Skip to main content

सीआरसी लखनऊ के आयोजित कार्यक्रम में बोलीं जया किशोरी, 'बच्चों से पूरी तरह जुड़ने के लिए बेहतरीन समय, करें ये काम'

सीआरसी लखनऊ के आयोजित कार्यक्रम में बोलीं जया किशोरी, 'बच्चों से पूरी तरह जुड़ने के लिए बेहतरीन समय, करें ये काम'

  • 'बच्चे उस ताजे फूल की तरह जिन्हें हम ईश्वर को करते हैं समर्पित' सीआरसी लखनऊ के कार्यक्रम में जया किशोरी ने कही ये बातें

लखनऊ, 20 मई 2021: समेकित क्षेत्रीय कौशल विकास, पुनर्वास एवं दिव्यांगजन सशक्तिकरण केन्द्र (सीआरसी)-लखनऊ  द्वारा 'आध्यात्म और मानसिक स्वास्थ्य-एक सामंजस्य' विषय पर वर्चुअल कार्यक्रम (वेबिनॉर) का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम की शुरूआत डॉ रमेश कुमार पांडेय, निदेशक सीआरसी लखनऊ के संबोधन से हुई। वहीं, कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रसिद्धि प्राप्त अभिप्रेरणात्मक एवं आध्यात्मिक वक्ता सुश्री जया किशोरी जी ने अपनी वर्चुअली उपस्थिति दर्ज करायी।

कार्यक्रम की अध्यक्षता पंडित दीनदयाल उपाध्याय शारीरिक दिव्यांगजन संस्थान की निदेशक श्रीमति स्मिता जयवंत ने की। पीडीयूएनआईपीपीडी (डी) निदेशक ने सुश्री जया किशोरी जी का स्वागत करते हुए कार्यक्रम के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए कार्यक्रम को संबोधित किया। 

इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य महामारी के दौर में दिव्यांगजनों और अभिभावकों के लिए एक प्रेरक वार्ता (मोटिवेशनल स्पीच) आम जनों तक पहुंचाना रहा। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सुश्री जया किशोरी जी ने कहा कि ये बेहतरीन समय है कि अभिभावक अपने बच्चों से पूरी तरह जुड़ सकते हैं, उनके मनोभाव को बेहतर तरह से जान सकते हैं।

जया किशोरी जी ने मानसिक स्वास्थ्य एवं अध्यात्म के परस्पर सामंजस्य स्थापित करने के बारे में अपने अनुभवों को समाहित करते हुए सभी के समक्ष रखा। उन्होंने कहा कि आध्यात्म ही एक ऐसा मार्ग है जो मानसिक एवं शारीरिक रूप से आनंद, उत्साह, ऊर्जा तथा परमात्म भाव को हमारे अंतःकरण में स्थापित करता है। अतः दिन प्रतिदिन के कार्यों में रत होते हुए भी हमें निरंतर आध्यात्मिक चिन्तनों एवं परमार्थी भावों के साथ समाज के बहुमूल्य अंग दिव्यांगजनों हेतु आदरित होना चाहिए।

जया किशोरी जी ने आगे कहा कि बच्चों के प्रति अभिभावक पूरी तरह समर्पित हो, महामारी के दौर में उनके अंदर एक चिड़चिड़ापन आ रहा है। आप बच्चों को इस महामारी के बारे में बताएं, उनके भविष्य को लेकर बताएं कि इस बीमारी से क्या शिक्षा मिल रही है। शिक्षा, यही मिली है कि हमें अपने शरीर की इम्युनिटी मजबूत रखनी है। बच्चों के प्रति अपने बिहेवियर को कंट्रोल में रखना होगा। दिव्यांग बच्चों के लिए खास तौर पर ध्यान देना होगा। उन्हें इंडिपेंडेंट बनने के लिए प्रेरित करने की ओर कदम उठाएं।

उन्होंने कहा कि बच्चों को मौसमी बीमारी से बचाव को लेकर खास केयर करने की जरूरत है। बाहर से आने वाले लोगों से एहतियात बरतने की जरूरत है। घर की साफ-सफाई पर भी विशेष ध्यान देने की जरूरत है, बच्चों को जरा सी भी मौसमी बीमारी उन्हें और चिड़चिड़ा बना सकती है।

'बच्चों को भगवान से जोड़ें'

जया किशोरी जी ने कहा, 'मैं अध्यात्म से जड़ी हूं और भागवत गीता, कथा वाचक हूं। मुझे लगता है कि ये सबसे बेहतरीन समय है कि बच्चों को भगवान के बारे में बताएं। जरूरी नहीं कि भगवान की पूजा पाठ की जाए, भगवान एक उम्मीद लेकर आते हैं। डिप्रेशन दूर करने के लिए सत्संग को बेहतर माना गया है, इसलिए एक उम्मीद लाने के लिए आप कहानियों में भगवान को जोड़कर बच्चों के मन में पॉजिटिव वेब लाएं। भगवान को नया फूल हमेशा समर्पित किया जाता है, ऐसे ही ताजा, भोले और मन के साफ बच्चों को भी भगवान के प्रति समर्पित करना उनके भविष्य को मजबूत बनाता है। आप जिस भी भगवान को मानते हैं, बच्चों को उनसे जोड़कर रखें। ये बेहतरीन अवसर है। ये बेहतरीन समय है कि आप सभी अपने फैमिली बांड को मजबूत कर सकते हैं।'

कार्यक्रम का वर्चुअल प्रसारण विभिन्न सोशल मीडिया साइट पर किया गया। वहीं, सुश्री जया किशोरी जी को सुनने के लिए कार्यक्रम का लाइव प्रसारण देखने के लिए बड़ी संख्या में लोगों ने प्रतिभाग किया।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम