Skip to main content

राजाओं की आरटीआई और आरटीआई का राजा

 राजाओं की आरटीआई और आरटीआई का राजा

  • ओयल रियासत ने दिया जिलाधिकारी शैलेन्द्र कुमार सिंह और उप निबन्धक को धन्यवाद
  • आरटीआई के जेठमलानी बने  एक्टीविस्ट सिद्धार्थ नारायण
  • सिद्धार्थ नारायण ने दूढ़े 93 साल पुराने महल के दस्तावेज

लखनऊ, वर्ष 1928 में जब ओयल रियासत जनपद खीरी के तत्कालीन राजा युवराज दत्त सिंह ने अपने महल को किराये पर चढ़ाया था तब वह यह कभी भी नहीं सोच सकते थे कि लगभग एक शतक बाद उनका यह महल आरटीआई की एक मिसाल बन जायेगा।

वर्ष 1928 में राजा ने अपने महल को उस समय के डिप्टी कलेक्टर को 30 वर्षों के लिये किराये पर दिया था। हिन्दुस्तान के आजाद हो जाने के बाद ये किरायेदारी पुनः 30 वर्षों के लिये बढ़ा दी गयी थी। राजा युवराज की मृत्यु वर्ष 1984 में हो गयी। ओयल परिवार ने अपने पुश्तैनी महल के अभिलेखों की छानबीन शुरू की। कई वर्षों तक उपरोक्त अभिलेख को ढूढ़ने का सिलसिला चलता रहाए अन्ततः पूरे प्रकरण को अपने कब्जे में लेते हुए राजा युवराज दत्त सिंह के पोते कुँवर प्रद्युम्न नारायण दत्त सिंह ने स्टार आरटीआई एक्टीविस्ट सिद्धार्थ नारायण को अपनी पुस्तैनी सम्पत्ति की समस्या समझायी।

दो साल की समय सीमा तय की गयी एवं लक्ष्य तय किया गया कि उपरोक्त सम्पत्ति के मूल अभिलेख को खोज लिया जायेगा। इस क्रम में चार आरटीआई याचिकायें जिलाधिकारी कार्यालयए मण्डलायुक्त कार्यालयए वित्त विभाग एवं राजस्व परिषद को पार्टी बनाते हुए सूचना मांगी गयी। सारी आरटीआई धारा .6 ;3द्ध के अन्तर्गत जिलाधिकारी कार्यालय जनपद लखीमपुर खीरी को स्थानान्तरित कर दी गयी। सारी याचिकायें दिनांक 28 अगस्तए 2019 को दायर की गयी थी और 27 मार्चए 2020 को लिखित सूचना प्राप्त हुई कि राजा युवराज दत्त सिंह के द्वारा सम्पादित मूल अभिलेख उनके पोते कुंवर प्रद्युम्न नारायण दत्त सिंह को आरटीआई के तहत प्राप्त हुए। साथ ही यह भी साबित हुआ कि उपरोक्त सम्पत्ति का खाता सं0.5 एवं खसरा सं0.359 है। यह मूल खसरा संख्या है।

इस सूचना को पाते हुए ओयल रियासत के बड़े राजा विष्णु नारायण दत्त सिंह ने मीडिया से मुखातिब होते हुए अत्यन्त प्रसन्ता जाहिर की एवं तहेदिल से जिलाधिकारी खीरी शैलेन्द्र कुमार सिंह एवं एसआरओ कैप्टन एसपी दूबे का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर युवरानी आराधना सिंह ने महिला सशक्तीकरण एवं मिशन शक्ति प्रोग्राम में अपना योगदान देने की बात कही। ओयल रियासत के कुँवर हरिनारायण सिंह जी ने पूरे प्रकरण पर पूरे जिलाधिकारी कार्यालय जनपद खीरी काधन्यवाद व्यक्त किया।

कुँवर प्रद्युम्न नारायण सिंह ने उपरोक्त सम्पत्ति का रख.रखाव एवं उसको अदब से रखने की एवं स्वच्छता अभियान के अधीन सदेव हरा.भरा एवं स्वच्छ रखने की प्रार्थना की। सिद्धार्थ नारायण का सबने दिल से शुक्रिया अदा किया।

सिद्धार्थ ने बताया कि ओयल एक ऐसी रियासत है जो भविष्य एवं वर्तमान में विश्वास रखती है एवं वह इस बात से बहुत प्रभावित हुए कि 75 वर्ष की उम्र में बड़े राजा साहब विष्णु दत्त सिंह ट्यूटरए फेसबुकए इन्स्ट्राग्राम एवं वाट्अप का रोजाना उपयोग करते है और इस बात पर सिद्धार्थ नारायण ने अत्यन्त गर्व महसूस किया कि उनके द्वारा दिये गये दो वर्ष के समय सीमा के अन्तर्गत ओयल राजघराने की सम्पत्ति के 93 साल पुराने अंग्रेजों के जमाने के मूल अभिलेख उन्होंने 10 महीने में खोज डाले। यह भारत का प्रथम ऐसा आरटीआई का केस है जिसमें 10 महीने की समय.सीमा एवं 10ध् .रूपये के शुल्क में एक अरब की सम्पत्ति का स्वामित्व सिद्ध हुआ है। सूचना अधिकार क्षेत्र में अतूल्य योगदान के लिए सिद्धार्थ नारायण को उप्र के मुख्यमंत्री द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका हैं। उनके कुछ प्रमुख केसों में आगरा के चर्च पर हमलाए शक्तिमान घोड़ाण् शारदा मर्डर केस माही की गुमशुदगी एवं अन्य शामिल है। उनका मुख्य उद्देश्य गरीब मजलूम एवं बेसहाराओं को इन्साफ दिलाना हैं। सिद्धार्थ को कई सूचना आयुक्त एवं जज आरटीआई का राम जेठमलानी भी कहते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम