Skip to main content

 

वैज्ञानिक ज्ञान कलात्मक प्रतिभा का अदभुत नजारा दिखा, -कोफास-2020 में

लखनऊ, 30  नवम्बर। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, राजेन्द्र नगर (प्रथम कैम्पस) द्वारा आॅनलाइन आयोजित चार दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय कम्प्यूटर ओलम्पियाड-कोफास-2020’ का तीसरा दिन प्रतियोगिताओं की सुन्दर लड़ी में पिरोया गया।  रूस, जार्डन, बांग्लादेश, ओमान, कतर एवं भारत के प्रतिभागी छात्रों ने आज रेन्डीशन (पेपर प्रजेन्टेशन), -कोफास डूडल एवं काॅस्टेक (कोरियोग्राफी) प्रतियोगिताओं में अपने कम्प्यूटर ज्ञान का परचम लहराया, साथ ही कलात्मक प्रतिभा का जोरदार प्रदर्शन भी किया।

            इस अवसर पर की-नोट एड्रेस देते हुए सी.एम.एस. के चीफ एक्जीक्यूटिव आॅफीसर श्री रोशन गाँधी ने कहा कि इस -कोफास का विषय और इसे अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित करना सांकेतिक रूप से बहुत महत्वपूर्ण है। इस प्रतियोगिता में भाग लेकर छात्र कम्प्यूटर के क्षेत्र में ज्यादा बेहतर भविष्य बना सकते हैं, साथ ही साइबर नेटवर्किंक की मदद से वैश्विक समस्याओं जैसे पर्यावरण, आतंकवाद, परमाणु खतरों आदि के समाधान में भी अपना योगदान दे सकते हैं क्योंकि इन समस्याओं की कोई सीमा नहीं है और इसका समाधान विश्व एकता में ही निहित है।

            -कोफास-2020’ के तीसरे दिन की प्रतियोगिताओं का सिलसिला रेन्डीशन (पेपर प्रजेन्टेशन) प्रतियोगिता से हुआ जिसमें देश-विदेश की प्रतिभागी टीमों नेन्यू होरिजन आॅफ एनर्जी एफिसिएन्सी एण्ड -वेस्ट मिनिमाईजेशन विषय पर अपनी प्रस्तुतियों के माध्यम से बेहद सारगर्भित विचार प्रस्तुत किए। प्रतिभागियों ने बताया कि किस प्रकार तकनीकी विकास पर्यावरण में संतुलन बनाकर विश्व मानवता का विकास सुनिश्चित किया जा सकता है। प्रतियोगिता में जुबली स्कूल, जार्डन की डायना डावरी एवं वफा इस्लाम ने वल्र्ड आॅफ ग्रीन कॅप्यूटिंग, इण्डियन स्कूल, ओमान के आदित्य कुकरेती एवं वंशिका जैन नेग्रीन कम्प्यूटिंग - न्यू फ्यूचर आॅफ एनर्जी एफिसिएन्सी एवं सेंट ग्रेगरी हाई स्कूल, ढाका, बांग्लादेश के रफीउल आलम एवं जाबिर अल महदी समेत कुल 10 छात्र टीमो ने अपने शोध प्रस्तुत किये। इसी प्रकार जूनियर वर्ग के लिए आयोजित-कोफास डूडल प्रतियोगिता में भी प्रतिभागी छात्रों ने कोफास लोगो पर आधारित सुन्दर-सुन्दर डूडल बनाये। इस प्रतियोगिता में छात्रों की रचनात्मक सोच, सृजनात्मक कलात्मक क्षमता कम्प्यूटर ज्ञान को परखा गया।

            इसके अलावा, आज आयोजित काॅस्टेक (कोरियोग्राफी) प्रतियोगिता सभी के आकर्षण का केन्द्र रही, जिसमें छात्रों ने अपनी अभिनय क्षमता कलात्मक प्रतिभा का नजारा प्रस्तुत किया। प्रतियोगिता का विषय थाइल्यूमिनेट, जिस पर पाँच -पाँच छात्र समूह ने नृत्य संगीत की प्रस्तुति दी। जहाँ एक ओर पठानिया पब्लिक स्कूल, रोहतक के छात्रों ने  पर्यावरण पर संवेदना जताई तो वहीं दूसरी ओर डी.पी.एस. कल्यानपुर, कानपुर के छात्रों ने सोशल मीडिया एडिक्शन विषय पर जागरूकता जगाई। इसी प्रकार, देश-विदेश के विभिन्न प्रतिष्ठित विद्यालयों की छात्र टीमों ने नृत्य प्रतिभा हावभाव का जोरदार प्रदर्शन विभिन्न ज्वलन्त विषयों पर जागरूकता फैलाई।

            सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि चार दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय कम्प्यूटर  ओलम्पियाड-कोफास-2020’ अब अपने अत्यन्त सफल समापन की ओर बढ़ रहा है। कल, 30 नवम्बर को अपरान्हः 3.30 बजे आयोजित पुरस्कार वितरण समारोह के साथ यह ओलम्पियाड अपनी सम्पूर्ण भव्यता के साथ सम्पन्न हो जायेगा। 

Comments

Popular posts from this blog

नाकामियों को छुपाने को लेकर पत्रकारों पर कराया जा रहा हमला-पूर्व मंत्री कमाल यूसुफ मलिक

नाकामियों को छुपाने को लेकर पत्रकारों पर कराया जा रहा हमला-पूर्व मंत्री कमाल यूसुफ मलिक डुमरियागंज , विगत दिनों सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में L2 कोविड अस्पताल के उद्घाटन के समय पत्रकार के साथ मारपीट की घटना काफी निंदनीय है जिसकी जांच कराते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए उक्त उदगार व्यक्त करते हुए डुमरियागंज के पूर्व विधायक/पूर्व मंत्री कमाल युसूफ मलिक ने कहा कि पत्रकार लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है लेकिन जिस तरीके से प्रशासन के आला अधिकारी व जनप्रतिनिधि मौजूद थे और लोगों ने उनके साथ मारपीट किया यह अशोभनीय घटना है तथा लोकतंत्र पर कड़ा प्रहार है। सच्चाई दिखाने को लेकर पत्रकार के साथ मारपीट किया गया। उन्होंने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि उच्च स्तरीय कमेटी बनाकर जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की जाए ताकि कोई भी भविष्य में लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पत्रकारों के साथ ऐसी बदसलूकी ना कर सके उन्होंने कहा कि उनके द्वारा इस संबंध में अधिकारियों को पत्र भेजते हुए राज्यपाल को इसके जांच के लिए मांग पत्र दिया जाएगा। Report: Malik Wamik

लखनऊ बादशाहनगर स्टेशन पर अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर समारोह का आयोजन

लखनऊ बादशाहनगर स्टेशन  पर अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर समारोह का आयोजन अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर  पर मण्डल परिचालन प्रबन्धक कोचिंग डॉ शिल्पी कनौजिया दुवारा बादशाहनगर स्टेशन  पर महिला दिवस पर समारोह का आयोजन किया गया । कार्यक्रम की शुरुवात मुख्य अतिथि  मण्डल रेल प्रबंधक उपस्थित अधिकारियों व स्टेशन अधीक्षक अभिषेक मिश्र के साथ मिल कर दीपप्रज्वलित किया गया था । महिला दिवस के उपलक्ष्य में बादशाहनगर रेलवे स्टेशन "कोविड 19 की दुनिया में महिलाओ का समान नेतृत्व को प्राप्त करना " विषय   रंगोलो प्रतियोगिता, पोस्टर मेकिंग ,गायन ,फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता का आयोजन महिलाओ के लिए किया गया साथ ही डाउन एएसआई लोको पायलट स्मिता कुमारी,सहायक लोको पायलट आंशिक चौधरी गार्ड जाग्रति त्रिपाठी स्टेशन मास्टर श्रीमती दीपमाला मिश्र श्रीमती रानी दुवारा हरी झंडी को दिखा कर मण्डल प्रबन्धक पूर्वोत्तर  के समक्ष रेल का संचालन सभी महिलाओ दुवारा किया गया जो महिलाओ के बढ़ते नेतृत को दर्शाता है ।  कार्यक्रम में मुख्य अतिथि  मण्डल रेल प्रबंधक डॉ मोनिका अग्निहोत्री रही ।साथ में अन्य प्रमुख अधिकारी  वरिष्ठ मण्डल पर

किसानों के संघर्ष व दर्द की कहनी है फिल्म 'गोदाम' : सुजीत प्रताप

किसानों के संघर्ष व दर्द की कहनी है फिल्म 'गोदाम' : सुजीत प्रताप - 17 दिसम्बर को अखिल भारतीय स्तर पर होगी प्रदर्शित  लखनऊ, 10 दिसम्बर 2021। किसानों के बहुत से मुद्दों को फिल्म निर्माता समय—समय पर उठाते रहे हैं। ऐसे ही ग़ाज़ीपुर के सुजीत प्रताप सिंह ने किसानों पर आधारित फिल्म गोदाम का निर्माण किया है, जो अखिल भारतीय स्तर पर आगामी 17 दिसम्बर को प्रदर्शित होगी। इस बात की जानकारी फिल्म के निर्माता सुजीत प्रताप सिंह ने आज राजधानी मे पत्रकारों को दी। उन्होनें बताया की सार्थक सिनेमा के बैनर तले बनी फिल्म गोदाम मे मास्टर ऋत्विक प्रताप सिंह, अखिल गौरव सिंह, विपिन पाणिग्रही, माया जायसवाल, अक्सर इलाहाबादी, सनी उपाध्याय, शायना खान, अरुण शुक्ला, हुमा कमाल, सुजीत प्रताप सहित अन्य अभिनेता फिल्म में नजर आएंगे। उन्होनें बताया की फिल्म का निर्देशन अखिल गौरव सिंह और अक्सर इलाहाबादी ने किया है। हीरोइन का किरदार एस बबली ने निभाया है। फिल्म गोदाम मे मुख्य भूमिका निभा रहे सुजीत प्रताप सिंह ने बताया कि वह स्वयं किसानों के परिवार से ताल्लुक रखते हैं, इसलिए किसानों का दर्द और संघर्ष जानते हैं। उन्होंने इस