Skip to main content

मेदांता अस्पताल द्वारा अंतरराष्ट्रीय मिर्गी दिवस पर 'स्टिग्मा इन एपिलेप्सी' सत्र आयोजित किया गया

मेदांता अस्पताल द्वारा अंतरराष्ट्रीय मिर्गी दिवस पर 'स्टिग्मा इन एपिलेप्सी' सत्र आयोजित किया गया

लखनऊ, 13 फरवरी 2023: राजधानी स्थित मेदांता अस्पताल चिकित्सा उपचार और रोग के प्रति जागरूकता के मामले में लगातार एक उच्च मानक स्थापित करता आ रहा है। एपिलेप्सी की बात की जाए तो यह मूल रूप से एक न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है, जिसमें मस्तिष्क की गतिविधि असामान्य हो जाती है जिससे बार-बार अकारण ही अतिसंवेदनशील दौरे पड़ने लगते हैं। मिर्गी के प्रति जागरूकता और उपचार में प्रगति के बावजूद, इस विकार से पीड़ित लोगों को नकारात्मक दृष्टि से देखा जाता है, जिससे उनके लिए एक मनोवैज्ञानिक संकट पैदा होता है, जो उनके जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित करता है।

 सत्र इस रोग को कलंक के रूप में देखने और इसके नकारात्मक प्रभाव के असर को समझने के लिए समर्पित था। सत्र में इस बात पर विस्तृत चर्चा हुई कि कैसे मिर्गी को भारत में अक्सर पूर्वाग्रह और तिरस्कार के साथ देखा जाता है।

 इसे आगे बढ़ाते हुए डॉ. ए.के.  ठाकर, डायरेक्टर न्यूरोलॉजी ने कहा, "मिर्गी एक सामान्य स्थिति है जो 10 मिलियन लोगों को प्रभावित करती है भारत में। यह 70% से अधिक को नियंत्रित करने वाली चिकित्सा उपचार के साथ एक उपचार योग्य स्थिति है।  इसके बावजूद मिर्गी मिथकों, अज्ञानता, गलतफहमियों के चलते एक बड़े सामाजिक कलंक के रूप में देखा जाता है। यह बीमारी से भी ज्यादा दर्दनाक स्थिति होती है। इसलिए इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय मिर्गी दिवस का विषय "स्टिग्मा इन एपिलेप्सी है। मिथकों के बारे में जागरूकता फैलाने और इसके उन्मूलन करने की तत्काल आवश्यकता है, ताकि मिर्गी से पीड़ित व्यक्ति स्वयं को एक सामान्य व्यक्ति की तरह देख सकें।  "

 मिर्गी और इससे जुड़ी भ्रांतियों क्व विषय में अधिक जानकारी देते हुए, न्यूरोलॉजी के एसोसिएट डायरेक्टर डॉ. ऋत्विज बिहारी ने कहा, "मिर्गी को दवाओं, सर्जरी या चिकित्सा उपकरणों से नियंत्रित किया जा सकता है। मिर्गी से पीड़ित लोग सामान्य जीवन जी सकते हैं। मिर्गी के बारे में कलंक या मिथकों से बचने के लिए और लोगों को लाभ पहुंचाने के लिए हमें इसके बारे में ज्ञान का प्रसार करना चाहिए।" सत्र का लक्ष्य मिर्गी के बारे में गलत धारणाओं और गलत समझ को दूर करना था, साथ ही मिर्गी से पीड़ित मरीजों को सम्मान से जीवन व्यतीत करने और उनका सम्मान के साथ इलाज के लिए जागरूकता पैदा करना था।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम