Skip to main content

लोगों को साथ लाने वाला मुंबई का आकर्षण अब लखनऊ के गोमती नगर की गलियों में

लोगों को साथ लाने वाला मुंबई का आकर्षण अब लखनऊ के गोमती नगर की गलियों में

लखनऊ: फ्लैगशिप आउटपोस्ट, सांस्कृतिक धरोहर से समृद्ध नवाबों की इस नगरी में अपने दरवाज़े खोल रहा है एक ऐसे रेस्टोरेंट के लिए जो रोज़मर्रा के जीवन में हर किसी का पसंदीदा है। ईरानी कैफे 2.7 मुंबई में स्थानीय पारसी कैफेज़ की दम तोड़ती धरोहर को एक श्रद्धांजलि है और यह बीते हुए कल के जोश, अनूठेपन और हलचल का शानदार प्रतीक है। यह रेस्ट्रो विंटेज और मॉडर्न डिज़ाइन का मिक्स है जो इसे शहर के सभी आयु वर्ग व पसंद के लोगों के लिए मिलने की शानदार जगह बनाता है।

ईरानी कैफे 2.7 की फाउंडर पूजा रावत सेठी ने बताया, ''दुनिया भर के हमारे ग्राहकों के लिए ईरानी कैफे 2.7 के दरवाज़े खोलकर हम बहुत उत्साहित महसूस कर रहे हैं। इसका माहौल और मेन्यू ग्राहकों को इनोवेटिव स्थानीय व्यंजनों- पारसी व आधुनिक भारतीय- का विकल्प देता है जिन्हें देश ही नहीं बल्कि दुनियाभर में पसंद किया जाता है।''

शहर का दिल कहलाने वाले हिस्से में हाल में खुला यह अपस्केल रेस्टोरेंट अपने इंटीरियर्स, माहौल और मेन्यू के साथ इस शहर की चिरकालिक वास्तुकला धरोहर का जश्न मनाता है। यहां किताबों के शौकीनों के लिए समर्पित एक अलग सेक्शन है जहां वे अंदर एक शानदार सेटिंग में शांति से बैठकर पढ़ सकते हैं और गोमती नगर में होने के कारण यह कॉलेज के छात्रों, कॉर्पोरेट मीटिंग्स, पारिवारिक समारोह, लंच, शाम की कॉफी और डिनर के लिए बिल्कुल उपयुक्त जगह है। इसका चिक और जोशीला इंटीरियर अपने आप में एक नया अनुभव देता है और रेट्रो प्रॉप्स, एंटीक कलेक्शंस जैसे केरोसीन से चलने वाले पंखे, रेलवे की वज़न तोलने की मशीन, ओरिजिनल मर्फी रेडियो, एंटीक वासेज़, बर्तन, ग्रामोफोन, फोन, टाइपराइटर्स और ऐसी कई पुरानी वस्तुओं के ज़रिए यह बीते ज़माने की यादें ताज़ा करता है।

यह रेस्टोरेंट डाइनिंग टेबल पर भोजन का लुत्फ उठाने और बेशकीमती यादें बनाने का अवसर देने के ज़रिए लोगों के व्यक्तित्व को दर्शाता है और यह बात इसकी सजावट में भी देखी जा सकती है। विस्तृत मेन्यू के साथ यह रेस्टोरेंट चुन-चुनकर बनाए गए स्वादिष्ट व्यंजनों को परोसने के लिए तैयार है और इनमें से कुछ व्यंजन ऐसे हैं जिन्हें हमेशा पसंद की जाने वाली खानदानी रेसिपी से बनाया जाता है। ईरानी कैफे 2.7 स्थानीय खेतों से बेहतरीन गुणवत्ता वाली और ताज़ी सामग्री खरीदकर बड़े पैमाने पर स्थानीय समुदायों को सपोर्ट करता है और इस तरह समाज निर्माण में भी योगदान करता है।

बेहद सावधानी के साथ डिज़ाइन किया गया यह मेन्‍यू कस्टमाइज़ है जिसमें सल्ली मारघी, मजलिसी कबाब, इस क्षेत्र में बेहद पसंद किया जाने वाला निमोना ए लौंगलता और नवरत्न कबाब भी शामिल हैं, जो मेहमानों को पारसी++ युग के स्वादिष्ट व्यंजनों की दुनिया में ले जाते हैं। इसके साथ ही, इनोवेटिव कैफे ऐंड बेवरेज मेन्यू में कैफे की स्पेशिएलिटी कॉफी व ईरानी चाय भी है और चाय व कॉफी के दीवाने क्रोसां, सैंडविच व बर्गर के साथ इनका लुत्फ उठा सकते हैं। इसका गर्मजोशी से भरा और खुशनुमा माहौल आपका दिल जीत लेगा और आपको बार-बार यहां आने पर मजबूर करेगा।

नवाबों की नगरी हमेशा ही अपने असली व्यंजनों, स्ट्रीट फूड और हमेशा दिल जीतने वाली तहज़ीब के लिए मशहूर रही है। इसके अलावा, सोशल मीडिया व इंटरनेट के बढ़ते प्रभाव के कारण उत्तर प्रदेश के मिलेनियल्स भी कई नई चीज़ों से वाकिफ हो रहे हैं और अब ग्राहकों की मांगों को पूरा करने के लिए कई नए कैफे व रेस्टोरेंट्स खुलने से लखनऊ का माहौल भी बदल गया है।

लखनऊ में काफी आकर्षण हैं विशेष तौर पर उन नवाबों के लिए जिन्हें बेहद सभ्य, प्यारे बगीचों, बैलेड्स, संगीत और बेहतरीन पाक कला वाली ईरानी संस्कृति पसंद है।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम