए हैं और पहली बार ऑनलाईन बिक्री कर रहे हैं। इंटरनेट कॉमर्स को जनसमूह में हर व्यक्ति तक पहुँचाने के अपने मिशन के साथ मीशो छोटे बिज़नेसेज़ को डिजिटाईज़ करने और विशाल बाजार तक पहुँचने में समर्थ बनाने में मुख्य भूमिका निभा रहा है। यह देश का ‘एकमात्र ट्रू ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस है, जिसके पास एस्सेट-लाईट बिज़नेस मॉडल है, जिसकी विशेषताओं में जीरो प्रतिशत विक्रेता कमीशन - 2022 में मीशो के विक्रेताओं को कमीशन की 3,700 करोड़ रु. की बचत का लाभ मिला, विक्रेताओं की कोई टियरिंग और भेदभाव नहीं, जिससे बिल्कुल निष्पक्ष काम और सभी के लिए एक समान अवसर सुनिश्चित होते हैं और हमारे विक्रेताओं की प्राईवेट लेबल के ब्रांड्स से कोई प्रतिस्पर्धा नहीं, इन्वेंटरी पर आधारित व्यवसाय नहीं। दो सालों में मीशो पर विक्रेताओं का बिज़नेस औसत 82 प्रतिशत बढ़ा। गूगल प्ले स्टोर पर इंटीग्रेटेड ई-कॉमर्स ऐप (विक्रेताओं और उपभोक्ताओं के लिए एक ही ऐप), केवल 13.6 मेगाबाईट के साथ भारत में सबसे हल्का ऐप है। इस वृद्धि के बारे में मीशो के डायरेक्टर, फुलफिलमेंट एंड एक्सपीरियंस, सौरभ पांडे ने कहा, ‘‘यह देखकर बहुत खुशी होती है कि उत्तर प्रदेश से 1.3 लाख से ज्यादा एमएसएमई मीशो पर काफी तेजी से व ृद्धि कर रहे हैं और सैकड़ों व्यवसायी लखपति और करोड़पति बन चुके हैं। उद्यमियों को जीरो कमीशन, आसान बिज़नेस ऑपरेशंस जैसी सुविधाएं प्रदान करने की हमारी प्रतिबद्धता ने उनके व्यवसाय में ठोस व सकारात्मक परिवर्तन लाया है। सफलता की यह कहानी व्यवसायों और आजीविका को बढ़ाने में ई-कॉमर्स की परिवर्तनकारी शक्ति का प्रमाण है। हम अपने सैलर्स की सफलता का हिस्सा बनकर गौरवान्वित महसूस करते हैं।’’ मीशो पर ज्वेलरी बेचने वाले लखनऊ स्थित संदीप और ऋषि सिंह ने कहा, ‘‘मीशो से जुड़ते ही हमारा व्यवसाय बढ़ने लगा। इस प्लेटफॉर्म ने हमें सही टूल्स और एक विशाल ग्राहक आधार प्रदान किया, जिससे बिक्री तेजी से बढ़ने लगी। हम अपने व्यवसाय को दिए इस सहयोग के लिए मीशो को धन्यवाद देते हैं।’’ मीशो ने 2022 में अपने प्लेटफॉर्म पर लेन-देन करने वाले 140 मिलियन यूज़र्स सालाना दर्ज किए, जो भारत में इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाली आबादी का एक बड़ा हिस्सा है। मीशो के विशाल यूज़र आधार, अत्याधुनिक टेक्नॉलॉजी और कम लागत के साथ थर्ड-पार्टी लॉजिस्टिक प्रदाताओं द्वारा पूरे भारत में शिपिंग से विक्रेताओं को अपना औसत राजस्व 3 गुना बढ़ाने में मदद मिलती है। 1.1 मिलियन विक्रेताओं और 30 से ज्यादा श्रेणियों में 100 मिलियन एक्टिव प्रोडक्ट लिस्टिंग्स के साथ मीशो पूरे देश में ग्राहकों के लिए सबसे कम मूल्यों में उत्पादों का विस्तृत संग्रह पेश करता है।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम