Skip to main content

इंडिया का फेमस सलोन ग्रुप नैचुरल्स करेगा एसिड अटैक सर्वाइवर्स की मदद

इंडिया का फेमस सलोन ग्रुप नैचुरल्स करेगा एसिड अटैक सर्वाइवर्स की मदद 

लखनऊ, भारत के सबसे प्रतिष्ठित सलोन ब्रांड में से एक नैचुरल्स ने एसिड अटैक सर्वाइवर्स की संस्था छांव फाउंडेशन के साथ एक करार किया और घोषणा की कि देश भर में रह रही एसिड अटैक की सर्वाइवर्स को हर संभव मदद की जाएगी। लखनऊ के होटल रेनैंसा में इस विषय पर एक गोष्ठी का आयोजन हुआ जिसमें उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक भी बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे | शीरोज हैंगआउट कैफे पर कार्यरत एसिड अटैक सर्वाइवर्स, नैचुरल्स के संस्थापक सी०के० कुमार और छांव फाउंडेशन के संस्थापक निदेशक आलोक दीक्षित ने एक करारनामा पर हस्ताक्षर किए और तय किया कि सर्वाइवर्स को हो रही मुश्किलों के लिये मिल कर समाधान निकालेंगे।

इस करारनामे के तहत नैचुरल्स सलोन एसिड अटैक की स्वाइवर्स को ब्यूटी और मेकअप जैसी रोजगारपरक प्रशिक्षण देकर आत्म निर्भर बनाएगा । शुरूआत शीरोज हैंगआउट पर काम कर रही पांच सर्वाइवर्स को प्रशिक्षण सहायता और नौकरी देने से की गई है। इस कार्यक्रम में  आयोजिका साधना जग्गी, डॉo गरिमा जग्गी, कर्नल एके जग्गी और कई गणमान्य व्यक्ति भी मौजूद रहे।

  • नहीं होगा किसी तरह का भेदभाव 

नैचुरल्स के मुखिया सी० के० कुमार ने घोषणा की कि नैचुरल्स कंपनी एसिड अटैक सर्वाइवर्स के दर्द को समझती है और आश्रस्त करती है कि कंपनी के भीतर एसिड, बर्न और अन्य विकलांगता के सर्वाइवर्स को न केवल बराबरी के अवसर मिलेंगे, बल्कि एक कदम आगे बढ़ते हुए कंपनी इन वर्गों के लिये विशेष आरक्षण लागू करेगी। कुमार अवेल ने कहा कि इस सिविल सोसाइटी के सभी तबकों को साथ आने की जरूरत है जिससे इस तरह के जघन्य अपराधी पर लगाम लगाई जा सके। नैचुरल्स जल्द ही देश भर के अपने 750 से भी ज्यादा सलोन में इस योजना को लागू करेगा। 

  • एसिड अटैक सर्वाइवर्स को मिली नौकरी 

बैठक में एसिड अटैक सर्वाइवर्स ने अपनी समस्याएं रखते हुए बताया कि अटैक के बाद चेहरे बुरी तरह जल जाने के कारण तमाम बार सर्वाइवर्स को नौकरी और काम मिलने में समस्याएं आती हैं। अकसर उनकी योग्यता को अनदेखा कर उनके चेहरों को देखते हुए काम नहीं मिलता है। ब्यूटी इंडस्ट्रीज में तो यह भेदभाव और भी गहरा है और एक सामान्य मान्यता बन गई है कि अगर ऐसी महिलाओं को काम पर रखा तो सलोन पर आने वाले ग्राहकों को यह पसंद नहीं आएगा। लेकिन इस मिथक को लखनऊ के गोमतीनगर स्थित शीरोज हैंगआउट ने पूरी तरह तोड़ दिया है जहां न केवल रोजमर्रा के अतिथि खाना खाने और अन्य कार्यक्रमों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं बल्कि समाज के अग्रणी लोग भी शीरोज पहुँचकर महिलाओं का मनोबल बढ़ाते रहते हैं। नैचुरल्स ने घोषणा की कि उनका सलोन भी एसिड अटैक सर्वाइवर्स की इस मुहिम में उनके साथ है और भरोसा दिलाया कि उनके सलोन पर ज्यादा से ज्यादा संख्या में एसिड सर्वाइवर्स को रोजगार दिया जाएगा। 

नैचुरल्स देश भर में 750 से भी ज्यादा सलोन और ट्रेनिंग सेंटर संचालित करता है और हाल ही में लखनऊ के इंदिरा नगर इलाके में एक नया सलोन खोला गया है। 

  • प्रदेश की सरकार एसिड अटैक सर्वाइवर्स की मदद के लिये प्रतिबद्ध 

कार्यक्रम में शिरकत करने पहुँचे प्रदेश के उप मुखिया बृजेश पाठक जी ने व्यक्तिगत तौर पर शीरोज की लड़कियों से मुलाकात कर उनकी आपबीती सुनी। साथ ही उन्होंने शीरोज हैंगआउट द्वारा एसिड अटैक सर्वाइवर्स के लिये चलाए जा रहे कार्यक्रमों की सराहना की। एसिड अटैक सर्वाइवर्स ने सरकार से पुनर्वास योजनाओं को बेहतर करने, मुआवजा बढ़ाने और अपराधियों को जमानत न देने की मांग उप मुख्यमंत्री से की जिसपर उन्होंने सकारात्मक आश्वासन दिया है। 

  • उत्तर प्रदेश में हैं सबसे ज्यादा एसिड अटैक के मामले 

नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो अनुसार पिछले कई सालों से उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल में एसिड अटैक के सबसे ज्यादा मामले रिपोर्ट हुए हैं। साल 2020 में उत्तर प्रदेश में एसिड अटैक के 30 मामले रिपोर्ट हुए जबकि 2019 में 42, 2018 में 40 मामले प्रकाश में आए थे। हालाँकि पिछले कुछ सालो से उत्तर प्रदेश में इस तरह के मामले कम हुए हैं फिर भी पश्चिम बंगाल के बाद उत्तर प्रदेश एसिड अटैक के मामलो में दूसरे नंबर पर है। 

इस विषय पर कुंती, एसिड अटैक सर्वाइवर, शीरोज़ हैंगआउट ने बताया की अटैक के बाद मेंरे लिए इलाज की हमेशा ही चुनौतीपूर्ण रहा है लेकिन उतना ही कठिन था रोजगार ढूंढ पाना। शीरोज़ हैंगआउट पर रोजगार मिलने के बाद मैं न सिर्फ आत्मनिर्भर हो पाई बल्कि अपने परिवार को भी मैंने आर्थिक तौर से मदद की है । शीरोज़ हमें आत्मनिर्भर बनाने के लिए कई तरह के प्रयास करता है जिसमें हमें बहुत सी ट्रेनिंग भी दीं जाती हैं । नैचुरल्स के साथ इस प्रयास में जुड़ने पर मुझे लगता है कि हम सर्वाइवरस नई ट्रेनिंग ले पाएंगे और हमें रोजगार के और भी अवसर मिलेंगे । 

शीरोज की लड़कियों ने आज हिम्मत की जो मिसाल पेश की है उसकी सराहना देश में ही नहीं बल्कि समूचे विश्व में हो रही है। प्रदेश सरकार की ओर से हर संभव कोशिश कर एसिड अटैक सर्वाइवर्स के लिये रोजगार का सृजन किया जाएगा। इस तरह के गंभीर अपराधों के खिलाफ प्रशासन को और ज्यादा सख्ती दिखाने की आवश्यकता है और यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि अपराधी सलाखो के पीछे पहुँचाए जाएं। 

आलोक दीक्षित, संस्थापक, छाँव फाउंडेशन छाँव फाउंडेशन तेजाब पीड़ित सर्वाइवर्स के पुनर्वास के लिए प्रयासरत है जिसमें रोजगार एवं प्रशिक्षण हमेशा ही एक मुख्य बिन्दु रहा है | आने वाले वर्षों में, हम इन सर्वाइवर्स के सशक्तिकरण को देखेंगे जो निश्चित रूप से एक प्रभाव पैदा करेंगे और यह साबित करेंगे कि "विकलांगता एक अक्षमता नहीं है'। इस तरह की पहल 10 साल के प्रयासों का लाभ है और उम्मीद है कि हम और अधिक सवईवर्स को रोजगार प्रदान करने में सक्षम होंगे 

सी०के० कुमार अनवेल संस्थापक, नैचुरल्स 'इंसान को एक मछली दो उसे एक दिन खिलाने में मदद करो, इंसान को मछली पकड़ना सिखाओ, उसे जीवन भर खिलाओ"। हम यही मानते हैं, इस पहल के साथ हम इन सर्वाइवर्स के लिए रोजगार के अवसर पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम