Skip to main content

बिजली व्यवस्था में सुधार हेतु ऊर्जा मंत्री की अध्यक्षता में हुई समीक्षा बैठक

बिजली व्यवस्था में सुधार हेतु ऊर्जा मंत्री की अध्यक्षता में हुई समीक्षा बैठक

  • बिजली व्यवस्था में सुधार हेतु ऊर्जा मंत्री की अध्यक्षता में हुई समीक्षा बैठक में संघर्ष समिति के प्रस्ताव पर चर्चा
  • ऊर्जा मंत्री ने संघर्ष समिति के प्रस्ताव को सकारात्मक बताते हुए कहा सही दिशा में बदलाव दिख रहा है 

05 नवम्बर 2021 ऊर्जा मंत्री मा. श्रीकान्त शर्मा जी की अध्यक्षता में आज विधान भवन के तिलक हाल में बिजली व्यवस्था में सुधार हेतु हुई समीक्षा बैठक में प्रमुख सचिव(ऊर्जा), ऊर्जा निगमों के एम डी और विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के प्रमुख पदाधिकारी सम्मिलित हुए। आज की बैठक में संघर्ष समिति द्वारा विगत 22 अक्टूबर 2020 को दिये गये सुधार प्रस्तावों पर विस्तृत चर्चा प्रारम्भ हुई जो कि अगली बैठक में भी जारी रहेगी। ऊर्जा मंत्री श्री श्रीकान्त शर्मा ने आज की बैठक के समापन पर कहा कि उन्हें बहुत खुशी है कि सुधारों पर संघर्ष समिति ने बहुत सकारात्मक चर्चा की है और बदलाव स्पष्टतया सही दिशा में दिख रहा है।

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि समीक्षा की अगली बैठक में भी संघर्ष समिति के प्रस्तावों पर चर्चा जारी रहेगी और संघर्ष समिति की चर्चा पूरी हो जाने के बाद पावर कारपोरेशन प्रबन्धन अपनी बात रखेगा। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि संघर्ष समिति और प्रबन्धन की चर्चा हो जाने के बाद सुधार की कार्य योजना तैयार कर सुधार के कार्यक्रम चलाये जायेंगे। उन्होंने कहा कि आज सार्थक संवाद हुआ है और संवाद से ही समाधान निकलता है। उन्होंने कहा कि खुशी की बात है कि आज की चर्चा में संघर्ष समिति की ओर से रखे गये सभी प्र्रस्ताव उपभोक्ता उन्मुखी हैं ओर उपभोक्ता का हित ही हमारे लिये सर्वोपरि है।

     संघर्ष समिति की ओर से प्रथम चरण की वार्ता में मा. ऊर्जा मंत्री जी के समक्ष अपना पक्ष प्र्रस्तुत करते हुए कहा गया कि विगत 06 अक्टूबर 2020 के उप्र सरकार/शासन एवं संघर्ष समिति के मध्य सम्पन्न वार्ता बैठक में बनी सहमतियों के क्रम में संघर्ष समिति ने प्रदेश भर में विभिन्न व्यवस्था सुधार गोष्ठियाँ सम्पन्न कराये, उप्र सरकार/शीर्ष ऊर्जा प्रबन्धन को व्यवस्था सुधार हेतु दिनांक 22.10.2020 को सुझाव पत्र सौंपे गये परन्तु यह अत्यन्त दुर्भाग्य है कि उप्र का शीर्ष ऊर्जा प्रबन्धन आवश्यक कार्यवाही किये जाने की बात तो दूर रही उस सुझाव पत्र को संज्ञान में लेना भी उचित नहीं समझा। मा. ऊर्जा मंत्री ने सरल हृदयता का भाव दर्शाते हुए सर्वप्रथम संघर्ष समिति के सुधार प्रस्तावों पर चर्चा किये जाने हेतु संघर्ष समिति को अपना पक्ष प्रस्तुत करने की स्वीकृति दी जिस पर संघर्ष समिति के संयोजक  शैलेन्द्र दुबे ने प्रस्तावना प्र्रस्तुत करते हुए कहा कि उपभोक्ता देवो भवः एवं ऊर्जा क्षेत्र में सुधार संघर्ष समिति का प्रथम ध्येय है, ऊर्जा हानियों को घटाये जाने हेतु पटियाला मॉडल को लागू किया जाना निगम हित में बेहतर होगा। इस क्रम में अन्य पदाधिकारियों ने तर्कपूर्ण आँकड़ों के आधार पर पक्ष रखते हुए कहा कि बेहतर उपभोक्ता सेवा एवं लाइन हानियों को घटाकर अपेक्षित राजस्व वसूली का लक्ष्य प्राप्त किये जाने हेतु विभाग में मानव संसाधन नीतियों में व्यापक चिन्तन कर कार्य आवश्यकता के क्रम में मानकनुरूप कार्मिकों के नये पदों का सृजन एवं नियमित भर्तियां इत्यादि कराये जाने के साथ ही विभाग में सुधार के नाम पर बड़े पैमाने पर निजी संस्थाओं के माध्यम से कराये जाने से बिलिंग एवं अन्य कार्यों की गुणवत्ता बुरी तरह प्रभावित होने के साथ ही भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिल रहा है जिस पर नियंत्रण पाये जाने हेतु फ्रेन्चाईजीकरण व्यवस्था को शीघ्र समाप्त किये जाने की मांग को प्रबलतापूर्वक रखा गया एवं दक्ष संविदा कार्मिकों को तेलंगाना की भांति नियमित किये जाने की मांग की गयी। 

समिति ने यह भी कहा कि बिलिंग एवं कलेक्शन व्यवस्था दुरूस्त किये बिना, उपभोक्ताओं के बेहतर विद्युत आपूर्ति व्यवस्था किये बिना, कार्मिकों को प्रोत्साहन एवं कार्य का वातावरण दिये बिना ऊर्जा क्षेत्र को सुदृढ़ किये जाने की परिकल्पना व्यवहारिक रूप से सम्भव नहीं है। 

संघर्ष समिति ने अपने पक्ष में कहा कि इन दुर्व्यवस्थाओं को दूर किये जाने एवं भ्रष्टाचार पर नियंत्रण पाये जाने एवं सस्ती बिजली हर घर बिजली का लक्ष्य प्राप्ति हेतु मितव्ययी व्यवस्था मार्ग पर चलकर ऊर्जा निगमों का एकीकरण कर उप्र राज्य विद्युत परिषद लि(UPSEB) का गठन किया जाये। संघर्ष समिति का पक्ष रखने का क्रम जारी रहा कि इसी मध्य मा0 मंत्री जी ने सम्बोधन करते हुए समिति के पदाधिकारियों को यह भी कहा कि आज की चर्चा उपभोक्ता हित पर केन्द्रित रही जो कि अत्यन्त प्रसन्नता का विषय है। 

बैठक में सरकार, शासन एवं ऊर्जा प्रबन्धन की ओर से क्रमशः मा. श्रीकान्त शर्मा, ऊर्जा मंत्री, उप्र सरकार, अपर मुख्य सचिव(ऊर्जा) श्री अरविन्द कुमार, प्रबन्ध निदेशक, उप्र पाकालि श्री एम. देवराज, प्रबन्ध निदेशक, उत्पादन निगम श्री सेन्थिल पांडियन सी, श्री डी.के. सिंह, संयुक्त सचिव(ऊर्जा), उप्र शासन, निदेशक कार्मिक एवं प्रबन्धन श्री ए.के. पुरवार, निदेशक(वाणिज्य) श्री ए.के. श्रीवास्तव व अन्य अधिकारी उपस्थित रहे जबकि संघर्ष समिति की ओर से वी.पी. सिंह, पल्लब मुखर्जी, प्रभात सिंह, जी वी पटेल, जय प्रकाश, गिरीश पांडेय, सदरुद्दीन राना, सुहेल आबिद, विनय शुक्ल,  शशिकांत श्रीवास्तव, डी के मिश्र, महेंद्र राय, बृजेश त्रिपाठी, सना उल्ला खां, आर.के. सिंह, ए.के. श्रीवास्तव, कपिल मुनि, नितिन कुमार, राजेन्द्र सिंह, योगेन्द्र लाखा, मनीष श्रीवास्तव, वी के सिंह कलहंस, पी एस बाजपेई, जगदीश भारती, संजीव वर्मा, डी.के. प्रजापति एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित रहे। 


Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम