Skip to main content

मुख्यमंत्री ने उ0प्र0 हिन्दी संस्थान के 43वें स्थापना दिवस पर आयोजित ‘सम्मान समारोह-पुरस्कार वितरण एवं अभिनन्दन पर्व-2018’ कार्यक्रम को सम्बोधित किया 


मुख्यमंत्री ने उ0प्र0 हिन्दी संस्थान के 43वें स्थापना दिवस पर आयोजित 'सम्मान समारोह-पुरस्कार वितरण एवं अभिनन्दन पर्व-2018' कार्यक्रम को सम्बोधित किया 


मुख्यमंत्री ने उ0प्र0 हिन्दी संस्थान के 43वें स्थापना दिवस पर आयोजित 'सम्मान समारोह-पुरस्कार वितरण एवं अभिनन्दन पर्व-2018' कार्यक्रम को सम्बोधित किया मुख्यमंत्री ने हिन्दी साहित्य की विभूतियों को सम्मानित किया साहित्य समाज का मार्गदर्शक होता है: मुख्यमंत्री साहित्यकार को समाज की ज्वलन्त समस्याओं को रचनात्मक दिशा देने का प्रयास करना चाहिए, हमारी लेखनी ऐसी होनी चाहिए जो मार्ग दर्शक के रूप में समाज को नई दिशा दे सके रचनात्मक साहित्य के माध्यम से ही प्रगतिशील समाज की संकल्पना को साकार किया जा सकता संस्थान द्वारा उ0प्र0 माध्यमिक शिक्षा परिषद की परीक्षाओं में जिन छात्रों ने हिंदी साहित्य में अच्छा स्थान प्राप्त किया उन्हें भी सम्मानित किया जाना प्रशंसनीय , हिन्दी भाषा भारत को एक सूत्र में पिरोने वाली भाषा है, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने हिन्दी भाषा में अपने अभिभाषणों के माध्यम से न केवल दुनिया को भारत की ओर आकर्षित किया, बल्कि दुनिया को देश की ताकत का एहसास भी कराया है



लखनऊ: 30 दिसम्बर, 2019



उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि साहित्य समाज का मार्गदर्शक होता है। उन्होंने कहा कि  साहित्य का अर्थ ही है, जिसमें सबका हित हो। साहित्य के माध्यम से ही हम किसी समाज, राष्ट्र व संस्कृति को सम्बल प्रदान कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि साहित्यकार को समाज की ज्वलन्त समस्याओं को रचनात्मक दिशा देने का प्रयास करना चाहिए, जिसमें व्यापक लोक कल्याण और राष्ट्र कल्याण का भाव निहित हो।


मुख्यमंत्री जी आज उ0प्र0 हिन्दी संस्थान के 43वें स्थापना दिवस के अवसर पर यहां आयोजित 'सम्मान समारोह-पुरस्कार वितरण एवं अभिनन्दन पर्व-2018' कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने कहा कि साहित्य को अपना जीवन समर्पित करने वाले महान साहित्यकारों को सम्मानित किया जाना मेरे लिए गौरवपूर्ण है। साहित्य समाज का दर्पण होता है। इससे समाज की दिशा तय होती है। उन्होंने कहा कि हमारी लेखनी ऐसी होनी चाहिए जो मार्ग दर्शक के रूप में समाज को नई दिशा दे सके।


मुख्यमंत्री जी ने कहा कि आज आवश्यकता है कि रचनात्मक साहित्य को बढ़ावा दिया जाए। रचनात्मक साहित्य के माध्यम से ही प्रगतिशील समाज की संकल्पना को साकार किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि जो समाज अपनी विभूतियों को संरक्षित व संवर्धित करता है, वहीं समाज आगे बढ़ता है। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि संस्थान द्वारा उ0प्र0 माध्यमिक शिक्षा परिषद की परीक्षाओं में जिन छात्रों ने हिंदी साहित्य में अच्छा स्थान प्राप्त किया उन्हें भी सम्मानित किया जाना प्रशंसनीय है।


मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हिन्दी भाषा भारत को एक सूत्र में पिरोने वाली भाषा है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री श्रद्धेय अटल जी ने संयुक्त राष्ट्र संघ में अपना उद्बोधन हिन्दी भाषा में किया था। आज प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी हिन्दी भाषा में अपने अभिभाषणों के माध्यम से न केवल दुनिया को भारत की ओर आकर्षित कर रहे हैं, बल्कि दुनिया को देश की ताकत का एहसास भी करा रहे हैं।


मुख्यमंत्री जी ने कहा कि लेखनी का उपयोग समाज को बेहतर बनाने में करना चाहिए। बगैर चिन्तन के अच्छा साहित्य नहीं लिखा जा सकता है। प्रत्येक कालखण्ड में साहित्यकारों ने अपनी लेखनी के माध्यम से समाज की बुराइयों को दूर करने का प्रयास किया है। जब लेखनी से स्वस्थ साहित्य लिखा जाता है तो सृजनात्मकता व रचनात्मकता से राष्ट्र को एक नई दिशा मिलती है।


मुख्यमंत्री जी ने हिन्दी साहित्य से जुड़ी जिन विभूतियों को सम्मानित किया, उनमें डाॅ0 ऊषा किरण खान को 'भारत-भारती सम्मान', डाॅ0 मनमोहन सहगल को 'लोहिया साहित्य सम्मान', डाॅ0 बदरी नाथ कपूर को 'हिन्दी गौरव सम्मान', श्री भगवान सिंह को 'महात्मा गांधी साहित्य सम्मान', डाॅ0 ओम प्रकाश पाण्डेय को 'पं0 दीनदयाल उपाध्याय साहित्य सम्मान', डाॅ0 (श्रीमती) कमल कुमार को 'अवन्तीबाई साहित्य सम्मान', मणिपुर हिन्दी परिषद इम्फाल के महासचिव डाॅ0 अरिबम्ब ब्रज कुमार शर्मा को 'राजर्षि पुरुषोत्तमदास टण्डन सम्मान', डाॅ0 उदय नारायण गंगू को 'प्रवासी भारतीय हिन्दी भूषण सम्मान' तथा डाॅ0 बंडार मेणिके विजेतुंग को 'हिन्दी विदेश प्रसार सम्मान' से सम्मानित किया गया।


इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने 'पं0 दीनदयाल उपाध्याय साहित्य सम्मान' से सम्मानित डाॅ0 ओम प्रकाश पाण्डेय द्वारा रचित पुस्तक 'सांस्कृतिक विचार की अविराम भारतीय यात्रा' का विमोचन किया।


ज्ञातव्य है कि हिन्दी गौरव सम्मान से सम्मानित डाॅ0 बदरी नाथ कपूर अस्वस्थ होने के कारण कार्यक्रम में प्रतिभाग नहीं कर सके। इस अवसर पर विधान सभा अध्यक्ष श्री हृदय नारायण दीक्षित, जलशक्ति मंत्री डाॅ0 महेन्द्र सिंह, हिन्दी संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष डाॅ0 सदानन्द प्रसाद गुप्त तथा निदेशक श्री श्रीकान्त मिश्र सहित बड़ी संख्या में साहित्य प्रेमी उपस्थित थे।


Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम