Skip to main content

24 साल पहले देश में जिसका पहला हुआ लिवर ट्रांसप्लांट, अब डॉक्टर बचा रहा औरों की जान

24 साल पहले देश में जिसका पहला हुआ लिवर ट्रांसप्लांट, अब डॉक्टर बचा रहा औरों की जान

  • 24 साल पहले दिल्ली के अपोलो अस्पताल ने किया था देश का पहला लिवर ट्रांसप्लांट, मनाई वर्षगांठ
  • 15 नवंबर 1998 को अपोलो के डॉक्टरों ने किया था पहला ट्रांसप्लांट
  • बाल लिवर ट्रांसप्लांट के भारत में 15 वर्ष पूरे होने पर डाक टिकट भी जारी

लखनऊ  : 24 साल पहले दिल्ली के अपोलो अस्पताल ने देश में पहली बार जिस बच्चे का लिवर ट्रांसप्लांट किया था, अब वह डॉक्टर बन दूसरों की जान बचा रहा है। इसे लेकर अपोलो अस्पताल ने भारत के पहले सफल लीवर ट्रांसप्लांट की 24वीं वर्षगांठ मनाई। इस दौरान बाल लिवर ट्रांसप्लांट के भारत में 15 वर्ष पूरे होने पर डाक टिकट भी जारी किया गया। 

अस्पताल के अनुसार, डॉ. संजय कंडासामी और दिल्ली में अपोलो लीवर ट्रांसप्लांट टीम ने 15 नवंबर 1998 को इतिहास रचा, जब उन्होंने नन्हे संजय का लिवर ट्रांसप्लांट कर उसे नया जीवन दिया था।इसके चलते संजय भारत में सफल लीवर ट्रांसप्लांट प्राप्त करने वाला पहला बच्चा बन गया। 

डॉक्टरों ने बताया कि जनवरी 1997 में जन्मे संजय एक दुर्लभ यकृत विकार के साथ था जिसे बाइलरी एट्रेसिया कहा जाता है। इसके परिणामस्वरूप जन्म के बाद पीलिया हो जाता है। इससे लीवर फेल हो गया, जिसके कारण अंततः लीवर ट्रांसप्लांट की जरूरत पड़ी। 22 महीने की उम्र में ही संजय को नया जीवन मिला, जब उनके पिता के लीवर का 20% हिस्सा अपोलो अस्पताल दिल्ली में उनका ट्रांसप्लांट किया। 24 साल बाद, संजय अब जीवन बचाने वाले एक योग्य डॉक्टर हैं।

अपोलो हॉस्पिटल्स ग्रुप के संस्थापक और अध्यक्ष डॉ प्रताप सी रेड्डी ने कहा, "15 नवंबर भारतीय चिकित्सा के लिए एक विशेष दिन है। 24 साल पहले इसी दिन भारत ने लीवर प्रत्यारोपण करने वाले देशों के विशिष्ट क्लब में प्रवेश किया था। यह अग्रणी कार्य और विस्मय- संजय जैसे रोगियों के प्रेरक रवैये ने यह सुनिश्चित किया है कि पिछले 24 वर्षों में अपोलो लीवर ट्रांसप्लांट कार्यक्रम ने 50 से अधिक देशों के रोगियों में 4050 से अधिक लीवर प्रत्यारोपण किए हैं, जिनमें से 489 बच्चे हैं। हम दुनिया भर के रोगियों को अपनी विशेषज्ञता प्रदान करने का प्रयास करते हैं। जो लिवर ट्रांसप्लांट सेवाओं की तलाश करते हैं। पांच साल का अस्तित्व 90% है और प्रत्यारोपण के बाद रोगी एक पूर्ण जीवन भी जी रहे हैं। कुछ ऐसा जिसकी उन्होंने कल्पना नहीं की थी जब वे अंतिम चरण के जिगर की विफलता से पीड़ित थे।” उन्होंने बताया कि दूसरा बच्चा जिसका हमने 1999 में ट्रांसप्लांट किया था, अब वह कनाडा में एकाउंटेंट के रूप में काम कर रहा है। 

संजय की मुस्कान आज भी याद

अपोलो के ग्रुप मेडिकल और सीनियर पीडियाट्रिक गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट डॉ अनुपम सिब्बल के अनुसार, "मुझे वह दिन याद है जब हमने संजय को पहली बार देखा था, उसे पीलिया था और जीने के लिए केवल कुछ ही सप्ताह थे। संजय को बचपन और किशोरावस्था से गुजरते हुए देखना आश्चर्यजनक रहा। उन्हें एक डॉक्टर के रूप में योग्य देखना एक सपना सच होने जैसा था। 1998 के बाद से, लिवर ट्रांसप्लांट के क्षेत्र में बहुत कुछ बदल गया है। उम्र और आकार अब बाधा नहीं हैं और अब हम 3.5 किलोग्राम वजन वाले बच्चों का ट्रांसप्लांट भी करते हैं। उन बच्चों का ट्रांसप्लांट करने में भी सक्षम हैं जो पहले उच्च शल्य चिकित्सा जोखिमों के कारण इसके लिए योग्य नहीं थे। हम संयुक्त लिवर और किडनी ट्रांसप्लांट करने में सक्षम हैं।”

तीन सप्ताह में मिल रही छुट्टी

डॉ सिब्बल ने बताया, "अब पहले जैसा समय नहीं रहा है। नई नई तकनीक ने इलाज आसान कर दिया है। अब दाता 10 दिन से कम समय और रोगी तीन सप्ताह में घर जाता है। बच्चे सामान्य जीवन जीने के लिए वापस जाते हैं, स्कूल और खेल के मैदान में वापस जाते हैं, दोस्तों के साथ खेलते हैं और सभी शारीरिक और सामाजिक गतिविधियों में भाग लेते हैं। बड़े होकर भी उन्हें किसी भी प्रकार की कठिनाई नहीं होती है। वे जीवन की उत्कृष्ट गुणवत्ता के साथ सामान्य जीवन जीते हैं।”

22 माह बाद मेरा पुनर्जन्म

डॉ संजय ने कहा, "वैसे मेरा जन्म 1997 में हुआ, लेकिन नवंबर 1998 में मेरा पुनर्जन्म हुआ। इसके लिए अपोलो के उन डॉक्टरों का धन्यवाद जिन्होंने मुझे 24 साल पहले एक नया जीवन दिया। उनके काम को इतने करीब से देखकर ही मैंने डॉक्टर बनने का दृढ़ संकल्प लिया था। मैं अपने लोगों के जीवन को बचाने में योगदान देना चाहता हूं और एक उदाहरण स्थापित करना चाहता हूं कि कोई भी जीवन में किसी भी चुनौती को दूर कर सकता है। आज मैं अपोलो अस्पताल, बीजी रोड, बेंगलुरु में रेजिडेंट डॉक्टर के रूप में कार्यरत हूं और मुझे गर्व है कि मैं उस अपोलो परिवार का सदस्य हूं जिनके सदस्यों ने मेरा जीवन बचाया था।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम