Skip to main content

बच्चों के इलाज के लिए अपोलो ने लॉन्च किया देश का सबसे एडवांस नेटवर्क

बच्चों के इलाज के लिए अपोलो ने लॉन्च किया देश का सबसे एडवांस नेटवर्क

  • बच्चों की स्वास्थ्य देखभाल के लिए समर्पित नेटवर्क "अपोलो चिल्ड्रेन्स" 
  • सबसे बेहतर नैदानिक ​​​​परिणामों के साथ जांच से लेकर इलाज तक की मिलेगी सुविधा
  • देश में 40 से ज्यादा अस्पतालों में 25 से ज्यादा वि​शिष्ट देखभाल के लिए 400 से ज्यादा विशेषज्ञ मौजूद
  • 24 घंटे, सातों दिन उपलब्ध उन्नत उपचार सुविधाएं, आपातकालीन सेवा भी शामिल

लखनऊ : देश की भावी पीढ़ी को बेहतर उपचार मुहैया कराने के लिए अपोलो ने अपनी 40 साल से भी ज्यादा पुरानी विरासत को आगे बढ़ाया है। दुनिया के सबसे बड़े एकीकृत स्वास्थ्य सेवाएं देने वाले अपोलो ने आज देश का सबसे एडवांस नेटवर्क "अपोलो चिल्ड्रेन्स" लॉन्च किया, जहां वि​भिन्न बीमारियों को लेकर बच्चों की देखभाल, जांच, उपचार और एक बेहतर भविष्य दिया जा सकता है। 

देश में मौजूद 40 से ज्यादा अस्पताल इस नेटवर्क का हिस्सा होंगे। यहां 25 से ज्यादा वि​शिष्ट देखभाल के लिए 400 से ज्यादा विशेषज्ञ डॉक्टर अपने अनुभव और ज्ञान के जरिए बाल चिकित्सा को एक नए मुकाम पर लेने जाने का प्रयास करेंगे। 900 से ज्यादा बिस्तरों की क्षमता वाले इस नेटवर्क में सातों दिन, 24 घंटे बच्चों के लिए बेहतर चिकित्सा उपलब्ध होगी। इतना ही नहीं, आपातकालीन सेवाएं भी संचालित होगीं। 

अपोलो चिल्ड्रेन नेटवर्क में जन्मजात विकार, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल और लिवर विकार, न्यूरो डेवलपमेंटल विकार, हृदय संबंधी स्थितियां, किडनी की बीमारी, ऑन्कोलॉजी और लिवर प्रत्यारोपण तक की सुविधा रहेगी। अत्याधुनिक सुविधाएं, अत्याधुनिक तकनीक और विशेषज्ञता से सुसज्जित इस अपोलो चिल्ड्रेन्स नेटवर्क की प्राथमिकता जरूरतमंद बच्चों को उच्चतम गुणवत्ता वाली देखभाल प्रदान करना है।

दरअसल, अपोलो का बाल रोग विभाग न सिर्फ भारत ब​ल्कि अन्य देशों की तुलना में अपनी उत्कृष्टता के लिए जाना जाता है। फिर चाहे वह समय से पहले जन्मे नवजात शिशु की देखभाल हो या फिर बहु-अंग शिथिलता वाले बच्चों की बात हो। अब तक अपोलो व्यापक बाल चिकित्सा देखभाल के मामले में उन्नत उपचार सुविधा देने में अग्रणी रहा है। 

इस अवसर पर देश में बच्चों से जुड़ी स्वास्थ्य सेवाओं में बदलाव पर जोर देते हुए अपोलो के अध्यक्ष डॉ. प्रताप सी रेड्डी ने कहा, “बाल चिकित्सा देखभाल की बात करें तो पिछले 40 वर्ष में अपोलो एक शानदार प्रतिष्ठा बनाने में सक्षम रहा है। हमारे प्रयासों के चलते अपोलो में न केवल भारत बल्कि 50 से अधिक देशों के बच्चों को विश्व स्तरीय देखभाल दी जा रही है। हमारे कुशल बाल रोग विशेषज्ञों के साथ अपोलो चिल्ड्रेन्स को एक वन-स्टॉप डेस्टिनेशन के रूप में डिजाइन किया है जहां बच्चों को उनके स्वास्थ्य के सभी पहलुओं में उच्चतम गुणवत्ता वाली देखभाल मिलेगी। बच्चों के विकास के पूरे स्पेक्ट्रम को कवर करने की आवश्यकता है। इसलिए हमारा लक्ष्य बच्चों को बहुआयामी और सबसे उन्नत देखभाल प्रदान करना है ताकि नए मानक स्थापित किए जा सकें।”

वहीं, अपोलो की कार्यकारी उपाध्यक्ष डॉ. प्रीता रेड्डी ने कहा, “अपोलो में हम जो भी मेहनत करते हैं उसका मूल केंद्र रोगी और उसकी देखभाल रहती है। बाल रोग विशेषज्ञों की सबसे बड़ी संख्या, हमारी विरासत और सर्वोत्तम तकनीक के साथ भारत में बाल चिकित्सा देखभाल के क्षेत्र में एक क्रांति लाने के लिए हम पूरी तरह तैयार हैं।” 

उन्होंने यहां तक कहा है कि अपोलो चिल्ड्रेन्स में अलग अलग बीमारियों के विशेषज्ञ होंगे और एक ऐसा बुनियादी ढांचा होगा जहां बच्चे और उनके माता पिता की चिकित्सा यात्रा को आसान बनाते हुए भारत की बेहतरीन स्वास्थ्य देखभाल सुविधाएं होगीं। अपने व्यापक दृष्टिकोण, अत्याधुनिक तकनीक और परिवार-केंद्रित देखभाल पर जोर देते हुए हम देश में सर्वोत्तम बाल चिकित्सा देखभाल प्रदान करने में सबसे आगे बने रहेंगे।

जानकारी के अनुसार, अपोलो चिल्ड्रेन को जो बात अलग बनाती है, वह है 24/7 बाल चिकित्सा आपातकालीन और बाल गहन देखभाल सेवाओं के प्रति इसकी अटूट प्रतिबद्धता। समर्पित आपातकालीन विभाग विशेषज्ञ बाल रोग विशेषज्ञों से सुसज्जित है और यहां उन्नत जीवन रक्षक उपकरण मौजूद हैं जो बाल चिकित्सा आपात स्थिति का तत्काल और कुशल प्रबंधन सुनिश्चित करता है। माता-पिता भरोसा कर सकते हैं कि उनके बच्चों को अचानक बीमारी, चोट या किसी अन्य चिकित्सीय आपात स्थिति के समय त्वरित और विशेषज्ञ देखभाल मिलेगी।

अपोलो की प्रबंध निदेशक सुश्री सुनीता रेड्डी ने कहा, “हमारा प्राथमिक उद्देश्य बच्चों के अनुकूल माहौल को बढ़ावा देना है जो व्यक्तिगत ध्यान और उच्चतम स्तर की देखभाल सुनिश्चित करता है। हम मामूली सर्दी-जुकाम से लेकर बड़ी सर्जरी तक, हर कदम पर व्यापक बाल चिकित्सा देखभाल प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम भारत और अन्य देशों के बाल चिकित्सा नैदानिक ​​उत्कृष्टता के लिए प्रयास करते हैं। हम सभी मामलों को संभालने के लिए क्षमता रखते हैं, जिनमें बहु-विषयक विशेषज्ञता, उपचार और बुनियादी ढांचे की आवश्यकता होती है। हमारा विशेष दृष्टिकोण बच्चों की विशिष्ट आवश्यकताओं को पूरा करता है और हम अपने युवा रोगियों को विश्व स्तरीय देखभाल के लिए निपुण चिकित्सा पेशेवरों व अत्याधुनिक सुविधाओं का लाभ उठाना जारी रखेंगे।”

अपोलो हॉस्पिटल्स के दक्षिणी क्षेत्र की सीओओ सिन्दूरी रेड्डी ने कहा: “अपोलो चिल्ड्रेन्स प्राथमिक, माध्यमिक, तृतीयक और चतुर्धातुक सभी स्तर ही चिकित्सा देखभाल प्रदान करेगा, जिससे यह 24*7 बाल चिकित्सा देखभाल के लिए सबसे पसंदीदा स्थान बन जाएगा। अपोलो चिल्ड्रेन्स 25 से अधिक विशिष्टताएं हैं जिनमें बाल चिकित्सा एंड्रोक्रायनोलॉजी, बाल हृदय प्रत्यारोपण, बाल गहन देखभाल, बाल चिकित्सा ऑन्कोलॉजी, बाल चिकित्सा रोबोटिक्स, यूरोलॉजी, नियोनेटोलॉजी इत्यादि शामिल हैं।” 

अपोलो हॉस्पिटल्स के ग्रुप मेडिकल डायरेक्टर और वरिष्ठ पीडियाट्रिक गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट डॉ. अनुपम सिब्बल ने कहा, “ बाल चिकित्सा को लेकर अपोलो का अपना एक इतिहास रहा है। मरीज और उनके परिजनों से मिले विश्वास के दम पर ही अपोलो आज बाल चिकित्सा देखभाल में अग्रणी है। दिल्ली का अपोलो इंद्रप्रस्थ अस्पताल साल 1998 में सफल बाल लिवर प्रत्यारोपण करने वाला देश का पहला अस्पताल बना। तब से लेकर अब तक 500 से ज्यादा बच्चों के ​लिवर प्रत्यारोपण किए जा चुके हैं। अत्यधिक जटिल बाल चिकित्सा रोबोटिक, बाल चिकित्सा और नवजात हृदय सर्जरी, बोनमैरो प्रत्यारोपण, किडनी प्रत्यारोपण के कई दुर्लभ मामलों में अपोलो अस्पताल ने सफलता हासिल की है जिन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रका​शित किया गया। अपोलो चिल्ड्रेन्स के लॉन्च के साथ हमें विश्वास है कि हम देश में समग्र नवजात शिशु, बाल चिकित्सा और किशोर देखभाल प्रदान करने के तरीके पर गहरा प्रभाव डालेंगे।”

यहां बता दें कि अपोलो देश का सबसे बड़ा बाल चिकित्सा तृतीयक और चतुर्धातुक देखभाल प्रदाता है। अपोलो चिल्ड्रन, क्लीनिक, 24/7 और कई अन्य में कई देखभाल प्रदान करता है। हालांकि इसका मतलब यह कतई नहीं है कि अपोलो सिर्फ एक विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सेवाएं देने वाला स्थान है। यह बाल चिकित्सा के क्षेत्र में विशेषज्ञता वाले डॉक्टर भी दे रहा कै। राष्ट्रीय परीक्षा बोर्ड द्वारा मान्यता प्राप्त अपोलो के पास वर्तमान में 49 बाल चिकित्सा और बाल उप विशेषज्ञता की स्पेशलिटी डीएनबी सीटें हैं जिनका लक्ष्य बाल चिकित्सा गैस्ट्रोएंट्रोलॉजी, बाल चिकित्सा ऑन्कोलॉजी, बाल चिकित्सा कार्डियोलॉजी, बाल चिकित्सा सर्जरी, बाल चिकित्सा मूत्रविज्ञान जैसी बाल चिकित्सा और बाल चिकित्सा सुपर स्पेशलिटी में उच्चतम गुणवत्ता वाले स्नातकोत्तर प्रशिक्षण प्रदान करना है।

  • अपोलो के बारे में : 

अपोलो ने उस वक्त स्वास्थ्य सेवा में क्रांति लाई जब डॉ. प्रताप रेड्डी ने साल 1983 में चेन्नई में पहला अस्पताल खोला। तब से लेकर आज तक अपोलो के देश में 70 अस्पताल, 5500 फार्मेसी और 2000 से अधिक क्लीनिक और डायग्नोस्टिक केंद्र हैं। इनके अलावा, 150 टेलीमेडिसिन केंद्रों में 10 हजार से अधिक बिस्तरों के साथ दुनिया का सबसे बड़ा एकीकृत स्वास्थ्य सेवा मंच है। यह 200,000 से अधिक सर्जरी के साथ दुनिया का अग्रणी हृदय केंद्र और दुनिया का सबसे बड़ा निजी कैंसर देखभाल प्रदाता है। 1500 से अधिक प्रकाशनों के साथ, अपोलो सबसे अत्याधुनिक तकनीक, उपकरण और उपचार प्रोटोकॉल लाने के लिए अनुसंधान में निवेश भी जारी है। ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि मरीजों को दुनिया में सबसे अच्छी देखभाल उपलब्ध हो। अपोलो के 100,000 परिवार के सदस्य आपको सर्वोत्तम देखभाल प्रदान करने और इस दुनिया को जितना हमने पाया उससे बेहतर छोड़ने के लिए समर्पित हैं।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम