Skip to main content

अपोलोमेडिक्स हॉस्पिटल में शुरू हुई पार्किंसन क्लिनिक

अपोलोमेडिक्स हॉस्पिटल में शुरू हुई पार्किंसन क्लिनिक

  • प्रदेश का पहला हॉस्पिटल जहां पार्किंसन के मरीजों के लिए डीबीएस की सुविधा होगी 
  • विश्व पार्किंसन दिवस के अवसर पर हॉस्पिटल में पार्किंसन के मरीजों के साथ आयोजित हुआ हेल्थ टॉक 

लखनऊ 11 अप्रैल 2022: अपोलोमेडिक्स हॉस्पिटल ने विश्व पार्किंसन दिवस के अवसर पर विशेष पार्किंसन क्लीनिक की शुरुआत की घोषणा की। इसमें पार्किंसन के मरीजों को संपूर्ण इलाज एक ही छत के नीचे मिल जाएगा। विश्व पार्किंसन दिवस के अवसर पर विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा एक हेल्थ टाक का आयोजन किया गया, जिसमें लोगों को पार्किंसन बीमारी के लक्षण और उसके इलाज के बारे में जानकारी दी गई। अपोलोमेडिक्स हॉस्पिटल, निजी क्षेत्र में पहला ऐसा हॉस्पिटल होगा जहां पार्किंसन के मरीजों के लिए डीबीएस (डीप ब्रेन स्टीम्यूलेशन) सर्जिकल ट्रीटमेंट भी शुरू किया जा रहा है। 

अपोलोमेडिक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल लखनऊ के एमडी और सीईओ, डॉ. मयंक सोमानी ने कहा, "पार्किंसंस के रोगियों का इलाज प्रारंभिक चरणों में चिकित्सकीय रूप से किया जाता है और बाद में रोगी के ठीक होने पर रिहैब्लिटेशन और फिजियोथेरेपी के बाद सर्जरी की आवश्यकता होती है। अपोलोमेडिक्स लखनऊ अब एक ही छत के नीचे पार्किंसन के लिए हर तरह का इलाज मुहैया कराएगा। उन्होंने बताया कि डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (डीबीएस) एक उपकरण को प्रत्यारोपित करने की एक सर्जरी है जो शरीर की गति के लिए जिम्मेदार मस्तिष्क के क्षेत्रों को इलेक्ट्रोनिक संकेत भेजता है। यह सबसे उन्नत सर्जिकल प्रक्रियाओं में से एक है जो पार्किंसंस के रोगियों को बेहतर जीवन जीने में मदद करती है। यह एक बहुत ही जटिल सर्जरी है जिसके लिए न केवल कुशल सर्जन बल्कि अल्ट्रामॉडर्न क्रिटिकल केयर सुविधाओं से संपन्न रेडियोलॉजिकल और एनेस्थेटिक विशषज्ञाें की आवश्यकता होती है। हमें यह घोषणा करते हुए गर्व हो रहा है कि अपोलोमेडिक्स अस्पताल इस क्षेत्र का पहला निजी अस्पताल होगा और भारत में बहुत कम अस्पतालों में से होगा जो डीबीएस सर्जरी प्रदान करता है।

प्रो. यूके मिश्रा, एचओडी न्यूरोसाइंसेज ने कहा, "पार्किंसंस रोग एक मस्तिष्क विकार है जिसमें रोगी को कंपकंपी, जकड़न और चलने में संतुलन और समन्वय में कठिनाई होती है। हालांकि, पार्किंसन किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन यह 60 साल से अधिक उम्र के लोगों में अधिक देखने को मिलता है।"अपोलोमेडिक्स अस्पताल के वरिष्ठ सलाहकार, डॉ गोपाल पोडुवल ने कहा, "पार्किंसंस केंद्रीय तंत्रिका तंत्र का एक विकार है जिसमें चलना-फिरना मुश्किल हो जाता है, इसमें अक्सर झटके भी आते हैं। दुनिया में लगभग 10 मिलियन लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं और हर साल भारत में इसके कई मामले सामने आते हैं।

इसके साथ ही शाम को अस्पताल परिसर में स्वास्थ्य वार्ता का आयोजन किया गया जिसमें डॉ. गोपाल व डॉ. यू.के. मिश्रा ने पार्किंसन रोग के चिकित्सा प्रबंधन के बारे में विस्तार से बताया. वहीं डॉ सुनील कुमार सिंह ने पार्किंसंस रोग के सर्जिकल प्रबंधन के बारे में बताया। उन्होंने कहा, 'पार्किंसंस का इलाज उसकी गंभीरता के हिसाब से किया जाता है। सबसे पहले हम इसे दवा से नियंत्रित करने की कोशिश करते हैं जो शरीर में डोपामाइन और हार्मोन बनाती है। एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन भी दिए जाते हैं। यदि दवाएं काम नहीं करती हैं, तो सर्जरी की जाती है जिसमें मस्तिष्क को डोपामाइन तैयार करने के लिए प्रेरित किया जाता है।

विभागाध्यक्ष फिजियोथेरेपी डॉ योगेश मांध्यान (पीटी) ने पार्किंसन के रोगियों को विभिन्न प्रकार के फिजियोथेरेपी अभ्यासों के बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने कहा, "आजकल, पार्किंसन के रोगियों के इलाज के लिए डांस थेरेपी भी बहुत प्रचलित हो गई है जिसके माध्यम से वे थेरेपी करते हुए आनंद ले सकते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम