Skip to main content

फिल्म सिटी की स्थापना के लिये फिल्म जगत से सुझाव एवं सहयोग का आह्वान किया

फिल्म सिटी की स्थापना के लिये फिल्म जगत से सुझाव एवं सहयोग का आह्वान किया

  •  मुख्यमंत्री ने यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण क्षेत्र में प्रस्तावित 
  • फिल्म सिटी की स्थापना के लिये फिल्म जगत से सुझाव एवं सहयोग का आह्वान किया
  • फिल्म जगत से जुड़े तथा फिल्म निर्माण का व्यापक अनुभव 
  • रखने वाले निर्माता, निर्देशक, ऐक्टर, लेखक आदि सभी की 
  • सहभागिता वल्र्ड क्लास फिल्म सिटी के निर्माण में सहायक
  • फिल्म सिटी के निर्माण में सहयोग करके फिल्म जगत देश की कला, 
  • संस्कृति, विरासत को वैश्विक पटल पर स्थापित करने में सहभागी बने
  • फिल्म जगत की जरूरतों और चुनौतियों का सामना सरकार और फिल्म जगत मिलकर करें
  • उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित फिल्म सिटी की लोकेशन बहुत अच्छी
  • फिल्म निर्माण के लिए सुरक्षा सहित जैसा वातावरण चाहिए, वह उ0प्र0 
  • में उपलब्ध, राज्य में फिल्म निर्माण के लिये आवश्यक आध्यात्मिक, 
  • सांस्कृतिक, प्राकृतिक, ऐतिहासिक पृष्ठभूमि सहज सुलभ
  • उ0प्र0 सरकार कोरोना के विरुद्ध पूरी प्रतिबद्धता से कार्य कर रही
  • देश में सर्वाधिक जनसंख्या का प्रदेश होने के बावजूद उ0प्र0 में कोरोना 
  • की पाॅजिटिविटी दर न्यूनतम, प्रदेश में कोरोना का टेस्ट एवं उपचार निःशुल्क
  • राज्य सरकार के लिए जान और जहान दोनों महत्वपूर्ण, 
  • इसके दृष्टिगत सभी आर्थिक गतिविधियां संचालित
  • उ0प्र0 असीम सम्भावनाओं का प्रदेश, राज्य में हर क्षेत्र में व्यापक अवसर
  • भारत की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत सबसे प्रभावी ढंग से उत्तर प्रदेश में दिखायी देती है
  • उ0प्र0 का कनेक्टिविटी की दृष्टि से विकास फिल्म सिटी के लिए उपयोगी
  • यमुना एक्सप्रेस-वे प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने प्रस्तावित फिल्म सिटी एवं अन्य विकास कार्याें के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण दिया

लखनऊ: 03 दिसम्बर, 2020

     उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण क्षेत्र में प्रस्तावित फिल्म सिटी की स्थापना के लिये फिल्म जगत से सुझाव एवं सहयोग का आह्वान किया है। उन्होंने कहा कि फिल्म जगत से जुड़े तथा फिल्म निर्माण का व्यापक अनुभव रखने वाले निर्माता, निर्देशक, एक्टर, लेखक आदि सभी की सहभागिता वल्र्ड क्लास फिल्म सिटी के निर्माण में सहायक होगी। एक अच्छी फिल्म सिटी के निर्माण में सहयोग करके फिल्म जगत देश की कला, संस्कृति, विरासत को वैश्विक पटल पर स्थापित करने में सहभागी बने।

     मुख्यमंत्री जी आज मुम्बई में आयोजित एक कार्यक्रम में फिल्म जगत के प्रतिनिधियों के साथ संवाद कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय की आवश्यकता है कि फिल्म जगत की जरूरतों और चुनौतियों का सामना सरकार और फिल्म जगत मिलकर करें। फिल्म जगत नेतृत्व करे और सरकार की सहयोगी भूमिका हो। इससे फिल्म निर्माण के लिए उपयोगी एवं सफल वातावरण बनाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि फिल्म सिटी को किस मोड पर विकसित किया जाए, इस पर चर्चा की जानी चाहिए।

     मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित फिल्म सिटी की लोकेशन बहुत अच्छी है। यह जनपद गौतमबुद्धनगर के जेवर में निर्माणाधीन एशिया के सबसे बड़े एयरपोर्ट से मात्र 06 किलोमीटर दूर स्थित है। यहां से दिल्ली तथा मथुरा एवं वृंदावन मात्र आधे घण्टे में पहुंचा जा सकता है। आगरा की यहां से दूरी एक घण्टे से कम समय की है। फिल्म जगत को फिल्म निर्माण के लिए सुरक्षा सहित जैसा वातावरण चाहिए, वह उत्तर प्रदेश में उपलब्ध है। राज्य में फिल्म निर्माण के लिये आवश्यक आध्यात्मिक, सांस्कृतिक, प्राकृतिक, ऐतिहासिक पृष्ठभूमि भी सहज सुलभ है। 

     मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वर्तमान में पूरी दुनिया कोरोना से प्रभावित है। भारत में कोरोना के विरुद्ध मजबूती से सघंर्ष हो रहा है। उत्तर प्रदेश सरकार कोरोना के विरुद्ध पूरी प्रतिबद्धता से कार्य कर रही है। कोरोना से बचाव एवं उपचार के समुचित कदम उठाए गए हैं। प्रतिदिन लगभग 02 लाख टेस्ट कराए जा रहे हैं। देश में सर्वाधिक जनसंख्या का प्रदेश होने के बावजूद उत्तर प्रदेश में कोरोना की पाॅजिटिविटी दर न्यूनतम है। पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से कोरोना से बचाव के सम्बन्ध में जन जागरुकता का कार्यक्रम निरन्तर संचालित किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में कोरोना का टेस्ट एवं उपचार भी निःशुल्क है। राज्य सरकार के लिए जान और जहान दोनों महत्वपूर्ण है। इसके दृष्टिगत सभी आर्थिक गतिविधियां भी संचालित हैं।   

     मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश असीम सम्भावनाओं का प्रदेश है। राज्य में हर क्षेत्र में व्यापक अवसर हैं। ‘प्रयागराज कुम्भ-2019’ की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि भव्य एवं दिव्य कुम्भ के आयोजन ने वैश्विक पटल पर अपनी अमिट छाप छोड़ी। ‘प्रयागराज कुम्भ-2019’ अपनी स्वच्छता, सुरक्षा, सुव्यवस्था के लिए जाना गया। इसमें 24 करोड़ श्रद्धालुओं ने प्रतिभाग किया। प्रधानमंत्री जी की पहल पर यूनेस्को ने कुम्भ को ‘मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक धरोहर’ के रूप में मान्यता दी। 

     मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अयोध्या में ‘दीपोत्सव’ का आयोजन दुनिया में एक यूनीक इवेन्ट के रूप में सामने आया है। इस आयोजन में दक्षिण कोरिया की फस्ट लेडी व फिजी की डिप्टी प्राइम मिनिस्टर प्रतिभाग कर चुकी हैं। भगवान श्रीराम की संस्कृति से प्रभावित देश इस कार्यक्रम के साथ जुड़ रहे हैं। तीन दिन पहले वाराणसी में आयोजित ‘देव दीपावली’ कार्यक्रम की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम कोविड-19 के प्रोटोकाॅल का पालन करते हुए आयोजित किया गया। इसमें प्रधानमंत्री जी भी सम्मिलित हुए। इस दिन वाराणसी के होटलों में सभी कमरे भरे हुए थे। यह आयोजन उत्तर प्रदेश में पर्यटन की सम्भावनाओं को दर्शाता है।

     मुख्यमंत्री जी ने कहा कि भारत की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत सबसे प्रभावी ढंग से उत्तर प्रदेश में दिखायी देती है। श्रीराम जन्मभूमि, श्रीकृष्ण जन्मभूमि, बाबा विश्वनाथ का मन्दिर, गंगा और यमुना का संगम आदि उत्तर प्रदेश में हैं। इसके अलावा, ईको पर्यटन की दृष्टि से भी प्रदेश समृद्धशाली है। भारत-नेपाल के सीमावर्ती क्षेत्र, विंध्य क्षेत्र के जलप्रपात, सोनभद्र, मीरजापुर के जंगल, बुन्देलखण्ड का क्षेत्र प्राकृतिक सौन्दर्य से युक्त हैं। यह फिल्म जगत के लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है।

    मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश का कनेक्टिविटी की दृष्टि से विकास फिल्म सिटी के लिए उपयोगी है। प्रदेश में 04 नये एक्सप्रेस-वे बनाए जा रहे हैं। जिला मुख्यालयों को 04 लेन मार्ग से जोड़ा जा रहा है। अन्य देशों व प्रदेशों से राज्य को जोड़ने वाले मार्ग को 04 लेन मार्ग बनाया जा रहा है। प्रदेश के प्रत्येक मण्डल मुख्यालय में नया एयरपोर्ट स्थापित किया जा रहा है। वर्ष 2017 में राज्य में केवल 02 एयरपोर्ट कार्यशील थे। वर्तमान में 07 एयरपोर्ट संचालित हो रहे हैं। 14 एयरपोर्ट पर कार्य चल रहा है। जेवर, कुशीनगर और अयोध्या में अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट बनाया जा रहा है। 

     कार्यक्रम के दौरान यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्री अरुणवीर सिंह ने प्रस्तावित फिल्म सिटी एवं अन्य विकास कार्याें के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण दिया। 

    कार्यक्रम में फिल्म निर्माता श्री राहुल मित्रा, फिल्म निर्माता श्री पहलाज निहलानी, फिल्म निर्माता श्री अजय राय, अभिनेता श्री सतीश कौशिक, लाइका प्रोडक्शन्स के सी0ई0ओ0 श्री आशीष सिंह, जी के प्रोेडक्शन हेड श्री सुमित खुराना, वायकाॅम 18 मोशन पिक्चर्स के वाइस प्रेसीडेण्ट मार्केटिंक श्री रुद्रुप दत्ता, निर्माता श्री राजीव मल्होत्रा, फिल्म निर्देशक श्री तिग्मांशु धुलिया, फिल्म निर्देशक श्री अनिल शर्मा, फिल्म निर्माता सुश्री पूनम शिवदसानी, कार्निवाल मोशन पिक्चर्स की सी0ई0ओ0 सुश्री वैशाली सरवानकर, फिल्म निर्देशक श्री हनी त्रेहन, अभिनेता श्री अर्जुन रामपाल, ट्रेड एनालिस्ट श्री कोमल नहाटा, सी0ई0ओ0 प्रोड्यूसर गिल्ड श्री नितिन तेज आहूजा, फिल्म निर्माता श्री विक्रम खाखर, निर्माता श्री रमेश यादव, निर्माता श्री अजय कपूर, निर्माता सुश्री विभा दत्ता, निर्माता श्री राज कुमार पाण्डेय, निर्माता डाॅ0 नितिन मिश्रा, निर्माता श्री जयन्ती लाल गडा, श्री करन आनन्द आदि उपस्थित थे।

     मुख्यमंत्री जी से फिल्म निर्माता श्री बोनी कपूर, एड लैब्स प्रा0लि0 के संस्थापक श्री मनमोहन शेट्टी तथा फिल्म निर्माता श्री आनन्द पण्डित ने भी भेंट की।

    इस अवसर पर औद्योगिक विकास मंत्री श्री सतीश महाना, एम0एस0एम0ई0 मंत्री श्री सिद्धार्थनाथ सिंह, नगर विकास मंत्री श्री आशुतोष टण्डन, सांसद श्री रवि किशन, उत्तर प्रदेश फिल्म विकास परिषद के अध्यक्ष श्री राजू श्रीवास्तव, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त श्री आलोक टण्डन, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एम0एस0एम0ई0 श्री नवनीत सहगल सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम