Skip to main content

इनड्राइवर से इनड्राइव तक: इंटरनेशनल सर्विस ने रीब्रांडिंग की घोषणा की

इनड्राइवर से इनड्राइव तक: इंटरनेशनल सर्विस ने रीब्रांडिंग की घोषणा की

 11 अक्टूबर 2022, 

 लखनऊ, इनड्राइव 2012 में याकुत्स्क में टैक्सी सेवाओं के असमान मूल्य से परेशान लोगों को उचित मूल्य पर बेहतर सेवाएं देने लिए लॉन्च किया गया, इनड्राइवर वैश्विक स्तर पर 4 मिलियन से अधिक दैनिक उपयोगकर्ताओं के साथ एक नामी सेवा बन गई है। ऐप पांच महाद्वीपों के 47 देशों के 707 शहरों में उपलब्ध है। यह प्ले मार्केट और ऐपस्टोर पर हर महीने इंस्टॉल किए जाने के मामले में दुनिया भर में दूसरे स्थान पर है, इसके कुल 150 मिलियन से अधिक डाउनलोड हैं।

 पिछले कुछ वर्षों में विकसित होते हुए, इनड्राइवर राइड-हेलिंग से आगे बढ़कर एक अर्बन सर्विस मार्केट प्लेस बन गया है, जहां उपयोगकर्ता नौकरियों की तलाश कर सकते हैं, घरेलू सेवाएं प्राप्त  कर सकते हैं, लंबी दूरी की यात्राएं, डिलीवरी और कार्गो सर्विस बुक कर सकते हैं। अपनी मौजूदा पेशकश में निरंतर सुधार के साथ, कंपनी नए रणनीतिक क्षेत्रों - फिनटेक, फूड डिलीवरी, ई-कॉमर्स में प्रवेश करेगी, साथ ही बड़े पैमाने पर नॉन-प्रॉफिट डेवलपमेंट प्रोग्राम विकसित करेगी।

 इनड्राइवर नाम मूल रूप से एक सोशल मीडिया ग्रुप इंडिपेंडेंट ड्राइवर को संक्षिप्त करके बनाया गया था। इनड्राइव को इनर ड्राइव के शॉर्ट फॉर्म के रूप में इस्तेमाल किया गया है, जो आंतरिक शक्ति और ड्राइव का प्रतीक है जैसा कि कंपनी के मिशन 'अन्याय को चुनौती' में व्यक्त किया गया है।

राइड-हेलिंग (एपीएसी) इनड्राइव के डायरेक्टर श्री रोमन एर्मोशिन ने कहा: "हम यह घोषणा करते हुए उत्साहित हैं कि इनड्राइवर (इंडीपेंडेंट ड्राइवर) अर्बन सर्विस मार्केट प्लेस अब इनड्राइव (इनर ड्राइव) बन गया है। हमारा नया ब्रांड इनड्राइव के ह्यूमन-टेक लोगों द्वारा संचालित है, यहां कोई एल्गोरिदम नहीं केवल मानव संपर्क है। यह अन्याय को चुनौती देने के मिशन का प्रतीक है और नॉन-प्रॉफिट डवलपमेंट प्रोग्राम के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का प्रतिनिधित्व करता है।

 रीब्रांडिंग के साथ, हम जल्द ही अपना पहला ग्लोबल एड कैंपेन भी शुरू करेंगे। कैंपेन का मूल विचार एल्गोरिदम के आधार पर चलने वाले उदासीन एप और लोगों की मदद से चलने वाले एप के अंतर को समझना है। कैंपेन कॉल-टू-एक्शन "एक उचित मूल्य पर ड्राइव करें जिस पर आप दोनों सहमत हैं। ” थीम पर बेस्ड है।

 रीब्रांडिंग बाहरी परिवर्तनों के बारे में इतना अधिक नहीं है, बल्कि यह कंपनी के लिए नए अर्थ और लक्ष्य निर्धारित करना, कंपनी के मिशन और उसके डीएनए की फिर से कल्पना करने के लिए है। इनड्राइव में, हम मानते हैं कि हमारी टीम को प्रेरित रखने और उपयोगकर्ताओं और ब्रांड के बीच भावनात्मक संबंध को बढ़ावा देने के लिए एक मजबूत अमूर्त अर्थ होना महत्वपूर्ण है।

 इनड्राइव का इरादा अनुचित और गैर-पारदर्शी परिस्थितियों वाले बाजारों और क्षेत्रों की पहचान करना है, और वैकल्पिक बिजनेस मॉडल की पेशकश करना, उन्हें अपने पूरे नेटवर्क में बढ़ाना है।

 यह उन बाजारों पर लागू होता है जहां मूल्य निर्धारण जटिल एल्गोरिदम और गैर-पारदर्शी योजनाओं द्वारा निर्धारित किया जाता है, जो इसे अनुचित बनाते हैं। हम मानते हैं कि उपयोगकर्ताओं द्वारा सीधे बातचीत के दौरान तय की गई कीमत उचित मूल्य है। हम दुनिया भर के विभिन्न देशों में अधिक से अधिक लोगों को उचित मूल्य निर्धारण के अवसर प्रदान करने के मिशन पर हैं।

अपने मिशन का पालन करते हुए, कंपनी और उसके शेयरधारक आईटी, शिक्षा, पर्यावरण सुरक्षा, हेल्थ केयर, कला और खेल के क्षेत्रों में नॉन-प्रॉफिट प्रोजेक्टों के लिए अधिक संसाधन उपलब्ध कराएंगे। कंपनी इस प्रकार के कार्यक्रमों को शुरू करने और संचालित करने में सफल रही है, जिसमें एक प्रमुख उदाहरण है बिगिनआईटी, यह एक सामाजिक और शैक्षिक परियोजना है, जो अनाथों और कम आय वाले परिवारों के बच्चों को आईटी में प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने का मौका देती है। समय के साथ, ऐसी परियोजनाओं की संख्या और पैमाने में वृद्धि होगी, क्योंकि हम विकास और विकास के लिए सेवाओं, शिक्षा और अन्य अवसरों तक उचित पहुंच प्रदान करने का प्रयास करते हैं।

 रीइन्वेंटेड इनड्राइव ब्रांड की विशेषता वाला पहला वैश्विक एड कैंपेन टेक्नोलॉजी को मानवीय बनाने के विचार पर आधारित है। उद्योग जगत में मशीन एल्गोरिदम के उपयोग के विपरीत, इनड्राइव के पीयर-टू-पीयर मॉडल में जटिल एल्गोरिदम शामिल नहीं हैं। इनड्राइव में, हम मानते हैं कि लोग हमेशा सीधे बातचीत कर सकते हैं। "लोगों से लोगों" का हमारा मार्गदर्शक सिद्धांत अपरिवर्तित रहेगा और अब कंपनी के नारे - "पीपल ड्रिवेन" में यह दिखता है।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम