Skip to main content

बैडमिंटन एकेडमी लखनऊ की चरनजीत कौर ने युगांडा पैरा बैडमिंटन इंटरनेशनल 2021 में दो कांस्य पदक जीते।



बैडमिंटन एकेडमी लखनऊ की चरनजीत कौर ने युगांडा पैरा बैडमिंटन इंटरनेशनल 2021 में दो कांस्य पदक जीते।

लखनऊ 24 नवंबर, 2021: गौरव खन्ना एक्सेलिया बैडमिंटन एकेडमी लखनऊ की चरनजीत कौर ने युगांडा पैरा बैडमिंटन इंटरनेशनल 2021 में दो कांस्य पदक (ब्राउंज़ मेडल) जीत लिए हैं। युगांडा पैरा बैडमिंटन इंटरनेशनल 2021 कंपाला शहर के एमटीएन एरेना लुगोगो स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में 15 नवंबर से 21 नवंवर तक चला।

इसके पहले चरनजीत, दुबई पैरा बैडमिंटन इंटरनेशनल 2021 में दुबई से कांस्‍य पदक (ब्राउंज़ मेडल) जीत कर वापस लौटी थी, जिसके तुरंत बाद चरनजीत ने केरल में इंडिया के फर्स्ट पैरा मास्‍टर्स नेशनल इंडोर गेम्‍स 2021 में फिर स्‍वर्ण पदक (गोल्ड मेडल) भी जीता था पैरा बैडमिंटन में।

चरनजीत पटियाला की जन्‍मी; शादी के बाद दिल्‍ली में रहते हुए, आगे बढ़ने के लिए परिवार के समर्थन से, लखनऊ के गौरव खन्ना एक्सेलिया बैडमिंटन एकेडमी पहुंची और वहां से आगे की शुरुआत की, पूरी तैयारी इस एकेडमी में रहकर करते हुए। इस एकेडमी ने उन्‍हें बहुत साहस दिया है और बहुत आगे बढ़ाया है हर तरह से सारी ट्रेनिंग देते हुए ताकि चरनजीत हमारे देश भारत का नाम ऐसे ही रोशन करती रहे।

Comments

Popular posts from this blog

नाकामियों को छुपाने को लेकर पत्रकारों पर कराया जा रहा हमला-पूर्व मंत्री कमाल यूसुफ मलिक

नाकामियों को छुपाने को लेकर पत्रकारों पर कराया जा रहा हमला-पूर्व मंत्री कमाल यूसुफ मलिक डुमरियागंज , विगत दिनों सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में L2 कोविड अस्पताल के उद्घाटन के समय पत्रकार के साथ मारपीट की घटना काफी निंदनीय है जिसकी जांच कराते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए उक्त उदगार व्यक्त करते हुए डुमरियागंज के पूर्व विधायक/पूर्व मंत्री कमाल युसूफ मलिक ने कहा कि पत्रकार लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है लेकिन जिस तरीके से प्रशासन के आला अधिकारी व जनप्रतिनिधि मौजूद थे और लोगों ने उनके साथ मारपीट किया यह अशोभनीय घटना है तथा लोकतंत्र पर कड़ा प्रहार है। सच्चाई दिखाने को लेकर पत्रकार के साथ मारपीट किया गया। उन्होंने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि उच्च स्तरीय कमेटी बनाकर जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की जाए ताकि कोई भी भविष्य में लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पत्रकारों के साथ ऐसी बदसलूकी ना कर सके उन्होंने कहा कि उनके द्वारा इस संबंध में अधिकारियों को पत्र भेजते हुए राज्यपाल को इसके जांच के लिए मांग पत्र दिया जाएगा। Report: Malik Wamik

लखनऊ बादशाहनगर स्टेशन पर अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर समारोह का आयोजन

लखनऊ बादशाहनगर स्टेशन  पर अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर समारोह का आयोजन अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर  पर मण्डल परिचालन प्रबन्धक कोचिंग डॉ शिल्पी कनौजिया दुवारा बादशाहनगर स्टेशन  पर महिला दिवस पर समारोह का आयोजन किया गया । कार्यक्रम की शुरुवात मुख्य अतिथि  मण्डल रेल प्रबंधक उपस्थित अधिकारियों व स्टेशन अधीक्षक अभिषेक मिश्र के साथ मिल कर दीपप्रज्वलित किया गया था । महिला दिवस के उपलक्ष्य में बादशाहनगर रेलवे स्टेशन "कोविड 19 की दुनिया में महिलाओ का समान नेतृत्व को प्राप्त करना " विषय   रंगोलो प्रतियोगिता, पोस्टर मेकिंग ,गायन ,फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता का आयोजन महिलाओ के लिए किया गया साथ ही डाउन एएसआई लोको पायलट स्मिता कुमारी,सहायक लोको पायलट आंशिक चौधरी गार्ड जाग्रति त्रिपाठी स्टेशन मास्टर श्रीमती दीपमाला मिश्र श्रीमती रानी दुवारा हरी झंडी को दिखा कर मण्डल प्रबन्धक पूर्वोत्तर  के समक्ष रेल का संचालन सभी महिलाओ दुवारा किया गया जो महिलाओ के बढ़ते नेतृत को दर्शाता है ।  कार्यक्रम में मुख्य अतिथि  मण्डल रेल प्रबंधक डॉ मोनिका अग्निहोत्री रही ।साथ में अन्य प्रमुख अधिकारी  वरिष्ठ मण्डल पर

प्रतिनिधि उद्योग व्यापार मंड़ल लखनऊ की महिला इकाई द्वारा आयोजित महिला अधिकार सम्मेलन

प्रतिनिधि उद्योग व्यापार मंड़ल लखनऊ की महिला इकाई द्वारा आयोजित महिला अधिकार सम्मेलन लखनऊ, 16 -12- 2020,  प्रतिनिधि उद्योग व्यापार मंड़ल लखनऊ की महिला इकाई द्वारा आयोजित  लखनऊ, महिला अधिकार सम्मेलन  होटल एक्सप्रेस इन रिंग रोड लखनऊ में आज सम्पन्न हुआ।   सम्मेलन में मुख्य अतिथि मा अनूप शुक्ला जी राष्ट्रीय अध्यक्ष का बड़ी माला तलवार मोमेंटो प्रदान कर ज़ोर दार स्वागत हुआ। समारोह की अध्यक्षता स्नेहलता सिंह प्रदेश महासचिव एवं संचालन राहुल गुप्ता ज़िलाध्यक्ष हिना कैसर ज़िला प्रभारी महिला द्वारा की गई।  सम्मेलन में मुख्य अतिथि मा अनूप शुक्ला जी नेकहा आज महिलायें सुरक्षित नहीं है। जगह जगह महिलाओं पर अपराध की घटनायें बड़ रही है। आज महिलाओं को अधिकार देने एवं आत्म निर्भर बनाने की ज़रूरत है। क़ानून तो बन जाते है पर अधिकारी  महिलाओं को न्याय दिलाने में सक्षम साबित नहीं हो रहे है न्याय के लिए दर दर भटकना पड़ता है। जब घटना आंदोलन का रूप लेती है और मीडिया द्वारा उसको सामने लाया जाता है  तब अधिकारी एवं सरकार जागते है ये कब तक चलेगा। महिलाओं को अपने अधिकारो के लिए सड़कों पर आना होगा तभी न्याय मिलेगा। सर