Skip to main content

पौष-फागुन मेला-21" में दिखे बंगला के पारंपरिक लोक रंग

पौष-फागुन मेला-21" में दिखे बंगला के पारंपरिक लोक रंग

  • बांग्ला भ्राषा शिक्षा एवं संस्कृति प्रसार समिति का सत्ताईसवां पौष मेला" आज रविवार को बाल संग्रहालय, चारबाग के मैदान में सम्पन्न हुआ ।

लखनऊ। बांग्ला समाज के पारंपरिक पौष-फागुन मेला 2021" का धूमधाम से आयेाजन हुआ । मेला बांग्ला भ्राषा शिक्षा एवं संस्कृति प्रसार समिति ने रविवार को बाल संग्रहालय चारबाग के मैदान में किया । कला संस्कृति से सजे मेला में बंग समाज" देर रात तक उमंग उत्साह में डूबा रहा। पारंपरिक लोक कलाकारों ने बाउल" वादन कर आनंदित किया । मनोरंजन से भरी प्रतियोगिताओं में लोगों ने उत्साह दिखा, तो बांग्ला समाज के पारंपरिक व्यंजनों की सोंधी खुशबू छायी रही। मुख्य अतिथि यूपी मानवाधिकार आयोग के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी डॉ. देव कुमार डे थे।  रामकृष्ण मठ के स्वामी मुक्तिनाथानंद, वरिष्ठ चिकित्सक डॉ शुभाशीष मुंशी, सचिव केके घोष, कोषाध्यक्ष सोनाली राय, कमल जी, टी.टी. "सुनीलजी" सहित कई कला-संगीत प्रेमीयों के साथ हजारों बंग परिवार मेले में मौजूद थे। मेला के प्रमुख व्यवस्थापक व संस्था के महामंत्री दादा के.के.घोसाल जी ने बताया कि मेले की शुरुआत बांग्ला समाज के लोगों ने लखनऊ में, शांति निकेतन (कोल्कता) में रविन्द्र नाथ टैगोर जी के पौष मेला" के एक सौ वर्ष पूर्ण होने पर 1994 में वरिष्ठ पत्रकार दादा पी.के. रॉय जी (अध्यक्ष) के विशेष मार्गदर्शन में शुरु की, जो आज भी अनवरत सारे लखनऊ वासी बंग समाज के संग, उमंग से प्रति वर्ष जनवरी के दूसरे रविवार को प्रातः10 - रात्रि 10 तक संचालित है, कोल्कता शांति निकेतन" के पौष मेला" के बाद ये सम्पूर्ण भारत में अपने प्रकार का इकलौता आयोजन है ।      

सांस्कृतिक कार्यक्रम का आगाज समिति कोषाध्यक्ष सोनाली राय ने प्रार्थना से की। उन्होंने सुमधुर वंदना ‘सौका तोरे आई कांदी हे साकुले…‘ गाकर की। इसके बाद वेस्ट बंगाल से आये बाउल गायकों ने पारंपरिक लोक संगीत के सुर सजाये। वरिष्ठ बाउल गायक षष्टीदास ने अपने दल के कलाकारों के साथ प्रस्तुति दी। जिसमें दोतारा व गायन में प्रापो विश्वास, बाउल पर भारती सरकार, खमक पर बापुन, एकतारा पर निखिल विश्वास ने बंगाल के लोक संगीत से रूबरू कराया। कलाकारों ने कान्ना हासिर दोल दोलानो पोष फागुन मेला…, सौका तोरे आई कांदी हे साकुले…, अमी एक दिन न देखिलम तारे…, भवे मानुष गुरु निष्ठा जात सर्व साधन सिद्धि हाउतार… जैसे लोकगीत सुनाये।

- प्रतियोगिताओं में उत्साह, छायी व्यंजनों की खुशबू , बांग्ला समाज के पारंपरिक व्यंजन व मिठाइयों का लोगों ने खूब जायका लिया। मेले में खजूर गुड़, मिठाई पाटीसाप्टा, कुलीपीठा, रसगुल्ला, संदेश जैसे व्यंजनों की खुशबू घुली रही। मेले में रंगोली, फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता, बांग्ला लेखन व कवितापाठ, म्यूजिकल चेयर प्रतियोगिताओं में लोगों ने खूब उत्साह दिखाया।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम