Skip to main content

एच.आई.वी/एड्स कार्यक्रम, भारत में स्वास्थ्य सुधारों हेतु चलाये जा रहे श्रेष्ठतम कार्यक्रमों में से एक है।


एच.आई.वी/एड्स कार्यक्रम, भारत में स्वास्थ्य सुधारों हेतु चलाये जा रहे श्रेष्ठतम कार्यक्रमों में से एक है।


एच.आई.वी/एड्स कार्यक्रम, भारत में स्वास्थ्य सुधारों हेतु चलाये जा रहे श्रेष्ठतम कार्यक्रमों में से एक है। राष्ट्रीय एड्स नियन्त्रण संगठन द्वारा राज्यों में एड्स नियन्त्रण सोसाइटी के माध्यम से अत्यन्त प्रभावकारी कार्य-योजना के अन्तर्गत कार्य किये जा रहे है। इसी का प्रतिफल है कि वर्तमान में उत्तर प्रदेष में एच.आई.वी./एड्स एपीडैमिक का स्तर कम हो रहा है। राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर उपस्थित सभी युवाओं से मै कहना चाहूंगा कि समाज में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए हमें एक-जुट होकर एच.आई.वी./एड्स सम्बन्धी आवष्यक जानकारी जन-जन तक पहुचाना होगा। साथ ही समाज में विषेषकर चिकित्सा क्षेत्र में एच.आई.वी संक्रमितों से होने वाले भेद-भाव को समूल समाप्त करना होगा। उक्त बातें राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर आज दिनांक 13 जनवरी 2020 को डाॅ0 राम मनोहर लोहिया, इन्सटिट्यूट आफ मेडिकल सांइन्सेज़ के कम्युनिटी मेडिसिन विभाग तथा उ0 प्र0 राज्य एड्स नियन्त्रण सोसाइटी द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि प्रोफेसर ए.के. त्रिपाठी, निदेषक, डाॅ0 राम मनोहर लोहिया, इन्सटिट्यूट आफ मेडिकल सांइन्सेज, लखनऊ द्वारा कहीं गई।


उक्त से पूर्व कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि प्रोफेसर ए.के. त्रिपाठी, निदेषक, डाॅ0 राम मनोहर लोहिया, इन्सटिट्यूट आफ मेडिकल सांइन्सेज, लखनऊ, उ0प्र0 राज्य एड्स नियन्त्रण सोसाइटी से संयुक्त निदेषक, डाॅ0 गीता अग्रवाल, श्री रमेष चन्द्र श्रीवास्तव, डाॅ0 प्रीति पाठक, कम्युनिटि मेडिसिन विभागाध्यक्ष प्रो0 एस.डी. कान्डपाल, डीन प्रो0 नुजहत हुसैन तथा संस्थान के रजिस्ट्रार प्रो0 राजन भटनागर द्वारा दीप प्रज्वलन करते हुए किया गया।


इस अवसर पर प्रो0 एस.डी. कान्डपाल ने कहा कि राष्ट्रीय युवा दिवस की इस वर्ष की विषय वस्तु ‘‘राष्ट्र निमार्ण हेतु युवा शक्ति को संगठित करना’’ है। राष्ट्रीय युवा दिवस का आयोजन प्रत्येक वर्ष भारत के महान संत/दार्षनिक स्वामी विवेकानन्द जी के जन्म दिवस के अवसर पर किया जाता है। स्वामी जी एक अद्वतीय प्रतिभा के स्वामी थे। षिकागो विष्व सम्मेलन के माध्यम से उन्होने विष्व को भारत के ज्ञान पुंज से परिचित कराया था। सभी युवाओं के लिए स्वामी विवेकानन्द एक प्रेरणा है जिनका अनुसरण करके आप राष्ट्र निर्माण के लिए अपना योगदान दे सकते है।


कार्यक्रम में उ0प्र0 राज्य एड्स नियन्त्रण सोसाइटी की ओर से उपस्थित डाॅ0 गीता अग्रवाल ने कहा कि राष्ट्रीय एड्स नियन्त्रण संगठन भारत सरकार के मार्ग दर्षन में उ0प्र0 राज्य नियन्त्रण सोसाइटी द्वारा राज्य में एच.आई.वी./एडस से बचाव, रोकथाम एवं उपचार की दषा में पूरी निष्ठा के साथ कार्य किया जा रहा है। जन-मानस के प्रसार, एच.आई.वी परामर्ष तथा मुफ्त जांच तथा मुफ्त उपचार उपलब्ध कराये जाने हेतु सोसाइटी पूर्णरूप से कटिबद्ध है। साथ ही समाज में एच.आई.वी/एड्स संक्रमितों के हितों की रक्षा एवं उन्हंे समान अधिकार दिलाये जाने की दिषा में भी विभिन्न विभागों के साथर समन्वय बनाते हुये समग्र प्रयास किये जा रहें है। इस अवसर पर उ0 प्र0 राज्य एड्स नियन्त्रण सोसाइटी की संयुक्त निदेषक के रूप में मै उम्मीद करती हू कि हमारे प्रदेष का युवा एच.आई.वी/एड्स के विषय में जागरूक बने अथ्र अपने जीनक े महत्वपूर्ण फैसले समझदारी के साथ लें। स्वस्थ् जीवन शैली हम सभी का दायित्व है। स्वस्थ जीवन शैली अपनाकर न केवल हम अपना बल्कि अपने पूरे परिवार को स्वास्थ एवं एच.आई.वी. मुक्त रख सकते है।


सोसाइटी के संयुक्त निदेशक -टी.आई. श्री रमेष चन्द्र श्रीवास्तव ने युवाओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि किसी भी एच.आई.वी. सवंमित के साथ दुव्र्यवहार न होन पाये और उसे भी समाज में सम्मान से जीने के अवसर मिलना जरूरी है। इसलिए युवाओं को एच.आई.वी. संक्रमितों के साथ हाने वाले किसी भी भेदभाव के विरूद्ध एकजुट रूप से खड़े होना होगा तभी अपने देष व प्रदेष को एच.आई.वी. मुक्त बनाया जा सकता है और एच.आई.वी संक्रमितों के हित में भयमुक्त वातावरण तैयार किया जा सकता है।


इस अवसर पर सोसाइटी की संयुक्त निदेषक डाॅ0 प्रीति पाठक ने कहा कि एच.आई.वी/एड्स के विरूद्ध नाको एवं सोसाइअी द्वारा मिषन मोड में किये जा रहे कार्यो में सफलता आप सभी के सक्रिय सहयोग के बिना सम्भव नही है। 


कार्यक्रम का आकर्षण का केन्द्र रहे रेड एफ एम से आये आर.जे सारान्ष ने युवाओं से सीधे संवाद स्थापित करते हुए एच.आई.वी. एवं स्वैछिक रक्तदान से जुड़े मुद्दों पर खुल कर बात की। आर.जे सारान्ष से बात करते हुए बच्चे काफी मुखर होकर सामने आये और अपनी बातें रखी। कार्यक्रम के अन्तर्गत लोहिया संस्थान के विभिन्न विभागांे तथा बाबा इन्सिटिट्यूट आफ नर्सिग और एम.एस. इन्सटीटियूट आफ नर्सिग के छात्र-छात्राओं द्वारा नुक्कड़ नाटक के माध्यम से एच.आई.वी./एड्स सम्बन्धी विभिन्न मुद्दों पर अभिनय किया गया। नुक्कड़ नाटक प्रतियोगिता में प्रथम व तृतीय पुरस्कार लोहिया संस्थान की दो टीमों तथा द्वितीय पुरस्कार एम.एस. इन्सटिट्यूट आफ नर्सिग के छात्र-छात्राओं ने जीता।


कार्यक्रम के अन्तिम चरण में सभी प्रतिभागियों तथा विजेताओं को प्रषस्ति-पत्र एवं मेडल देकर अतिथियों द्वारा उत्साह वर्धन किया गया। उपस्थित मुख्य अतिथि महोदय तथा अन्य अतिथियों को लोहिया संस्थान द्वारा स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।


उक्त कार्यक्रम में मुख्य रूप से डाॅ0 गीता अग्रवाल, श्री रमेष चन्द्र श्रीवास्तव, डाॅ0 प्रीति पाठक, श्री अनुज दीक्षित, श्री माधव श्याम त्रिपाठी, डाॅ चित्रा सुरेश, श्री अजय शुक्ला, श्री कृष्णा लेवन्या, श्री नरेन्द्र कश्यप, श्री नदीम खान, श्री सूरज रावत, सुश्री प्रभजोत कौर, डाॅ0 माया बाजपेयी, डाॅ0 अभिषेक सिंह आदि उपस्थित रहे।


Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम