Skip to main content

विविधता, समावेशन और पारस्परिक सम्मान पर C 20 विमर्श का आयोजन किया गया।

विविधता, समावेशन और पारस्परिक सम्मान पर C 20 विमर्श का आयोजन किया गया।

  • जी20 की नीतियों को बढ़ावा देने हेतु समाज कल्याण विभाग उप्र और विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा लखनऊ का साझा प्रयास।

लखनऊ 16 जुलाई 2023: G20 के अंतर्गत C 20 (सिविल सोसाइटी) कार्यक्रम समाज कल्याण विभाग उत्तर प्रदेश और विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा लखनऊ के संयुक्त तत्वावधान में "विविधता, समावेशन और पारस्परिक सम्मान" विषयक C 20 विमर्श का आयोजन भागीदारी भवन गोमती नगर में किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्वलन और ईश वंदना से और समापन शांति मन्त्रों द्वारा हुआ । विमर्श के मुख्य वक्ताओं के रूप में उत्तर प्रदेश के समाज कल्याण मंत्री श्री असीम अरुण जी और मुख्यमंत्री के सलाहकार श्री अवनीश अवस्थी जी की गरिमामयी उपस्थिति रही ।  कार्यक्रम का संचालन विवेकानंद केंद्र लखनऊ नगर प्रमुख श्री  दीप नारायण पांडेय ने किया तथा धन्यवाद् ज्ञापन विवेकानंद केंद्र के प्रांत संचालक श्री दयानंद लाल ने किया।

विवेकानंद केंद्र की प्रांत प्रमुख प्रो शीला मिश्रा ने सी 20 की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए कहा कि सी 20 विमर्श का उद्देश्य नागरिक समाज और संगठनों के बीच नीतिगत चर्चाओं को सुविधाजनक बनाना  और जी20 सरकारों के बीच नीतिगत चर्चाओं को बढ़ावा देना है। सी 20 (सिविल सोसाइटी) यह एक स्वायत्त मंच के रूप में कार्य करता है C20 में विवेकानन्द केन्द्र अंतर्राष्ट्रीय मंच पर प्रमुख भूमिका निभा रहा है। 

सी 20 के माध्यम से विश्व को वननेस का सन्देश दिया जा रहा है। मां अमृतामयी ने बताया था कि अब समय सिंगल का नही मिंगल का है सी 20 के माध्यम से भारत पूरे विश्व को विश्व कल्याण के लिए आध्यात्मिकता का सशक्त संदेश दे रहा है।

उन्होंने आगे कहा कि सिविल सोसाइटी 20 या सी20, जी20 फोरम के आठ आधिकारिक भागीदारी समूहों में से एक है। C20 का लक्ष्य दुनिया भर के नागरिक समाज संगठनों के दृष्टिकोण को G20 राष्ट्राध्यक्षों के सामने लाना है। G20 की अगुवाई में, C20 विभिन्न देशों के 800 से अधिक नागरिक समाजों, प्रतिनिधियों और नेटवर्क को शामिल करता है, जिसमें उन देशों के संगठन भी शामिल हैं जो G20 के सदस्य नहीं हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि G20 नेताओं में "समाज के सभी वर्गों के लोगों" की बात सुनी जाए। '

विवेकानंद केंद्र की नगर सह संचालिका डॉ श्रीमती सुषमा मिश्रा ने केंद्र का परिचय देते हुए बताया कि वेकानन्द केन्द्र - आध्यात्मिक रूप से उन्मुख एक सेवा मिशन है,माननीय एकनाथजी रानाडे ने 1972 में स्वामी विवेकानन्द के जीवंत स्मारक के रूप में एक आध्यात्मिक रूप से उन्मुख सेवा मिशन विवेकानन्द केन्द्र की शुरुआत की, जिसमें समर्पित जीवनव्रती, सेवाव्रती, वानप्रस्थी और हजारों स्थानीय कार्यकर्ताओं के साथ-साथ लाखों संरक्षक,शुभचिंतक, और प्रकाशन के सदस्य भी शामिल थे। विवेकानन्द केन्द्र इस महान विचार पर केंद्रित है कि मनुष्य की सेवा ही ईश्वर की पूजा है - और यह राष्ट्रीय आदर्श त्याग और सेवा द्वारा निर्देशित है। स्वामी जी दरिद्र नारायण की सेवा को अधिक महत्व देते थे। यह भारत का राष्ट्रीय तीर्थ है। व्यक्ति निर्माण से राष्ट्र पुनर्निमाण की संकल्पना स्वामी जी प्रमुख संदेशों में से एक है।

स्वामी विवेकानन्द के दृष्टिकोण को साकार करने के लिए, राष्ट्र के पुनर्निर्माण के लिए समाज के सभी स्तरों (चरणों) के लिए काम करने के लिए केंद्र की भारत भर में 850 से अधिक शाखाएँ और गतिविधि केंद्र हैं।इसे प्राप्त करने के लिए विवेकानन्द केन्द्र योग, स्वाध्याय वर्ग (अध्ययन मण्डल), संस्कार वर्ग, ग्रामीण विकास, शिक्षा, प्राकृतिक संसाधनों का विकास, युवाओं और महिलाओं को संगठित करना तथा स्वामी विवेकानन्द के जीवन और सन्देश, संस्कृति, वैदिक अध्ययन. पर आधारित प्रकाशनों के माध्यम से विभिन्न सेवा गतिविधियाँ चला रहा है। केंद्र सभी से राष्ट्रीय उत्थान के इस पुनीत कार्य में शामिल होने का आह्वान करता है।

समाज कल्याण मंत्री श्री असीम अरुण जी ने अपने उद्बोधन में कहा कि डायवर्सिटी, इंक्लूजन और म्युचुअल रिस्पेक्ट विषय बहुत महत्वपूर्ण है, लेकिन यदि इसे सरल भाषा मे कहें तो मोदी जी द्वारा दिया नारा सटीक बैठता है वो हैसबका साथ सबका विकास जो भी कार्य किए जाने हैं वो एक सिस्टम के तहत होने चाहिए 

जो भी भाई बहन हमसे पीछे छूट गए हैं उन्हें आगे लाना है, अर्थ व्यवस्था के बारे में बताते हुए कहा कि एक ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी हम प्राप्त कर लेंगे लेकिन सामाजिक समानता लाने के लिए हमे अलग से काम करना होगा सिविल 20 का रोल इसमें और बढ़ जाता है। 

स्वामी विवेकानंद की एक किताब का जिक्र करते हुए कहा कि स्वामी जी को हम भगवान का अवतार न मानें यह बात स्वयं एकनाथ रानाडे ने कही है समाज कल्याण विभाग से ज्यादा समाज स्वयं अपना कल्याण कर रहा है, उन्होने आगे कहा कि विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा लखनऊ राष्ट्र के लिए अच्छा कार्य कर रहा है ।हम और हमारा विभाग ऐसे कार्यों के लिए सदैव आपके साथ हैं

मुख्यमंत्री के सलाहकार श्री अवनीश अवस्थी ने आज के सी 20 विमर्श अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि विवेकानंद केंद्र की सराहना करते हुए कहा यह एक ऐतिहासिक क्षण है कि मोदी जी के नेतृत्व में देश जी 20 की मेज़बानी कर रहा है उसी के अन्तर्गत आज सी 20 विमर्श में सहभागिता करने का सुअवसर मिला। भिक्षा वृत्ति मे लगे बच्चों, समाज के अन्तिम पायदान पर जीवन यापन कर रहे बच्चों को आगे लाने के लिए विवेकानंद केंद्र का आवाहन किया। परिवारों में आजकल बिखराव हो रहा है यह चिंतनीय स्थिति है परिवारों को जोड़ने के लिए हमें प्रयास करना चाहिए विवेकानंद केंद्र से इसपर भी जुड़ने का आवाहन किया। पर्यावरण संरक्षण और पौध रोपण को बढ़ावा देने के लिए अपील की।

आज के विमर्श कार्यक्रम में अपने अपने क्षेत्रों में नेतृत्व कर रहे शहर के गणमान्य और प्रबुद्ध लोगों की, महिलाओं और युवाओं की गरिमामयी उपस्थिति रही इनमे से कुछ प्रमुख नाम प्रो कीर्ति नारायण, पायसम के श्री नवल पन्त, नेशनल ब्लाइंड एसोसिएशन की अमिता दुबे, स्पार्क इंडिया के अमिताभ मेहरोत्रा, केडी सिंह, अतुल कुमार, प्रमिल द्विवेदी, दुर्गेश मिश्रा, शोभिता टंडन, प्रो संगीता, प्रो एस पी त्रिपाठी, प्रमोद सक्सेना, अखिलेश सिंह,प्रवीन द्विवेदी, पी एन बालिया, अविरल बाजपेई, जी पी त्रिपाठी, रंजन यादव, डॉ अनिल मिश्र आदि  सहित विवेकानंद केंद के भारी संख्या में लोग उपस्थित रहे ।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम