Skip to main content

आज का यूपी सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में शीर्ष- शांतनु

आज का यूपी सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में शीर्ष- शांतनु  

  • योगी राज में हुआ क्राइम रेट सबसे कम
  • ममता दीदी के गढ़ में मची योगी आदित्यनाथ के किताब की धूम
  • फिर होगी योगी राज में कानून-व्यवस्था और भी बेहतर  

लखनऊ/नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बायोग्राफ़र शान्तनु गुप्ता, ने ममता दीदी के कोलकाता में अपनी नवीनतम पुस्तक - द मोंक हू ट्रैन्स्फ़ॉर्म्ड उत्तर प्रदेश का लॉंच किया । चर्चित अर्थशास्त्री और लेखक हर्ष मधुसूदन और राजीव मंत्री के साथ कोलकत्ता में किताब पर लम्बी चर्चा हुई। इस चर्चा के दौरान शान्तनु ने विस्तृत रूप से बताया कि योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश की कानून-व्यवस्था, वायु और सड़क कनेक्टिविटी, शिक्षा व्यवस्था, स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे, बिजली, औद्योगिक विकास, कृषि और अन्य जैसे विभिन्न पहलुओं में अमूलचूर बदलाव लाया है ।

बता दे पहले उत्तर प्रदेश बिमारू प्रदेशों की सूची में आता था और आज इकॉनमी, बिज़्नेस और सरकारी योजनाओं के करियाँवन में शीर्ष पर है । वहीं कोलकाता में चर्चा के शुरुआत, राजीव मंत्री ने उत्तर प्रदेश की क़ानून व्यवस्था के प्रश्नों से शुरू की। इसके उत्तर में लेखक शांतनु गुप्ता ने बताया कि, सपा और बसपा सरकारों के शासन में यूपी की राजनीति में तीन चीजों को संस्थागत रूप दिया गया हैं - गुंडा राज, व्यापक भ्रष्टाचार और उच्च स्तर का भाई-भतीजावाद। भ्रष्टाचार यूपी के मूल व्याकरण का हिस्सा बन गया था । उन वर्षों के दौरान अपराध संख्या के अलावा, यूपी के सभी विकास सूचकांक बहुत कम रहे है। केवल एक उद्योग, जो उन वर्षों में उत्तर प्रदेश से लाभान्वित हो रहा था, वह था बॉलीवुड - जिसने यूपी से अपने कई आपराधिक थ्रिलर दृश्यों के लिए प्रेरणा मिलती थी।

यूपी वह प्रदेश बन गया था जहां मुलायम सिंह यादव ने जघन्य बलात्कारियों का बचाव करते हुए कहा था - "लडके हैं, गल्ती हो जाती है"। NCRB २०२१ के आकड़ों से सिद्ध होता है कि पिछले सात साल में, योगी आदित्यनाथ के शासन काल में, क्राइम रेट सबसे काम हुआ है। शान्तनु गुप्ता ने बताया की हार्वर्ड में योगी आदित्यनाथ पर चर्चा मुख्य रूप से इस विषय के इर्द-गिर्द घूमती रही - कि एक धार्मिक संत किसी भी राज्य के शासन में क्या अलग मूल्य जोड़ सकता है। इस पर शांतनु ने उत्तर दिया कि यद्यपि नीति निर्माण, नीति कार्यान्वयन, राजनीतिक अभियान आदि के लिए पर्याप्त विद्वता और साहित्य है, लेकिन दुनिया भर के लोकतंत्र ईमानदार और गैर-भ्रष्टाचारी राजनीतिक नेताओं को पैदा करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। ईमानदार नेताओं को पैदा करने के तरीकों पर कोई विद्वता, पुस्तक और साहित्य नहीं है। शांतनु ने कहा कि दुनिया भर के देशों को गैर-भ्रष्ट राजनीतिक नेताओं की जरूरत है, लेकिन ऐसे नेताओं को तैयार करने के लिए कोई स्थापित प्रक्रिया या कारखाना नहीं है।

इसी के आगे शांतनु ने आगे कहा कि भारत में 'राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ' (आरएसएस) और संयुक्त राज्य अमेरिका में इसके समकक्ष, 'हिंदू स्वयंसेवक संघ' (एचएसएस) ‘व्यक्ति निर्माण’ अर्थात 'सामाजिक रूप से जागरूक इंसान के विकास' पर केंद्रित है, जो मानवता के निःस्वार्थ सेवा की अवधारणा पर केंद्रित है। भारत की संत परम्परा भी त्याग करना सिखाती है। ‘व्यक्ति निर्माण’ की धारणा व संत परम्परा – दोनो ही अच्छे समर्पित निःस्वार्थ नेताओं को तैयार करने के लिए सभी लोकतंत्रों में एक समाधान हो सकता है।

शांतनु ने ऐतिहासिक पृष्ठभूमि के साथ अपनी बात शुरू करते हुए कहा कि मार्च 2017 में, जब बीजेपी ने योगी आदित्यनाथ को अपनी भूस्खलन की जीत के बाद मुख्यमंत्री के रूप में नामित किया था, तो कई राजनीतिक पंडितों ने उन्हें सीएम के कार्यालय की शपथ लेने से पहले भी लिखा था। विश्लेषकों ने सोचा कि एक भगवा पहना हुआ महंत केवल धर्म में सबक सिखा सकता है और शासन चाय का प्याला नहीं है। यह एक आलसी विश्लेषण था या फिर अपने भगवा पोशाक के लिए सबसे अच्छा था। कार्यालय में 4.5 साल - योगी ने उन्हें सभी को गलत साबित कर दिया हैं।

शांतनु ने आगे कहा कि योगी आदित्यनाथ सरकार ने उत्तर प्रदेश जैसे राज्य में पिछले 4.5 वर्षों में क्या हासिल किया है, जो सभी विकास सूचकांक के नीचे था, एक चमत्कार से कम नहीं है। अखिलेश यादव के समय में एकमात्र सूचकांक एकमात्र सूचकांक, मुलायम सिंह यादव और मायावती 'अपराध' था। संसद के पांच बार सदस्य योगी को पता था कि राज्य में उद्यमियों के विश्वास को फिर से स्थापित करने के लिए समृद्धि को वापस लाने के लिए, उसे प्राथमिकता पर राज्य के कानून और व्यवस्था को ठीक करने की आवश्यकता है। उसने कार्य को हेड-ऑन लिया। पुलिस बल की रैंक और फ़ाइल में 1.5 लाख पुलिस कर्मचारियों को जोड़कर, प्रत्येक जिले में हिस्ट्री शीटर और माफिया को रणनीतिक रूप से लाने, भूमि हथियारों और विरूपणवादी व्यवसायों की रक्षा करे।

रिपोर्टिंग : आरिफ मुकीम 

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम