Skip to main content

मुख्यमंत्री ने जनपद गोरखपुर में स्व0 सुरेन्द्र बहादुर सिंह उर्फ गुड्डू बाबू की प्रतिमा का किया अनावरण


मुख्यमंत्री ने जनपद गोरखपुर में स्व0 सुरेन्द्र बहादुर सिंह उर्फ गुड्डू बाबू की प्रतिमा का किया अनावरण


लखनऊ: 24 नवम्बर, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने जनपद गोरखपुर में वीर बहादुर सिंह स्नातकोत्तर महाविद्यालय परिसर, हरनही (महुराव) में स्व0 सुरेन्द्र बहादुर सिंह उर्फ गुड्डू बाबू की प्रतिमा का अनावरण किया। साथ ही, गरीबों को कम्बल वितरण भी किया। इस अवसर पर आयोजित जनसभा को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि स्व0 सुरेंद्र बहादुर सिंह उर्फ गुड्डू बाबू ने अपनी सरलता, सहजता, कर्मठता से शिक्षा संस्थानों जैसे सेवा प्रकल्पों की स्थापना कर उत्तर प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री स्व0 वीर बहादुर के सपनों को साकार किया है। उनकी यह मूर्ति हमें सदैव प्रेरणा प्रदान करती रहेगी।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पूर्वांचल पहले उपेक्षा का शिकार था मगर स्व0 वीर बहादुर सिंह ने मुख्यमंत्री रहते पूर्वांचल की उस उपेक्षा को दूर किया। उत्तर प्रदेश में विकास की नींव को रखने वाले पूर्व मुख्यमंत्री और केंद्रीय संचार मंत्री रहे स्व0 वीर बहादुर सिंह के निधन के बाद विकास का पहिया थम गया था, मगर उनके परिवार के लोगों ने विकास के कार्यों को आगे बढ़ाया। आज सभी स्व0 सुरेंद्र बहादुर सिंह उर्फ गुड्डू बाबू का स्मरण करते हैं।


मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इस क्षेत्र का चहुमुखी विकास हो रहा है। यहां राम जानकी मार्ग का निर्माण हो रहा है। गैस पाइप लाइन बिछाई जा रही है। कुछ दिनों में पानी की पाइप लाइन की तरह गैस पाइप लाइन के जरिये घर-घर गैस की सप्लाई दी जाएगी। गोरखपुर देश के उन चुनिंदा शहरों में शामिल है, जहां अंतर्राष्ट्रीय मानकों की चिकित्सा सुविधा देने वाला एम्स जैसा संस्थान है।



मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यहां के बंद कम्बल कारखाने को सरकार ने चलाया, जिससे लोगों को रोजगार प्राप्त होगा। गोरखपुर का फर्टिलाइजर वर्ष 2020 तक बनकर तैयार हो जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार लिंक एक्सप्रेस-वे बना रही है, जिसके दोनों तरफ औद्योगिक गलियारा बनाया जाएगा। यहां कई बड़ी-बड़ी कंपनियां आएंगी, जिससे यहां के लोगों को अपने घर पर ही रोजगार प्राप्त हो सकेगा।


मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हमारी सरकार ने प्रदेश के 01 करोड़ 80 लाख स्कूली बच्चों के लिए स्वेटर की व्यवस्था की है, जिन्हें समय पर उन बच्चों तक पहुंचाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा वृद्धा, दिव्यांग, विधवा पेंशन दी जा रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के तहत बेटियों के जन्म से लेकर उनकी पूरी पढ़ाई-लिखाई तक 15 हजार रुपये की राशि सरकार की तरफ से दी जा रही हैै। बेटी को शादी के समय मुख्यमंत्री कन्या सामूहिक विवाह योजना के तहत 51 हजार रुपये भी प्रदान दिये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि गरीबों को आवास व शौचालय भी दिया जा रहा है। शासन की योजनाओं को बिना भेदभाव के सभी लोगों तक पहुंचाया जा रहा है, जिससे कि उनके जीवन में खुशहाली आ रही है।


मुख्यमंत्री जी ने किसानों से अपील की कि खेतों में पराली न जलायें। इससे प्रदूषण फैलता है और लोगों को तरह-तरह की बीमारियां होती हैं। इसलिए पराली एवं खेत के खरपतवार को न जलाकर उसे कम्पोस्ट के रूप में इस्तेमाल किया जाये। इससे खेत की उपजाऊ शक्ति भी बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में बायोफ्यूल प्लांट का शिलान्यास किया जा चुका है। इसका निर्माण पूर्ण होते ही किसानों को उनके खरपतवार का भी मूल्य प्राप्त होगा और उनके आय में वृद्धि होगी।


कार्यक्रम में जनप्रतिनिधिगण, स्व0 सुरेन्द्र बहादुर सिंह के परिवार के अन्य सदस्य तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी आदि उपस्थित थे।


Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम