Skip to main content

प्रदेश सरकार राज्य में कानून का राज स्थापित कर अपराधमुक्त, अन्यायमुक्त एवं भयमुक्त वातावरण सृजित करने के लिए प्रतिबद्ध: मुख्यमंत्री



प्रदेश सरकार राज्य में कानून का राज स्थापित कर अपराधमुक्त, अन्यायमुक्त एवं भयमुक्त वातावरण सृजित करने के लिए प्रतिबद्ध: मुख्यमंत्री


लखनऊ: 24 नवम्बर, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज जनपद मुरादाबाद स्थित डाॅ0 भीमराव आम्बेडकर उत्तर प्रदेश पुलिस अकादमी में पुलिस उपनिरीक्षक सीधी भर्ती-2018 के आधारभूत कोर्स के दीक्षान्त परेड समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में सम्मिलित हुए। उन्होंने इस अवसर पर परेड की सलामी भी ली।


इस अवसर पर अपने सम्बोधन में मुख्यमंत्री ने प्रषिक्षुगण को सफल प्रषिक्षण पूर्ण करने पर बधाई देते हुए कहा कि प्रदेष सरकार राज्य में कानून का राज स्थापित कर अपराधमुक्त, अन्यायमुक्त एवं भयमुक्त वातावरण सृजित करने के लिए प्रतिबद्ध है। प्रदेष में कानून व्यवस्था सुदृढ़ कर जनमानस मंे सुरक्षा की भावना पैदा करना और अपराधियों के अन्दर कानून का भय व्याप्त करना प्रदेष षासन की प्रमुख नीति है। इससे लोगों मेें सुरक्षा की भावना का व्यापक संचार हुआ है।


मुख्यमंत्री जी ने प्रषिक्षुगण से प्रदेष में दक्ष व्यावसायिक, संवेदनषील तथा उत्तरदायी पुलिसिंग व्यवस्था सुनिष्चित कर दोषी व्यक्तियों को दण्ड दिलाने एवं पीड़ित व्यक्तियों को न्याय दिलाने का आह्वान किया। उन्होंने प्रषिक्षुगण से कहा कि आप देष के सबसे बडे़ पुलिस बल में एक जिम्मेदार पद पर नियुक्त हो रहे हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस बल में आपकी एक महत्वपूर्ण भूमिका है। आपसे अपने कार्य में जबावदेही, पारदर्षिता, जनसेवा के प्रति संवेदनषीलता, सत्यनिष्ठा एवं कठोर परिश्रम अपेक्षित है।



मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पुलिस आपराधिक न्याय प्रणाली का एक महत्वपूर्ण अंग है। पुलिस का दायित्व अपराधों का त्वरित अनावरण करके दोषी व्यक्ति को दण्ड दिलाना एवं पीड़ित व्यक्ति को न्याय दिलाना होना चाहिए। उन्होेंने कहा कि राज्य सरकार की प्राथमिकता अपराधमुक्त समाज की स्थापना है। उपनिरीक्षकगण को इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है। सुषासन की नींव, कानून व्यवस्था की मजबूती, अपराधों की रोकथाम तथा अपराधियों को दण्ड दिलाने से मजबूत होती है। यह कार्य तभी संभव है, जब प्रदेष में एक दक्ष व्यावसायिक संवेदनषील तथा उत्तरदायी पुलिसिंग व्यवस्था सुनिष्चित हो। उत्तर प्रदेष पुलिस का इस परिपे्रक्ष्य में एक गौरवषाली इतिहास रहा है। जब-जब प्रदेष के समक्ष कोई गंभीर कानून व्यवस्था स्थिति आयी है, तब-तब पुलिस बल द्वारा अपनी योग्यता, साहस, परिश्रम एवं आत्मबल के आधार पर उसका निराकरण किया गया है।


मुख्यमंत्री जी ने कहा कि नवप्रशिक्षित उपनिरीक्षणगण अपनी क्षमता, प्रतिभा एवं व्यावसायिक दक्षता का सकारात्मक प्रयोग कर आमजन के विष्वास पर खरा उतरने का प्रयास करें। जीवन में सदैव सत्य का पालन कर ईमानदारी से कर्तव्यों एवं दायित्वों का निवर्हन करें। आज पुलिस सेवा के प्रथम दिवस पर जो षपथ उनके द्वारा इस समारोह में ली गई है, उसका पूर्ण पालन करते हुए उसके उद्देष्यों को सही अर्थो में चरितार्थ करें। राज्य की कानून व्यवस्था का अनुरक्षण करने के साथ-साथ एक भयमुक्त तथा अपराधमुक्त समाज के निर्माण में भी सक्रिय एवं प्रभावी सहयोग दें।



मुख्यमंत्री जी ने इस अवसर पर इंडोर पुरस्कार विजेताओं श्री विनीत पंवार, श्री अमित कुमार सिंह, श्री अवनीष षुक्ल, श्री अतुल कुमार तिवारी, श्री सुनील कुमार मिश्र, श्री मनोज कुमार यादव, श्री संजीव कुमार, श्री सुमित त्रिपाठी, श्री सैफ अहमद अंसारी, श्री योगेष बाबू, श्री अवधेष तथा आउटडोर पुरस्कार विजेताओं श्री दीपक मिश्र, श्री सुरजीत यादव, श्री सौरभ सिंह, श्री अविनाष कुमार मिश्र, श्री षषिकान्त यादव, श्री षमी अषरफ षेख, श्री अंकित यादव, श्री दिलीप कुमार, श्री कुलवन्त यादव, श्री जितेन्द्र कुमार, श्री अतुल वर्मा एवं श्री राजेन्द्र सिंह को पुरस्कार प्रदान किया। ओवर आल इंडोर में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले श्री सुनील कुमार मिश्र तथा ओवर आल आउटडोर में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले श्री संदीप यादव सहित सर्वांग सर्वोत्तम श्री हरिजीत सिंह को भी मुख्यमंत्री जी द्वारा पुरस्कृत किया गया। दीक्षान्त परेड का नेृतत्व करने वाले प्रथम परेड कमाण्डर श्री गौरव चैधरी, द्वितीय परेड कमाण्डर श्री आदित्य गौतम तथा तृतीय परेड कमाण्डर श्री अंकित सिंह को भी मुख्यमंत्री जी द्वारा पुरस्कृत किया गया।


पुलिस महानिदेषक श्री ओ0पी0 सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि राज्य सरकार ने कानून व्यवस्था पर जीरो टाॅलरेन्स की नीति अपनायी है। कानून व्यवस्था का नियमित अनुश्रवण करके प्रभावी व्यवस्था सुनिष्चित की गयी है। इससे अपराधों पर नियत्रंण हुआ है और प्रदेष में विकास का माहौल बना है। सभी प्रमुख त्यौहार, मेले आदि सकुषलता पूर्वक संपन्न हुए हैं। इससे पुलिस की छवि उज्जवल हुई है। उन्होंने कहा कि प्रदेष में पहली बार हर जिले में एंटी रोमियो स्क्वाड का गठन किया गया। बेहतर पुलिसिंग, फुट पेट्रोलिंग तथा साइबर पेट्रोलिंग द्वारा बेहतर कानून व्यवस्था का वातावरण निर्मित किया गया। सरकार द्वारा संदिग्ध चरित्र वाले पुलिस अधिकारियों एवं कर्मियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देकर एक सकारात्मक संदेष दिया गया है। निदेषक पुलिस अकादमी श्री राजीव कृष्ण ने वर्ष 2018 बैच के सभी 299 नवप्रशिक्षित उपनिरीक्षकगण को सफल प्रषिक्षण पर षुभकामना देते हुए कहा कि प्रषिक्षण के दौरान आपराधिक विधियों सहित पुलिस आचरण के सिद्धान्त, पुलिस के कर्तव्यों के प्रति संवेदनषीलता, अपराध नियंत्रण एवं अपराधों के त्वरित अनावरण आदि विषयों पर सैद्धान्तिक एवं व्यावहारिक प्रषिक्षण दिया जाता है। इन्हें षारीरिक रूप से सुदृढ़ बनाने के लिए व्यायाम, खेलकूद, तैराकी, घुड़सवारी आदि का प्रषिक्षण भी प्रदान किया गया।


इस अवसर पर राज्य सरकार में मंत्री श्री चैधरी भूपेन्द्र सिंह, राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री अषोक कटारिया, राज्यमंत्री श्री बल्देव सिंह औलख सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण तथा प्रशासन व पुलिस अधिकारी उपस्थित थे।






 




Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम