Skip to main content

एएमए हर्बल अमेजिंगफार्म्स के माध्यम से नील की खेती को देगा बढ़ावा

एएमए हर्बल अमेजिंगफार्म्स के माध्यम से नील की खेती को देगा बढ़ावा

लखनऊ, 22 जुलाई, 2022: राजधानी स्थित विश्व की अग्रणी हर्बल डाई उत्पादक एएमए हर्बल ने अमेजिंगफार्म्स के माध्यम से नील यानि इंडिगो की खेती को बढ़ावा देने की घोषणा की है। इसके तहत एएमए हर्बल सतत विकास के क्षेत्र में अपना योगदान देने के लिए डाई इंडस्ट्री में प्रयोग किये जाने वाले कृषि उत्पादों का उत्पादन करेगी। एएमए हर्बल ने हाल ही डेनिम इंडस्ट्री में रंगाई के लिए प्रयोग की जाने वाली इंडिगो डाई के लिए नील की खेती की शुरुआत की। नील की फसल की किसानों के एक समूह ने राजधानी लखनऊ के बाहरी इलाके के प्रयोग के तौर पर बुवाई की थी। नील की फसल के परिणाम बेहद उत्साहजनक रहे और किसानों ने इसे नियमित तौर पर उगाने का फैसला लिया है।

श्री हम्ज़ा ज़ैदी, वाईस प्रेसिडेंट, सस्टेनेबल बिजनेस अपॉर्चुनिटीज, एएमए हर्बल ने बताया, "इंडिगो या नील का वैज्ञानिक नाम इंडिगोफेरा टिंक्‍टोरिया है। इस फसल की खास बात यह है कि इसकी एक वर्ष में दो बार कटाई की जा सकती है। साथ ही इस फसल के लगाने से खेत की मिट्टी अधिक उपजाऊ होती है।"

श्री जैदी ने बताया ,"अमरसंडा और आसपास के इलाके में किसान परंपरागत तरीके से पिपरमेंट की खेती करते आए हैं, जिसकी लागत अधिक पड़ती है। जबकि नील या इंडिगो की खेती से उन्हें पहले से लगभग 30 फीसदी अधिक का लाभ प्राप्त हुआ, जो उनके लिए काफी उत्साहवर्धक रहा। इससे पहले हम तमिलनाडु से नील मंगाकर डाई का उत्पादन करते थे, जो कि डाई की उत्पादन लागत बढ़ा देता था। अब लखनऊ के पास ही इसकी सफल खेती होने से किसानों और हमारी कंपनी दोनों को लाभ प्राप्त होगा। हमने इसकी खेती के लिए किसी तरह के रासायनिक खाद या कीटनाशकों का प्रयोग नहीं किया है। साथ ही सिंचाई के लिए स्प्रिंकलर्स का प्रयोग किया जिससे परम्परागत सिंचाई के मुकाबले 70 फीसदी तक पानी की बचत हुई।"

एएमए हर्बल के को-फाउंडर व सीईओ, श्री यावर अली शाह ने बताया, "हमने लागत को कम करने और मुनाफे में सुधार के उद्देश्य से लखनऊ के बाहरी इलाके में नील की खेती शुरू की थी। अब उसके बेहद उत्साहजनक परिणाम सामने आ रहे हैं। हम दुनिया में प्राकृतिक नील रंग के प्रमुख निर्यातकों में से एक हैं। वस्त्र उद्योग में इसके लिए जोर देने के बाद बायो इंडिगो डाई की मांग काफी बढ़ गई है।’’

श्री शाह ने बायो इंडिगो के डेनिम रंगाई में होने वाले लाभ के बारे में बताते हुए कहा, "एक किलोग्राम सिंथेटिक इंडिगो की जगह बायो इंडिगो प्रयोग किया जाए तो कम खर्च और प्रयास में 10 किलोग्राम तक कार्बन फुटप्रिंट को कम किया जा सकता है। बायो इंडिगो उन चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए बनाया गया है, जिनके चलते कपड़ा उद्योग लगातार प्रदूषण के बढ़ते स्तर की समस्या का सामना कर रहा है।  लाइफ साइकल एनालिसिस (एलसीए) रिपोर्ट में भी इस तथ्य की पुष्टि हुई है। यदि हमें सतत विकास के उद्देश्य को प्राप्त करना है तो इसके लिए आज से ही प्रयास करने होंगे।"

कृषि वैज्ञानिक जिया नील की फसल की खासियत बताती हैं, "नील की फसल भी अन्य दलहनों और फली वाली फसलों की तरह ही फलीदार फसल है, इसकी जड़ों में नाइट्रोजन स्थिरीकरण करने वाले बैक्टेरिया होते हैं, जो वायुमंडल से नाइट्रोजन सोखकर जमीन की उर्वरा क्षमता को बढ़ाते हैं।"

इलाके में नील की खेती शुरू करने वाले किसान राम खिलावन, इस फसल की पैदावार देखकर काफी उत्साहित हैं और कहते हैं, "किसी भी फसल को इसे आवारा मवेशियों से बचाना एक किसान के लिए बड़ी चुनौतियों में से एक है। नील की फसल के साथ सबसे बड़ा फायदा यह है कि आवारा पशु नहीं खाते हैं। इससे फसल के नुकसान की संभावना कम हो जाती है और पैदावार की कीमत बढ़ जाती है।"

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम

गन्ने वाली गली बाज़ार (अमीनाबाद ) व्यापार मंडल का हुवा गठन

गन्ने वाली गली बाज़ार (अमीनाबाद ) व्यापार मंडल का हुवा गठन आज लखनऊ युवा व्यापार मंडल नगर अध्यक्ष मनीष गुप्ता एवं महामंत्री प्रियांक गुप्ता द्वारा लखनऊ अमीनाबाद स्थित प्राचीन  गन्ने वाली गली बाजार  व्यापार मंडल का गठन किया गया। समस्त व्यापारीयो ने एक जुट हो गन्ने वाली गली व्यापार मंडल के अध्यक्ष के रूप मे मोहित केसवानी, महामंत्री पद पर अंकुर गुप्ता, एवं कोषाध्यक्ष विजय त्रिपाठी तथा वरिष्ठ उपाध्यक्ष मोहम्मद तौहीद, उपाध्यक्ष मोहम्मद जलील, इरशाद एवं संगठन मंत्री पद पर सौरभ सोनकर,सनी जयसवाल, एवं मंत्री पद पर मो राजू, अमित अग्रवाल,सर्वेश साहू सक्रिय सदस्य के रूप मे मोहम्मद सलमान,शदाब,चन्दन, अभिनव गुप्ता, रिशु सोनकर,सौरना सोनकर,अंकित सोनकर का चयन किया। स्थानीय कारोबारियों के अनुसार साठ के दशक मे गन्ने वाली गली मे गन्ने  की बड़ी बाज़ार लगती थी दूर दूर से गन्ना व्यापारी गन्ने की खरीद फरोक्त करने यहा आते थे। तभी से इसका नाम गन्ने वाली गली पड़ा। वर्तमान मे कॉस्मेटिक, चूड़ी, गिफ्ट, अकोरियम, सीसा, जर्नल स्टोर की होलनसेल दुकाने है।  नगर युवा अध्यक्ष मनीष गुप्ता ने सभी नवनियुक्त पदाधिकारियों को व्यापार मं