Skip to main content

आरोग्यता के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए रोग के कारण को जानने के साथ-साथ इसके निवारण का उपाय करना आवश्यक है।


आरोग्यता के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए रोग के कारण को जानने के साथ-साथ इसके निवारण का उपाय करना आवश्यक है।


उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि आरोग्यता के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए रोग के कारण को जानने के साथ-साथ इसके निवारण का उपाय करना आवश्यक है। रोग के उपचार की व्यवस्था करने के बावजूद रोग के कारणों की रोकथाम न किया जाना समाज की सबसे बड़ी बीमारी हो जाती है। मुख्यमंत्री जी आज यहां किंग जाॅर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय परिसर में ‘माँ शारदालय’ मन्दिर के लोकार्पण के पश्चात अटल बिहारी वाजपेयी साइंटिफिक कनवेन्शन सेण्टर में आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। ज्ञातव्य है कि प्रत्येक वर्ष बसन्त पंचमी पर संस्थान के विद्यार्थियों द्वारा सरस्वती पूजा के अवसर पर देवी सरस्वती की प्रतिमा स्थापित की जाती रही है। पूजा के पश्चात यह प्रतिमा गोमती नदी में विसर्जित की जाती है। नदी में प्रतिमा के विसर्जन से होने वाले प्रदूषण की रोकथाम के उद्देश्य से चिकित्सा विश्वविद्यालय परिसर में संस्थान के एलुमनाई सेल के सौजन्य से यह मन्दिर बनाया गया है। इसमें माँ शारदा एवं भगवान धन्वंतरि की मूर्तियां स्थापित की गयीं हैं। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि विद्या और मेधा की अधिष्ठात्री देवी माँ शारदा तथा आरोग्यता के देव भगवान धन्वंतरि की प्रतिमाओं की एक साथ स्थापना का एक ही लक्ष्य है कि हम अपनी मेधा को लोककल्याणकारी बनाते हुए समाज को आरोग्यता के लक्ष्य की पूर्ति हेतु अग्रसर कर सकें। यह मन्दिर आस्था का प्रतीक होने के साथ-साथ नदी एवं जल संस्कृति के प्रति जागरूक होने का उदाहरण भी है। विसर्जन के समय मूर्ति से निकलने वाले पदार्थ नदी के जल को दूषित न कर सके इसलिए यह नदी के प्रदूषण को कम करने का संस्थान का एक अभिनव प्रयास है। उन्होंने कहा कि मन्दिर में स्थापित प्रतिमाओं की दिव्यता और भव्यता संस्थान की भव्यता और दिव्यता को आगे ले जाने में सहायक सिद्ध होगी।


मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हर भारतीय मानता है कि जल ही जीवन है। जल के बगैर लम्बे अन्तराल तक जीवित नहीं रहा जा सकता। वर्तमान समय में जल की शुद्धता एवं संचयन के प्रति जागरूकता का अभाव दिखता है। जल की कीमत को नहीं समझा। समाज को यह कीमत चुकानी पड़ रही है। अनेक क्षेत्र भीषण जल संकट से ग्रसित हैं। जल जनित बीमारियां भी लोगों को प्रभावित कर रहीं हैं। ‘नमामि गंगे’ कार्यक्रम के माध्यम से गंगा नदी को निर्मल बनाने में प्राप्त सफलता का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री जी ने बताया कि पिछले लगभग ढाई वर्ष के दौरान यह कार्य सम्पादित किया गया। इस वर्ष बाढ़ के दौरान जनपद वाराणसी के अपने भ्रमण का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उन्होंने एन0डी0आर0एफ0 के एक कार्मिक से गंगा नदी की निर्मलता की वास्तविकता की व्यवहारिक जानकारी चाही। एन0डी0आर0एफ0 कर्मी ने बताया कि 03 वर्ष पहले यह स्थिति थी कि एन0डी0आर0एफ0 के नये रिक्रूट को जब गंगा नदी में प्रशिक्षित किया जाता था तब एक सप्ताह में उनके शरीर की त्वचा पर लाल चकत्ते पड़ जाते थे। जबकि अब नदी में कई दिनों की निरन्तर ट्रेनिंग के बावजूद कोई त्वचा रोग नहीं होता।


प्रयागराज कुम्भ-2019 में लगभग 25 करोड़ श्रद्धालुओं ने गंगा जी में डुबकी लगाई जबकि 06 वर्ष पूर्व आयोजित महाकुम्भ में मात्र 12 करोड़ ही श्रद्धालु आये थे। गंगा जी की निर्मलता और अविरलता के परिणामस्वरूप श्रद्धालुआंे की संख्या में वृद्धि हुई। कानपुर में सीसामऊ नाले को टैप करके 140 एम0एल0डी0 सीवर को गंगा नदी में गिरने से रोका गया। इसके लिए एक एस0टी0पी0 स्थापित किया गया, जिसका शोधित जल भी नदी में नहीं गिराया जाता। अब वहां गंगा जी में जलीय जीव दिखने लगे हैं, जो पहले लुप्त हो गये थे। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि नदियांे को प्रदूषण मुक्त एवं निर्मल बनाने के लिए आवश्यक है कि इनमें पाॅलीथीन, कूड़ा-करकट न डाला जाए। सरकार अपने स्तर से प्रयास कर रही है। लोगों को भी इस दिशा में आगे आना होगा। पर्यावरण संतुलन की दृष्टि से पाॅलीथीन पर प्रतिबन्ध लगाया गया। आरोग्यता के लिहाज से भी यह आवश्यक है। स्वच्छता पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि स्वच्छता को अपनाकर जल-जनित बीमारियों को नियन्त्रित किया जा सकता है। स्वच्छ भारत मिशन और इसके साथ पिछले 02 वर्ष के दौरान किए गये प्रयासों के परिणामस्वरूप इन्सेफिलाइटिस के मामलों में 56 प्रतिशत तथा इस रोग से होने वाली मृत्यु के मामलों में 81 प्रतिशत की कमी आयी है।


कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री क्षेत्र धर्मस्थल, कर्नाटक के धर्माधिकारी, पद्म विभूषण से सम्मानित डाॅ0 वीरेन्द्र हेग्गडे ने कहा कि चिकित्सा जगत में इस संस्थान का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने मुख्यमंत्री जी की कार्यशैली की प्रशंसा करते हुए कहा कि वे सेवा के प्रति समर्पित हैं। चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री सुरेश खन्ना ने कहा कि ज्ञानार्जन द्वारा बेहतर कार्य करने की जिज्ञासा और जनसेवा की भावना को अपनाकर चिकित्सक लोगों का सम्मान प्राप्त कर सकता है। आस्था एवं संस्कार हमें तमाम कुरीतियों से बचाते हैं। ‘माँ शारदालय’ मन्दिर चिकित्सकों को लोगों का जीवन बेहतर बनाने के लिए प्रेरित करेगा। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 एम0एल0बी0 भट्ट ने अतिथियों का स्वागत किया तथा प्रति-कुलपति प्रो0 जी0पी0 सिंह ने धन्यवाद ज्ञापित किया। माँ शारदालय मन्दिर एवं माँ शारदा की प्रतिमा की स्थापना के लिए पी0ओ0सिटी के डायरेक्टर श्री सौरभ गर्ग तथा भगवान धन्वंतरि की प्रतिमा की स्थापना के लिए पी0वी0 इन्टरप्राइजेज के श्री विजय अग्रवाल एवं श्री राजेन्द्र अग्रवाल को सम्मानित किया गया। मुख्यमंत्री जी ने ‘माँ शारदालय’ मन्दिर के परिसर में रुद्राक्ष का पौधा भी रोपित किया। इस अवसर पर चिकित्सा शिक्षा राज्य मंत्री श्री संदीप सिंह, संकाय प्रभारी एलुमनाई सेल प्रो0 दिवाकर दलेला सहित विश्वविद्यालय के शिक्षकगण, छात्र-छात्राएं एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।


Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम