Skip to main content

नववर्ष पर प्रधानमंत्री करेंगे अवध विहार लाइट हाउस प्रोजेक्ट का शिलान्यास

नववर्ष पर प्रधानमंत्री करेंगे अवध विहार लाइट हाउस प्रोजेक्ट का शिलान्यास

  • वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रधानमंत्री जी करेंगे लखनऊ सहित देश के छह शहरों में लाइट हाउस प्रोजेक्ट का शिलान्यास
  • प्रधानमंत्री आवास योजना -शहरी के क्रियान्वयन में उत्तर प्रदेश लगातार अव्वल- मा. नगर विकास मंत्री श्री आशुतोष टंडन जी
  • प्रधानमंत्री आवास योजना -शहरी के अंतर्गत बनाए जाएंगे लाइट हाउस प्रोजेक्ट के मकान

लखनऊ, 31 दिसम्बर, 2020: नए साल पर आदरणीय प्रधानमंत्री  श्री नरेंद्र मोदी जी सुबह 11 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से छह राज्यों में छह स्थानों पर ग्लोबल हाउसिंग टेक्नोलॉजी चैलेंज-इंडिया (जीएचटीसी-इंडिया) के तहत लाइट हाउस प्रोजेक्ट्स (एलएचपी) का शिलान्यास करेंगे। इस दौरान लखनऊ में माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी और माननीय नगर विकास मंत्री श्री आशुतोष टंडन जी प्रोजेक्ट स्थल पर स्वयं उपस्थित रहेंगे।

प्रधानमंत्री अफोर्डेबल सस्टेनेबल हाउसिंग एक्सेलेरेटर्स - इंडिया (ASHA- इंडिया) के तहत विजेताओं की घोषणा भी करेंगे और प्रधानमंत्री आवास योजना - शहरी (PMAY-U) मिशन के क्रियान्वयन में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए वार्षिक पुरस्कार भी प्रदान करेंगे।

बीते साप्ताह राज्य के माननीय नगर विकास मंत्री श्री आशुतोष टंडन जी ने अवध विहार स्थित परियोजना स्थल का निरीक्षण किया था। उन्होंने लाइट हाउस प्रोजेक्ट के विषय में बताते हुए कहा, "आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की प्रेरणा से और माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के कुशल मार्ग निर्देशन के उत्तर प्रदेश प्रधानमंत्री आवास योजना के क्रियान्वयन में लगातार अव्वल बना हुआ है।"

माननीय मंत्री जी ने बताया कि बताया, " उत्तर प्रदेश के निरंतर उत्कृष्ट प्रदर्शन को देखते हुए, राज्य को राष्ट्रीय स्तर पर लाइट हॉउस प्रोजेक्ट के लिए एक मॉडल के रूप में चुना गया है। लाइट हॉउस प्रोजेक्ट में बनने वाले मकान नई टेक्नोलॉजी का प्रयोग करके बनाए जाएंगे, जिससे न केवल इस योजना का कार्य द्रुत गति से होगा और 15 माह के अंदर निर्माण पूरा हो जाएगा। इसके लिए तकनीकी मूल्यांकन समिति ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कई देशों को नई प्रौद्योगिकी उपलब्ध कराने वाले संगठनों का मूल्यांकन किया है।"

प्रधानमंत्री आवास योजना - शहरी मिशन का उद्देश्य "2022 तक सभी के लिए आवास" है।  राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों, शहरी स्थानीय निकायों और लाभार्थियों द्वारा उत्कृष्ट योगदान को सम्मानित करने के उद्देश्य से, आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय ने पीएमएवाई-शहरी के कार्यान्वयन में उत्कृष्टता के लिए वार्षिक पुरस्कारों की घोषणा भी की है।  पीएमएवाई (शहरी) पुरस्कार -2019 के विजेताओं को कार्यक्रम के दौरान सम्मानित किया जाएगा।

पूरे देश में लखनऊ सहित छह स्थानों राजकोट (गुजरात), रांची (झारखंड), इंदौर (मध्य प्रदेश), चेन्नई (तमिलनाडु), और अगरतला (त्रिपुरा) में बनने वाले लाइट हाउस प्रोजेक्ट में हर स्थान पर अलग अलग उन्नत टेक्नोलॉजी का प्रयोग किया जाएगा। लखनऊ में लाइट हाउस प्रोजेक्ट के आवासों के निर्माण में स्टे-इन पीवीसी फॉर्म फॉर्मवर्क सिस्टम तकनीक का प्रयोग होगा। स्टे-इन-प्लेस फॉर्मवर्क एक स्थाई और स्थिर रहने वाली तकनीक है जो विश्वभर में आमतौर पर निर्माण परियोजनाओं में उपयोग की जाती है। अवध विहार योजना लाइट हॉउस प्रोजेक्ट में 14 मंजिला टॉवर बनना है, जिसमें  1040 फ्लैट आर्थिक रूप से कमजोर तबके के लोगों के लिए निर्मित होंगे।

Comments

Popular posts from this blog

नाकामियों को छुपाने को लेकर पत्रकारों पर कराया जा रहा हमला-पूर्व मंत्री कमाल यूसुफ मलिक

नाकामियों को छुपाने को लेकर पत्रकारों पर कराया जा रहा हमला-पूर्व मंत्री कमाल यूसुफ मलिक डुमरियागंज , विगत दिनों सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में L2 कोविड अस्पताल के उद्घाटन के समय पत्रकार के साथ मारपीट की घटना काफी निंदनीय है जिसकी जांच कराते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए उक्त उदगार व्यक्त करते हुए डुमरियागंज के पूर्व विधायक/पूर्व मंत्री कमाल युसूफ मलिक ने कहा कि पत्रकार लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है लेकिन जिस तरीके से प्रशासन के आला अधिकारी व जनप्रतिनिधि मौजूद थे और लोगों ने उनके साथ मारपीट किया यह अशोभनीय घटना है तथा लोकतंत्र पर कड़ा प्रहार है। सच्चाई दिखाने को लेकर पत्रकार के साथ मारपीट किया गया। उन्होंने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि उच्च स्तरीय कमेटी बनाकर जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की जाए ताकि कोई भी भविष्य में लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पत्रकारों के साथ ऐसी बदसलूकी ना कर सके उन्होंने कहा कि उनके द्वारा इस संबंध में अधिकारियों को पत्र भेजते हुए राज्यपाल को इसके जांच के लिए मांग पत्र दिया जाएगा। Report: Malik Wamik

लखनऊ बादशाहनगर स्टेशन पर अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर समारोह का आयोजन

लखनऊ बादशाहनगर स्टेशन  पर अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर समारोह का आयोजन अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर  पर मण्डल परिचालन प्रबन्धक कोचिंग डॉ शिल्पी कनौजिया दुवारा बादशाहनगर स्टेशन  पर महिला दिवस पर समारोह का आयोजन किया गया । कार्यक्रम की शुरुवात मुख्य अतिथि  मण्डल रेल प्रबंधक उपस्थित अधिकारियों व स्टेशन अधीक्षक अभिषेक मिश्र के साथ मिल कर दीपप्रज्वलित किया गया था । महिला दिवस के उपलक्ष्य में बादशाहनगर रेलवे स्टेशन "कोविड 19 की दुनिया में महिलाओ का समान नेतृत्व को प्राप्त करना " विषय   रंगोलो प्रतियोगिता, पोस्टर मेकिंग ,गायन ,फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता का आयोजन महिलाओ के लिए किया गया साथ ही डाउन एएसआई लोको पायलट स्मिता कुमारी,सहायक लोको पायलट आंशिक चौधरी गार्ड जाग्रति त्रिपाठी स्टेशन मास्टर श्रीमती दीपमाला मिश्र श्रीमती रानी दुवारा हरी झंडी को दिखा कर मण्डल प्रबन्धक पूर्वोत्तर  के समक्ष रेल का संचालन सभी महिलाओ दुवारा किया गया जो महिलाओ के बढ़ते नेतृत को दर्शाता है ।  कार्यक्रम में मुख्य अतिथि  मण्डल रेल प्रबंधक डॉ मोनिका अग्निहोत्री रही ।साथ में अन्य प्रमुख अधिकारी  वरिष्ठ मण्डल पर

किसानों के संघर्ष व दर्द की कहनी है फिल्म 'गोदाम' : सुजीत प्रताप

किसानों के संघर्ष व दर्द की कहनी है फिल्म 'गोदाम' : सुजीत प्रताप - 17 दिसम्बर को अखिल भारतीय स्तर पर होगी प्रदर्शित  लखनऊ, 10 दिसम्बर 2021। किसानों के बहुत से मुद्दों को फिल्म निर्माता समय—समय पर उठाते रहे हैं। ऐसे ही ग़ाज़ीपुर के सुजीत प्रताप सिंह ने किसानों पर आधारित फिल्म गोदाम का निर्माण किया है, जो अखिल भारतीय स्तर पर आगामी 17 दिसम्बर को प्रदर्शित होगी। इस बात की जानकारी फिल्म के निर्माता सुजीत प्रताप सिंह ने आज राजधानी मे पत्रकारों को दी। उन्होनें बताया की सार्थक सिनेमा के बैनर तले बनी फिल्म गोदाम मे मास्टर ऋत्विक प्रताप सिंह, अखिल गौरव सिंह, विपिन पाणिग्रही, माया जायसवाल, अक्सर इलाहाबादी, सनी उपाध्याय, शायना खान, अरुण शुक्ला, हुमा कमाल, सुजीत प्रताप सहित अन्य अभिनेता फिल्म में नजर आएंगे। उन्होनें बताया की फिल्म का निर्देशन अखिल गौरव सिंह और अक्सर इलाहाबादी ने किया है। हीरोइन का किरदार एस बबली ने निभाया है। फिल्म गोदाम मे मुख्य भूमिका निभा रहे सुजीत प्रताप सिंह ने बताया कि वह स्वयं किसानों के परिवार से ताल्लुक रखते हैं, इसलिए किसानों का दर्द और संघर्ष जानते हैं। उन्होंने इस