Skip to main content

12 जनवरी को युवाओं के प्रेरणा स्रोत स्वामी विवेकानंद की जयंती के शुभ अवसर पर गैर राजनीतिक यात्रा प्रारंभ

12 जनवरी को युवाओं के प्रेरणा स्रोत स्वामी विवेकानंद की जयंती के शुभ अवसर पर गैर राजनीतिक यात्रा प्रारंभ

 राष्ट्रवादी युवा अधिकार मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष शशांक शेखर सिंह पुष्कर ने राजधानी लखनऊ के हजरतगंज स्थित इंडियन कॉफी हाउस में युवा अधिकार एवं न्याय यात्रा के विषय पर प्रेस प्रतिनिधियों से वार्ता करते हुए बताया कि बाबा गोरखनाथ के पावन धरती से 12 जनवरी को युवाओं के प्रेरणा स्रोत स्वामी विवेकानंद की जयंती के शुभ अवसर पर गैर राजनीतिक यात्रा प्रारंभ होकर 23 जनवरी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर विभिन्न जनपदों (आजमगढ़, वाराणसी ,जौनपुर, सुल्तानपुर ,अंबेडकरनगर ,अयोध्या, बाराबंकी,लखनऊ ,सीतापुर, शाहजहांपुर ,बरेली ,रामपुर ,मुरादाबाद,अमरोहा, हापुड़, मेरठ ,गाजियाबाद) के रास्ते नई दिल्ली (जंतर -मंतर )पर संपन्न होगीl दिल्ली में महापुरुषों की स्थली एवं प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर माननीय प्रधानमंत्री जी को 8 सूत्री ज्ञापन सौंपा जाएगा l यात्रा के उद्देश्य के सवाल पर श्री सिंह ने बताया कि युवा अधिकार एवं न्याय यात्रा युवाओं में जागरूकता लाकर अपने अधिकारों के संरक्षण, संवर्धन हेतु एक मंच पर एकत्रित करना है l ताकि जाति ,धर्म ,संप्रदाय के नाम पर साजिश के तहत छात्रों/ नौजवानों की भावनाओं को बेचने वाले राजनीतिक दलों को यह एहसास हो सके कि नौजवानों को सिर्फ वोट बैंक /प्रचार तंत्र के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता lयदि 21वी सदी का नौजवान जाति,धर्म, संप्रदाय व दलगत भावना से ऊपर उठकर एक मंच पर इकट्ठा हो जाएगा तो नए भारत सशक्त भारत का सपना स्वयं पूरा हो जाएगा l 

नई पीढ़ी नया जोश के साथ नौजवान समाज में नई क्रांति लाने में सक्षम है नई उर्जा से ही देश और प्रदेश सही रास्ते पर जा सकता है ना कि युवाओं के ठेकेदारों द्वारा सिर्फ जाति , धर्म ,संप्रदाय के नाम पर गुमराह करने से नौजवानों के चेतना को जगा कर एक मंच पर इकट्ठा किया जाएगा lयात्रा भीड़-भाड़ अथवा मार्केट में पैदल तथा हाईवेज पर चार पहिया वाहन द्वारा प्रस्तावित है lयात्रा के दौरान छात्रों ,नौजवानों, बुजुर्गों ,महिलाओं से संपर्क कर संगठन के उद्देश्यों को उनके माध्यम से जमीन तक पहुंचाना है ताकि देश व प्रदेश में सकारात्मक, सजग व जिम्मेदारी पूर्ण भूमिका निभाई जा सके lश्री सिंह ने राजनीतिक दलों को घेरते हुए कहा कि राजनीतिक दल सकारात्मक राजनीति के बजाय अराजकता /उन्माद फैलाने की कोशिश करते रहे हैं lजनहित के बुनियादी समस्याओं के समाधान की बजाए सिर्फ चुनावी तैयारियां एवं मीडिया की सुर्खियां बटोरती रही है जबकि हकीकत यह है कि देश और प्रदेश का प्रतिभावान रोजगार के लिए सड़कों पर दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है, हर राजनीतिक दल नौजवानों के दम पर सिर्फ चुनाव लड़ना चाहती हैं जबकि नौजवानों की चिंता करने वाला कोई भी नहीं हैl अभी तक युवाओं की कोई ठोस नीति अथवा राष्ट्रीय स्तर पर आयोग का गठन नहीं हो पाया जो दुर्भाग्यपूर्ण है जबकि जाति, धर्म के नाम पर आयोग बने, महंगी शिक्षा के बावजूद सरकारों के पास रोजगार की कोई गारंटी नहीं है ,आउटसोर्सिंग (सेवाप्रदाता) प्रथा से प्रतिभावान नौजवान बंधुआ मजदूर हो गया है, सरकारी संस्थाओं के निजीकरण से राष्ट्र निर्माण की बुनियाद कमजोर होती जा रही है, महंगी शिक्षा से शिक्षा में असमानता होती जा रही है, बेरोजगारी, महंगाई भ्रष्टाचार, अपराध चरम पर है ,देश का अन्नदाता आंदोलनरत है lलाखों बेरोजगार राजधानी में ठगी के शिकार हो रहे हैं l

इसलिए गांव ,गरीब ,मजदूर, नौजवान ,किसान की बुनियादी समस्याओं को अपनी नैतिक व सामाजिक जिम्मेदारी समझते हुए यह प्रयास कर रहे हैं कि नौजवानों के साथ-साथ किसी भी पीड़ित के साथ अन्याय ना होने पाए इसके लिए चौथे स्तंभ की सहयोग की उम्मीद जताते हुए कहा कि लोहिया, चंद्रशेखर और जयप्रकाश जी के सपनों को पूरा करने का कार्य राष्ट्रवादी युवा अधिकार मंच के माध्यम से करेंगे, जिससे जयप्रकाश जी के युवा क्रांति के अधूरे सपनों को पूरा किया जा सकेll

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम