Skip to main content

विज़न अमृत काल भारत का 2047" सम्मेलन अमृत काल भारत की ओर भारत की प्रगति को आगे बढ़ाएगा

विज़न अमृत काल भारत का 2047" सम्मेलन अमृत काल भारत की ओर भारत की प्रगति को आगे बढ़ाएगा

लखनऊ: 13 जुलाई, 2023: "विज़न अमृत काल भारत का 2047" सम्मेलन एवं प्रदर्शनी, एक संवाद श्रृंखला कई शहरों के दौरे पर है। दिल्ली के बाद, लखनऊ 15 जुलाई, 2023 को उत्तर प्रदेश के डालीगंज, लखनऊ में लाल बहादुर शास्त्री गन्ना किसान संस्थान में "विज़न अमृत काल भारत का 2O47 कॉन्क्लेव" की मेजबानी करेगा। दिनभर चलने वाले कॉन्क्लेव में इटार प्रदेश सरकार के सम्मानित मंत्री और अधिकारी मौजूद रहेंगे।

दूरदर्शी सम्मेलन का उद्देश्य हमारे प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा भारत के 140 करोड़ नागरिकों को अमृत काल पर दिए गए स्पष्ट आह्वान के साथ तालमेल बिठाना है कि हम भारत को कैसा बनाना चाहते हैं क्योंकि भारत 2047 में स्वतंत्रता के 100 वर्ष मनाएगा। प्रधान मंत्री का कॉल प्रत्येक व्यक्ति से भारत के अमृत काल की ओर बढ़ते हुए भारत की प्रगति में शामिल होने और योगदान देने का आग्रह करता है। इस विषय को अपनाकर, सम्मेलन प्रतिभागियों को भारत के परिवर्तन में सक्रिय रूप से भाग लेने के लिए प्रेरित और प्रोत्साहित करना चाहता है।

इसके अलावा, सम्मेलन उत्तर प्रदेश के सम्मानित मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा निर्धारित दृष्टिकोण और मिशन को भी अपनाएगा। उनके नेतृत्व में, उत्तर प्रदेश वाणिज्य, बुनियादी ढांचे, निर्यात, कल्याण और अन्य सहित सभी पहलुओं में उत्तम प्रदेश बनने की आकांक्षा रखता है। "विज़न अमृत काल भारत का 2047" सम्मेलन इन लक्ष्यों को शामिल करेगा और विश्व स्तर पर विशेष रूप से उत्तर प्रदेश और सामान्य रूप से भारत के विकास को गति देने की दिशा में काम करेगा ताकि भारत विकसित विश्व भारत टैग तक पहुंच सके।

सम्मेलन में सरकारी अधिकारियों, व्यापारिक नेताओं, उद्यमियों और शिक्षाविदों सहित विभिन्न क्षेत्रों के प्रतिष्ठित वक्ता, विचारक नेता, विशेषज्ञ और हितधारक एक साथ आएंगे। आकर्षक चर्चाओं, व्यावहारिक प्रस्तुतियों और इंटरैक्टिव सत्रों के माध्यम से, प्रतिभागी विचारों का आदान-प्रदान करेंगे, ज्ञान साझा करेंगे और भारत की प्रगति में योगदान देने के अवसरों का पता लगाएंगे। विज़न अमृतकाल भारत का 2047" के व्यापक सत्र सरकार, राजनीति, अर्थव्यवस्था, रक्षा, कृषि, जल, चिकित्सा, स्वास्थ्य, सामाजिक कल्याण, जीवन में आसानी के लिए प्रौद्योगिकी, लीप फ्रॉग के लिए प्रौद्योगिकी, अगली पीढ़ी की प्रौद्योगिकी: अल/क्वांटम/ पर होंगे। 5जी, शासन की सफलता की कहानियां, संभावित चुनौतियां और लक्ष्य, भारतीय लोकतंत्र की राजनीति और मजबूती, भारत की नरम शक्तियां, भारत दुनिया के विनिर्माण केंद्र के रूप में, विज्ञान, प्रौद्योगिकी, चिकित्सा, फिन-टेक, पर्यावरण में दुनिया के बौद्धिक मस्तिष्क के रूप में भारत , कृषि, कला एवं संस्कृति, अध्यात्म सनातन भारत दर्शन आदि।

यह ऐतिहासिक सम्मेलन भारत के परिवर्तन और अमृत काल भारत के दृष्टिकोण की दिशा में प्रगति के लिए समर्पित है। इस उल्लेखनीय आयोजन में शामिल होने के लिए राष्ट्र-निर्माण के प्रति उत्साही व्यक्तियों, संगठनों और संस्थानों को आमंत्रित करें और शामिल करें। भारत 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने की राह पर है और इस दशक के अंत तक दुनिया की पांचवीं से तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की उत्सुकता से उम्मीद है। 1.4 अरब भारतीयों की आकांक्षा अंत्योदय भारत को शामिल करते हुए विकसित अर्थव्यवस्था वाले भारत की ओर, समानता-आधारित समाज की वास्तविकता की ओर एक साथ आगे बढ़ने की है।

"विज़न अमृत काल भारत का 2047" संवाद श्रृंखला, मुख्य रूप से सरकार और नीतियों पर केंद्रित होगी, हमारे समाज के विभिन्न वर्गों के विषय विशेषज्ञों से शानदार संवाद को एक मंच पर लाने का प्रयास करेगी: सरकारी मंत्री, नीति निर्माता, सरकारी नौकरशाह / टेक्नोक्रेट , नागरिक समाज, राय बनाने वाले, विषय विशेषज्ञ, विदेशी राजनयिक, प्रौद्योगिकीविद्, एसडीजी विशेषज्ञ, पत्रकार और मीडिया पेशेवर जिससे बड़े पैमाने पर जनता और मीडिया बिरादरी हमारे भारत की प्रगति और विकास के लिए इन दिग्गजों के दृष्टिकोण और मिशन को सुन सकते हैं। हम राष्ट्राध्यक्षों, सरकारी मंत्रियों, सरकारी अधिकारियों, विषय विशेषज्ञों, गैर सरकारी संगठनों, विदेशी राजनयिकों, नौकरशाहों, टेक्नोक्रेट्स, रक्षा विशेषज्ञों आदि को आमंत्रित करेंगे।

संवाद श्रृंखला में सम्मेलन और प्रदर्शनी का विचार एक मंच पर कई विविध विषयों, विषय विशेषज्ञों और विविध विषयों को शामिल करना है। ताकि "विजन अमृतकाल भारत का 2047", 'विकसित विश्व भारत' के क्रॉस-सेक्शन पर नए भारत का विजन और मिशन शताब्दी भारत मार्ग को आकार दे सके।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम