Skip to main content

उन्नाव के बिहार गांव की रेप पीड़िता युवती को जिंदा जलाने की लोमहर्षक घटना ने सभी संवेदनशील लोगों को हिलाकर रख दिया था


उन्नाव के बिहार गांव की रेप पीड़िता युवती को जिंदा जलाने की लोमहर्षक घटना ने सभी संवेदनशील लोगों को हिलाकर रख दिया था


लखनऊ I 5 दिसम्बर 2019, उन्नाव के बिहार गांव की रेप पीड़िता युवती को जिंदा जलाने की लोमहर्षक घटना ने सभी संवेदनशील लोगों को हिलाकर रख दिया था। उसकी तड़प को महसूस करते हुए और उसे न्याय दिलाने के लिए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव 07 दिसम्बर 2019, विधान भवन के मुख्य द्वार पर श्रद्धांजलि अर्पित करने हेतु शोकसभा की थी। राष्ट्रीय सचिव श्री राजेन्द्र चौधरी तथा प्रदेश अध्यक्ष श्री नरेश उत्तम पटेल भी साथ थे।


     विगत 14 दिसम्बर 2019 को श्री अखिलेश यादव फिर रेप पीड़िता के परिवार से मिलने चल पड़े। वे दरअसल उस परिवार की स्थिति से अवगत होना चाहते थे। पीड़िता के गांव बिहार में श्री रवीन्द्र जायसवाल मिले जिन्होंने आग से जली पीड़िता के कहने पर यूपी डायल 100 नम्बर पर फोन कर घटना की सूचना दी थी। गिरजाशंकर सरला देवी पब्लिक इंटर कालेज के पास उसका घर है। इस घटना के एक प्रत्यक्षदर्शी श्री रवि शंकर कल्लू गुप्ता भी थे। भाटनखेड़ा गांव जनपद उन्नाव के बिहार थाना क्षेत्र के सुमेरपुर ब्लाक के अन्तर्गत है और भगवंत नगर विधानसभा क्षेत्र में आता है। यहां पीड़िता के पिता श्री राम किशुन विश्वकर्मा मिले। श्री विश्वकर्मा ने कहा उनको बेटी के लिए न्याय चाहिए। उसके हत्यारों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए। उन्होंने बिजली की गड़बड़ी और फर्जी बिलों की भी शिकायत की।


       यहां अखिलेश यादव के साथ पूर्व कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र चैधरी, विधायक मनोज पाण्डेय, एम.एल.सी. सुनील सिंह साजन, सुधीर रावत, पूर्व विधायक उदयराज यादव, जिलाध्यक्ष उन्नाव धर्मेन्द सिंह यादव, आशुतोष सिंह, कैलाशपति केसरवानी, ज्ञानेन्द्र कुशवाहा गुड्डू आदि थे। श्री अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी पहले दिन से इस परिवार के साथ खड़ी है और आगे भी यथासंभव मदद करती रहेगी। न्याय की लड़ाई में यह परिवार अपने को अकेला नहीं समझे। समाजवादी पार्टी उनकी लड़ाई लड़ेगी।


       अखिलेश यादव की लखनऊ से उन्नाव यात्रा के रास्ते में पार्टी कार्यकर्ता, समर्थक, प्रशंसक सब अपनी टोलियों के साथ राष्ट्रीय अध्यक्ष के अभिवादन में खड़े थे। मोहनलालगंज में विधायक अम्बरीष सिंह पुष्कर ने और गुड्डू यादव के साथ युवाओं ने स्वागत किया। लखनऊ से पहले निगोहां में श्री अमर पाल सिंह तो बछरावां में रामलाल अकेला अपने साथियों और बेटों के साथ स्वागत में खड़े थे। बछरावां के कोन्सा मोड़ पर बबलू लोधी ने, अघौरा घाट पर तालाब से सिंघाड़ा तोड़ने वाले लक्ष्मण निषाद ने स्वागत किया। बछरावा से फतेहपुर रोड पर 55 किलोमीटर के रास्ते पर हर जगह श्री अखिलेश यादव का समर्थन हुआ। गुरबख्शगंज (रायबरेली) में नौजवानों ने भरोसा दिलाया कि सन् 2022 में भाजपा जाएगी, उत्तर प्रदेश में समाजवादी सरकार आयेगी। जनता उत्पीड़न से त्रस्त है। खींरो (रायबरेली) के सेमरी चैराहा से बिहार (उन्नाव) भाटनखेड़ा गांव तक सड़क गड्ढों से पटी पड़ी है। खीरों में गोकण साहू की चाय की दुकान है। श्री अखिलेश यादव यहां रूके और चाय भी पी। दुकान मालिक गोकण और उपस्थित जनसमुदाय ने कहा कि अगली सरकार आपकी ही बनेगी। जनता से अपना सम्पर्क ऐसे ही बनाए रहिए।


     अपनी यात्राओं में समाज, देश, परिवेश सब पर श्री अखिलेश यादव का स्फुट चिंतन चलता रहता है। जनजीवन की दशा पर वे चिंतित होते हैं। समस्याएं ही नहीं समाधान भी सोचते रहते हैं। भविष्य का उत्तर प्रदेश बनाने का वे लगातार सपना देखते हैं।   नागरिकता संशोधन बिल (कैब) पर देश के विभिन्न हिस्सों में लगी आग की खब़रों पर उनकी निगाह है। कैब का बढ़ता विरोध यह साबित कर रहा है कि जनाक्रोश को अनदेखा नहीं किया जा सकता है, क्योंकि वह संकुचित दृष्टि व तुच्छ राजनीति से ऊपर उठकर देशहित से प्रेरित होता है। यह कैब समाज को बांटने की योजना का हिस्सा है और जनता का ध्यान मूल मुद्दों से हटाने की साजिश है। भाजपा के कैब जैसे कदम ऐतिहासिक नहीं बल्कि भविष्य में ऐतिहासिक भूल साबित होगी। अचानक उत्तर प्रदेश में हुई ओलावृष्टि भी उनकी चिंता की परिधि में है। इस ओलावृष्टि से फसलों का भारी नुकसान हुआ है। सरसो, गेंहू, आदि फसलें इसकी चपेट में है। वे कहते हैं सरकार को किसानों को बचाने के लिए पर्याप्त मुआवजा देना चाहिए।


 रास्ते में उन्हें एक जगह पुलिस हमराही में पुरूष सिपाही के साथ महिला पुलिस दिख जाती है। श्री अखिलेश इसे उचित नहीं मानते हैं। वे महिलाओं के लिए अलग महिला फोर्स बनाने के बारे में सोचने लगते हैं। उनका कहना है कि महिलाओं को सम्मानजनक सेवा का अवसर मिलना चाहिए।


 नदियों का प्रदूषण भी गंभीर चिंता का विषय है। समाजवादी सरकार में गोमती सफाई का सफल अभियान चलाया गया था। लखनऊ में रिवरफ्रंट आकर्षण का केन्द्र बन गया था इन दिनों वहां काम रूका हुआ है। इन दिनों प्रधानमंत्री जी के नमामि गंगा प्रोजेक्ट का शोरशराबा है। अखिलेश जी पूछते हैं नदियों को प्रदूषिण मुक्त करने के भाजपा के कथित अभियान से हासिल क्या होने वाला है? वे कहते हैं सरकारों को जनता की आंखों में धूल नहीं झोंकनी चाहिए और फिर सामने जब नौजवान खड़े दिखाई देते हैं तो वे यह जानते हुए कि उनमें भी तमाम बेरोजगारी के शिकार हैं वे उनके भविष्य के बारे में चिंतित लगते हैं कि अगली सरकार बनने पर नौजवानों, विŸाविहीन शिक्षकों, शिक्षामित्रों, किसानों, के लिए अभी बहुत कुछ करना होगा। उपेक्षित समाज के प्रति उनकी संवेदना बराबर उन्हें नई कल्याणकारी योजनाओं के बारे में सोचने की प्रेरणा देती है। और तो और वे महिलाओं बच्चों की कुपोषण से मुक्ति और उनके लिए शिक्षा स्वास्थ्य की बेहतर व्यवस्थाओं की प्लानिंग भी करते नज़र आते हैं। यही सब श्री अखिलेश यादव की संवेदना है।


Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम