Skip to main content

साहिर लुधियानवी ने शब्दों में छिपे गहरे दार्शनिक विचारों को सरल शब्दों में व्यक्त किया: नसरीन मुन्नी कबीर

 साहिर लुधियानवी ने शब्दों में छिपे गहरे दार्शनिक विचारों को सरल शब्दों में व्यक्त किया: नसरीन मुन्नी कबीर

                 लखनऊ  : साहिर लुधियानवी के सुनहरे युग के गीत ' मन रे तू काहे न धीर धरे ' कोविड-19 के समय में हमारे जीवन की वास्तविकता और भावनाओं को दर्शाता है। साहिर को हिंदी और उर्दू में महारत हासिल थी। उन्होंने सरल शब्दों के अंदर छिपे गहरे दार्शनिक विचारों से अवगत कराया। कोलकाता की सुप्रसिद्ध सामाजिक संस्था प्रभा खेतान फाउंडेशन द्वारा आयोजित ऑनलाइन सत्र ‘टेट-ए-टी’ की श्रृंखला में वह ब्रिटेन के टेलीविजन निर्माता, निर्देशक और लेखक नसरीन मुन्नी कबीर ने जानेमाने पत्रकार और फिल्म समीक्षक नम्रता जोशी के साथ एक ऑनलाइन सत्र में बातचीत के दौरान अपनी यादों को ताजा किया। वर्ष 2021 में कवि-गीतकार साहिर लुधियानवी का जन्म शताब्दी के तौर पर मनाया जा रहा है।

इस आकर्षक सत्र में लॉगइन कर देशभर से बुक लवर्स इसमें शामिल हुए। यह सत्र बॉलीवुड के प्रतिष्ठित गीतकार और यातना के कवि, साहिर लुधियानवी पर केंद्रित था, जो 8 मार्च, 1921 को विभाजन के बाद लुधियाना में पैदा हुए थे और लाहौर से दिल्ली आए थे। साहिर के हिंदी फ़िल्मी गाने आज भी काफी लोकप्रिय हुए हैं। आज की पीढ़ी के दिमाग में इसकी गूंज अब भी पूरी तरह से तरोताजा है। 

नसरीन मुन्नी कबीर पांच दशकों से विदेशों में भारतीय फिल्मों का प्रचार कर रही हैं। वह अबतक बॉलीवुड के दिग्गजों को लेकर 100 से अधिक कार्यक्रम और फिल्में बना चुकी हैं। यही नहीं, अबतक वह बॉलीवुड आइकन पर 20 से अधिक किताबें भी लिख चुकी हैं। उनकी नवीनतम पुस्तक "इन द ईयर ऑफ साहिर 2021 डायरी" है, प्रभा खेतान फाउंडेशन की तरफ से देशभर के 35 शहरों में सक्रिय ‘अहसास महिला’ के सहयोगियों को इस अनूठी डायरी को उपहार में दिया गया है।

नम्रता जोशी के सवाल के जवाब में, आपने साहिर की खोज कैसे की? नसरीन ने कहा, “ईमानदारी से कहूं तो यह मेरे अंदर की प्यास थी। सिनेमा लंदन में दिखायी गयी थी और गाने यहां के थे। इसमें उर्दू कठिन थी इसलिए मुझे उनकी बातों का पूरा मतलब समझ नहीं आया। मुझे लगता है कि वह एक रोमांटिक शब्द होगा, लेकिन उसके नीचे उदासी की एक परत है जिसने मुझे सोचने को मजबूर कर दिया है। उन्होंने बहुत ही सरल और प्रभावी शब्दों में एक दुखद अंत का भावनाओं के साथ वर्णन किया। वे खुश गाने से नहीं हैं, बल्कि मुझे लगता है कि रोमांटिक गाने जो हमें याद हैं, वे सबसे दुखद हैं। जब हम दुखी होते हैं, तो हम उदास गाने सुनते हैं न कि डिस्को गाने। वह वास्तव में ऐसे लोगों से जुड़ता है जो समझदार हैं और दुनिया के बारे में परवाह करते हैं लेकिन रोमांस के विचार में हमेशा उदासी की भावना रखते हैं। ”

साहिर के बोल क्या हैं, इस पर टिप्पणी करते हुए नासिर ने कहा, उस दौर के अधिकांश उर्दू कवियों को पैसा कमाने के लिए फिल्मों में काम करना पड़ता था क्योंकि प्रकाशन इतना पैसा नहीं दे पाता था । साहिर ने अर्नोल्ड भाइयों और चेतन आनंद के साथ काम किया। देव आनंद और सचिन देव बर्मन जैसे युग के शीर्ष लोगों के साथ, जो बहुत शिक्षित और परिष्कृत थे। उन्हें अपने गीतों को काफी कम स्वर में गाना पसंद था। 

उनके लिए सबसे मुश्किल बात सभी से आवेदन करना था। साहिर को पता था कि भाषा का इस्तेमाल कैसे और किस संदर्भ में किया जाता है। उन्होंने चरित्र को भी जाना और एक विशेष फिल्म के चरित्र के अनुरूप कविता और गीत लिखे। 

नसरीन ने कहा- उनका मानना है कि एक फिल्म एक टीम द्वारा बनाई जाती है, न कि केवल एक निर्देशक द्वारा। हिंदी सिनेमा में यह सोच आगे नहीं बढ़ सकी है, क्योंकि फिल्म के निर्माण में विभिन्न टुकड़े और छोटी-छोटी टीमें बनी हुई हैं, लेकिन निर्देशक प्रत्येक खंड के लिए सही व्यक्ति का चयन करता है और साहिर लुधियानवी ने अबतक हमेशा उनकी उम्मीदों पर खरा उतरने की कोशिश किये हैं। इसके कारण उनके इस अथक प्रयास से वह आज अलग तरीके की इस मुकाम पर हैं।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम