Skip to main content

लखनऊ में दाऊजी का स्मारक बनें : राम नाईक

लखनऊ में दाऊजी का स्मारक बनें : राम नाईक

 लखनऊ के पूर्व महापौर स्वर्गीय डॉ. दाऊजी गुप्त की लखनऊ से आयोजित व्हर्च्युअल श्रद्धांजलि सभा में 19 मई 2021 को उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल श्री राम नाईक का मुंबई से भाषण

लखनऊ के पूर्व महापौर स्वर्गीय डॉ. दाऊजी गुप्त के सम्मान में आयोजित व्हर्चुअल श्रद्धांजलि सभा के निमंत्रक डॉ. पदमेश गुप्त, श्री. रमेश गुप्त और डॉ. वर्तिका गुप्त, उनके परिवार के सभी मान्यवर तथा कोरोना के कारण आयोजित व्हर्चुअल सभा में जुड़े हुए महानुभाव, बहनों और भाइयों !

उत्तर प्रदेश का राज्यपाल के नाते 2014 से 2019 तक राजभवन में मैं हजारों नागरिकों को मिला. उनमें बार – बार कई कारणों से मैं जिन को मिलता था उसमें डॉ. दाऊजी गुप्त अग्रगण्य रहे हैं. जब मेरा राज्यपाल का कार्यकाल समाप्त हुआ. तब वे मुझे मिलने आए थे. उस समय मैं भविष्य में क्या करूंगा इस पर भी एक मित्र के नाते मेरी चर्चा हुई थी. हमारे आत्मीय संबंध बन गए थे. मुंबई जाने के बाद भी दूरभाषद्वारा हमारा संपर्क बना रहा. ऐसे मित्र के – डॉ. दाऊजी गुप्त के निधन का वृत्त जब 2 मई को प्राप्त हुआ, मुझे अतीव दुःख हुआ.

मेरी नजर में स्वर्गीय दाऊजी का वर्णन एक शब्द में करना होगा तो वे ‘सौजन्यमूर्ती’ थे. उच्च विभूषित होने के बाद भी – एम्. कॉम., एलएल. बी. और पीएच्. डी. – विद्या का अहंकार कभी बोलने में सुनाई नहीं देता था.

लखनऊ जैसे महानगर से तीन बार महापौर और एक बार विधान परिषद सदस्य के नाते जो कार्य उन्होंने किया वह निश्चित ही महत्वपूर्ण था. आम आदमी से जुड़े हुए उनके स्नेह से मैं तो आश्चर्यचकित हुआ था.

अंग्रेजों से भारत स्वतंत्र हुआ लेकिन पूर्तूगाल से गोवा मुक्त करने के लिए जो सत्याग्रह आंदोलन हुआ उसमें उन्होंने योगदान दिया. स्व. मनोहर पर्रीकर जब गोवा के मुख्यमंत्री थे और श्री. केदारनाथ सहानी माननीय राज्यपाल थे तब 2003 में उनका भव्य राजकीय सम्मान किया गया, तो माननीय राष्ट्रपति श्री. राम नाथ कोविंद द्वारा राष्ट्रपति भवन में 2015 में सम्मान किया गया.

1975 के आपात्कालीन कालखंड में कांग्रेस सरकार ने लखनऊ के कारागृह में डॉ. दाऊजी को बंदी बनाया था. बाद में उत्तर प्रदेश सरकार ने उनको लोकतंत्र सेनानी का सम्मान प्रदान किया.

साहित्य और पत्रकारिता के क्षेत्र में भी स्वर्गीय दाऊजी का महत्वपूर्ण योगदान था. हिन्दी, उर्दू, अंग्रेजी और तमिल के कई पत्रिकाओं में वे लिखते थे. साथही साथ अमरिका में तीन दशक पूर्व अंतर्राष्ट्रीय विश्व हिंदी समिति गठित हुई थी, उस के डॉ. दाऊजी संस्थापक अध्यक्ष थे और स्थापना के बाद 11 सम्मेलन हुए, उन सभी में उनकी सक्रीय सहभागिता रही.

मुझे तब बड़ा आश्चर्य हुआ कि हिंदी भाषिक होते हुए भी वे तमिल में भी लिखते थे. वर्ष 2015 में तमिलनाडु सरकारने प्रथम बार ही एकमात्र गैर तमिल विद्वान के रूप में तमिलनाडु का महत्वपूर्ण सम्मान ‘पेरियार अवार्ड’ डॉ. दाऊजी को प्रदान किया.

डॉ. दाऊजी गुप्त का व्यक्तित्व और कृतित्व लखनऊ का भूषण रहा है. राजनीति, साहित्य और समाज कार्य में उनका नीजि परिवार भी उनको साथ देता था. डॉ. दाऊजी का निधन मात्र उनके परिवार का ही नहीं तो लखनऊ के सार्वजनिक जीवन की अपुरणीय क्षति है.

स्व. दाऊजी का सामाजिक योगदान सभी के लिए, विशेष रूप से लखनऊवासियों के लिए हमेशा यादगार रहेगा. उनका एक स्मारक लखनऊ में होना चाहिये ऐसा मेरा सुझाव है. यह स्मारक बनाने के लिए मैं भी योगदान देने के लिए तैयार हूं. उस स्मारक के माध्यम से स्व.दाऊजी की स्मृति हमेशा जीवित रहेगी.

मै दिवंगत डॉ. दाऊजी की आत्मा की शान्ति की कामना करते हुए उनके शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं.

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम