Skip to main content

रीजेंसी सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल, लखनऊ ने कॉम्प्लीकेटेड एंडरोलॉजिकल प्रक्रिया से40 साल के व्यक्ति की जान बचायी


रीजेंसी सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल, लखनऊ ने कॉम्प्लीकेटेड एंडरोलॉजिकल प्रक्रिया से40 साल के व्यक्ति की जान बचायी



  • मरीज के अव्यवस्थित बायीं किडनी में 35 स्टोन थे

  • सुपाइन परक्यूटेनियस नेफ्रोलिथोटॉमी (पीसीएनएल) प्रक्रिया से स्टोन हटाया जाता है और अंगों को चोटिल होने से बचाया जाता है।


लखनऊ: रीजेंसी सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल, लखनऊ के डाक्टरों की टीम ने परक्यूटेनियस नेफ्रोलिथोटॉमी (पीसीएनएल) प्रक्रिया से एक 40 साल के व्यक्ति की जान बचायी। यह केस बहुत मुश्किलवदुर्लभ केस था क्योंकि मरीज के बायीं किडनी में बहुत सारे स्टोन थेऔर मरीज बायीं 'डायफ्रेगमेटिक पाल्सी' से पीड़ित था।
 
डायाफ्राम सांस लेने के लिए एक महत्वपूर्ण मांसपेशी है और इसमें कमजोरी होने से सांस लेने में परेशानी हो सकती है ।'डायफ्रेगमेटिक पाल्सी' फ्रेनिक नर्व में चोट लगने के कारण होता है और इसमें रेस्पिरेटरी पावर कमज़ोर हो जाती है ।और पेट के अंग जैसे आँतो, तिल्ली आदि चेस्ट में चली जाती है, जिससे हृदय एवं सांस की नली दायीं तरफ खिसक जाती है।
 
इस तरह की कंडीशन ज्यादा देखने को नहीं मिलती है। डायफ्रेगमेटिक पाल्सी से किडनी में स्टोन होने से यह प्रक्रिया बहुत कॉम्प्लीकेटेड हो जाती है। इस तरह की कंडीशन के निवारण के लिए बहुत ही कुशल मेडिकल ग्रुप और एडवांस आपरेशन थिएटर सेटअप की जरुरत होती है।
 
मरीज (श्री ओम प्रकाश) कोरीजेंसी सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल, लखनऊ में तब लाया गया जब उन्हें कई महीने से पेट के बायीं ओर दर्द होने की शिकायत हुई। जांच हुई तो पता चला कि डायफ्रेगमेटिक पाल्सी से उनकी किडनी अपने सही जगह से खिसक गयी थी। लेफ्ट किडनी में 32 स्टोन मिले। वह करीब एक साल से इस समस्या से पीड़ित थे और कई हॉस्पिटल में चक्कर लगा चुके थे लेकिन कोई भी उनका इलाज करने में सक्षम नहीं हुआ क्योंकि यह बहुत ही मुश्किल सर्जरी थी।
 
रीजेंसी सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल, लखनऊ के एम सीएच - यूरोलॉजी, डॉ सिद्धार्थ सिंह जी ने इस केस पर बोलते हुए कहा, " ख़राब खाने की आदतों और लाइफस्टाइल के कारण किडनी में स्टोन होने की समस्या पिछले एक दशक से बढ़ रही है। यह समस्या अब कॉमन हो गयी है। हालांकि यह केस बहुत कॉम्प्लीकेटेड था क्योंकि डायफ्रेगमेटिक पाल्सी के कारण किडनी की स्थिति सही नहीं थी। मरीज इस समस्या से एक साल से पीड़ित था। स्टोन निकालने के लिए तुरंत एक्शन लेने की जरूरत थी। हमने यूएसजी निर्देशित पीसीएनएल किया क्योंकि तकनीकी रूप से यही योग्य प्रक्रिया थी और इससे मरीज को, यूरोलोजिस्ट्स, एनेस्थेसिओलोजिस्ट्स को कई फायदे थे। इस एंडोस्कोपिक सर्जरी से दर्द कम होता है, हॉस्पिटल में कम रहना पड़ता है, और बॉडी में बिना किसी कट से रिकवरी बहुत तेज होती है।"
 
अल्ट्रासाउंड-निर्देशित पीसीएनएल के हर केस का औसत खर्चा फ्लोरोस्कोपी-निर्देशित पीसीएन से लगभग 30% कम होता है। इस प्रक्रिया से न केवल मरीज को दर्द से आराम मिलता है बल्कि सर्जरी के बाद मरीज तुरंत सामान्य जीवन में वापस आ जाता है। कोरोनावायरस महामारी के दौरान इस तरह की सर्जरी में यह फायदा है की मरीज को ज्यादा दिन तक हॉस्पिटल में नहीं रहना पड़ता। हॉस्पिटल में रहने से कोरोनावायरस इन्फेक्शन और हॉस्पिटल एक्वायर्ड इन्फेक्शन (HAF) से इन्फेक्ट होने का चांस ज्यादा रहता है।
 
डॉ सिद्धार्थ सिंह जी ने आगे कहा, "यह सर्जरी एडवांस मेडिकल इक्विपमेंट तथा सबसे अच्छी एनेस्थेसिया टीम की मौजूदगी से यह सर्जरी सफल हो पायी। इस तरह के केस अक्सर मेट्रोपोलीटिन शहरों (यहाँ पर फैसिलिटी एडवांस होती है) में ले जाए जाते हैं। हमारे पास भी लखनऊ में भी एडवांस इक्विपमेंट और जरूरी फैसिलिटी है, इसलिए हमने इस सर्जरी को सफलतापूर्वक किया। हम इस तरह के कॉम्प्लीकेटेड केसेस को अक्सर हैंडल करते रहते हैं। हम  इस तरह की सर्जरी (पीसीएनएल) में लखनऊ में टॉप पर होकर खुश हैं।“


Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम