Skip to main content

क्लैट 2021 में सफलता के लिए अपने पढ़ने की आदत सुधारें

क्लैट 2021 में सफलता के लिए अपने पढ़ने की आदत सुधारें 

नई दिल्लीः  क्लैट 2021 की परीक्षा 13 जून 2021 को होने जा रही है और कानून में भविष्य तथा कैरियर बनाना उतना आसान नहीं होता जितना यह लगता है। इसके लिए क्लैट की प्रतियोगिता परीक्षा में सफल होने के लिए उम्मीदवारों को समर्पण और दृढ़संकल्प के साथ एकाग्रता दिखानी होती है। कानून में कैरियर बनाने का लक्ष्य रखने वाले समर्पित उम्मीदवारों के लिए अपनी तैयारी शुरू करने का यही उचित समय है।

आखिरी समय में परीक्षा की तैयारी करने का छात्रों को बहुत ज्यादा फायदा नहीं होता। लेकिन यदि वे नियमित रूप से बहु विकल्पीय प्रश्नों पर आधारित इस परीक्षा की तैयारी शुरू कर दें तो निश्चित रूप से वे अपना लक्ष्य हासिल कर सकते हैं। शुरुआती दौर से ही अपनी राह और नजरिया तय करते हुए तैयारी करना हमेशा अच्छा माना जाता है।

परीक्षा के लिए छात्रों को तैयारी कराने के क्षेत्र में अग्रणी माने जाने वाले प्रथम के शिक्षक हमेशा एक समग्र विकास दृष्टिकोण रखते हुए छात्रों का मार्गदर्शन कराते हैं ताकि छात्रों को देश-विदेश के सर्वश्रेष्ठ संस्थानों में दाखिला मिल सके।

प्रथम टेस्ट प्रेप में लॉ के नेशनल हेड अमनदीप राजगोत्र कहते हैं, ‘रणनीतिक तरीके से परीक्षा की तैयारी करने से विषयों और तथ्यों को प्राथमिकता देने में मदद मिलती है क्योंकि हर छात्र के सीखने की अपनी अलग शैली होती है। इसके लिए बारहवीं की तैयारी के अलावा क्लैट के लिए रोजाना तीन घंटे की तैयारी (क्लास करना और सेल्फ स्टडी) जरूरी है जबकि बाकी समय का सदुपयोग बारहवीं की तैयारी के लिए किया जाना चाहिए। योग्यता परीक्षा का उद्देश्य छात्रों की स्पष्ट सोच-समझ की परख करना होता है, इसलिए सभी सवालों का उत्तर देने का प्रयास करने की सलाह नहीं दी जाती है। इसके बजाय छात्रों को अधिक अंक पाने के लिए उन्हीं सवालों को हल करना चाहिए जिनका उत्तर उन्हीं अच्छी तरह आता हो। दरअसल, कई बार निश्चित अवधि के अंदर सभी सवालों के जवाब देने से आपके सही जवाबों का अनुपात बहुत कम हो जाता है।’

किसी भी प्रवेश परीक्षा के लिए नियमित अभ्यास की जरूरत पड़ती है। अभ्यर्थी को तकरीबन 80-90 फीसदी सवालों का सही-सही जवाब देने का लक्ष्य रखना चाहिए। जब आप अभ्यास करते हैं तो आपको प्रत्येक खंड से पूछे जाने वाले उन सवालों को पहचानने का प्रयास करना चाहिए जिनका उत्तर आपको अच्छी तरह आता हो। इससे असली परीक्षा के दौरान आपका समय बचेगा। किसी भी अभ्यर्थी के लिए समसामयिक घटनाओं से जुड़े सवालों का हमेशा फटाफट जवाब देना होता है।

पिछले कई दशकों से कानून में डिग्री हासिल करना बड़ी प्रतिष्ठा की बात होती है और इसकी वजह यह है कि यह कॉमर्स हो या इंजीनियरिंग, सभी स्ट्रीम के छात्रों के लिए आकर्षण का क्षेत्र माना जाता है। इसके अलावा कैरियर और समाज में सम्मान के लिहाज से भी इसमें बहुत ज्यादा संभावनाएं हैं। देश के शीर्ष राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालयों में दाखिले के लिए कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (सीएलएटी) परीक्षा आयोजित की जाती है। कई अभ्यर्थी इसे हल्के में लेने के कारण अपना सपना साकार नहीं कर पाते हैं।

उन्होंने बताया, पीएसआईएस इंटरफेस के साथ क्लैट के लिए नियमित रूप से मॉक परीक्षा देते रहने का अनुभव काफी कारगर होता है। शब्दकोष ज्ञान और समसामयिक विषयों की जानकारी रखना बहुत महत्वपूर्ण होता है। इससे आपको प्रवेश परीक्षा में अच्छा अंक मिल सकता है। हालांकि मॉक टेस्ट में अपने परफॉर्मेंस के आधार पर आप अपनी रणनीति में बदलाव करते रह सकते हैं। चूंकि यह परीक्षा पद्धति लगातार अध्ययन करते रहने पर आधारित है इसलिए छात्र आम तौर पर सभी सवालों का जवाब नहीं दे पाते हैं। लिहाजा वे हताश हो जाते हैं और बीच में ही तैयारी छोड़ देते हैं। अपनी दिनचर्या में जब कभी समय मिला, नियमित अंतराल पर तैयारी करते रहने ही आपको सफलता हासिल हो पाएगी।’

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम