Skip to main content

कौन हैं सदानंद सुले जिन्होंने अजित पवार की कराई घर वापसी


कौन हैं सदानंद सुले जिन्होंने अजित पवार की कराई घर वापसी


अजित पवार के शपथग्रहण के बाद से परिवार की तरफ से उन पर दबाव बनाया जा रहा था कि वह वापस लौट आएं. उन्हें परिवार में बिखराव से बचने और पार्टी में बने रहने के लिए मनाया जा रहा था. इसके लिए पहले उनके भाई श्रीनिवास पवार आगे आए. फिर मंगलवार को ही सुप्रिया सुले के पति सदानंद भालचंद्र सुले ने अजित पवार को समझाने की कोशिश की.


मुंबई. महाराष्ट्र में सियासी उठापटक के बीच डिप्टी सीएम अजित पवार ने इस्तीफा दे दिया है. अजित के इस्तीफे के ठीक बाद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस  ने भी इस्तीफा दे दिया. 4 दिन पहले अजित पवार ने देवेंद्र फडणवीस के साथ शपथ ली थी. शपथ ग्रहण के साथ ही राज्य की सियासत में हंगामा मच गया और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) की तरफ अजित को वापस लाने की कवायद तेज हो गई. एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले ने निराशा में बयान दिया और कहा कि परिवार टूट गया अब किस पर भरोसा करें.


दिलचस्प बात ये रही कि बेहद गर्म माहौल के बीच भी एनसीपी की तरफ अजित पवार को लेकर कोई टिप्पणी नहीं की गई. लगातार यही खबरें आती रहीं कि परिवार की तरफ से अजित पवार को समझाने की कोशिश की जा रही है. अब बताया जा रहा है कि अजित पवार को समझा कर वापस एनसीपी के साथ लाने में सुप्रिया सुले के पति सदानंद सुले की बेहद महत्वपूर्ण भूमिका है. जानकारी के मुताबिक सदानंद सुले ने ही अजित पवार को मनाया है.


अजित पवार पर परिवार का दबाव


अजित पवार के शपथ ग्रहण के बाद से परिवार की तरफ से उन पर दबाव बनाया जा रहा था कि वह वापस लौट आएं. उन्हें परिवार में बिखराव से बचने और पार्टी में बने रहने के लिए मनाया जा रहा था. इसके लिए पहले उनके भाई श्रीनिवास पवार आगे आए. फिर मंगलवार को ही सुप्रिया सुले के पति सदानंद भालचंद्र सुले ने अजित पवार को समझाने की कोशिश की. दोनों की मुलाकात मुंबई के एक फाइव स्टार होटल में हुई.


सुप्रिया सुले से सदानंद की मुलाकात और विवाह


सदानंद सुले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी सुप्रीमो शरद पवार की इकलौती बेटी सुप्रिया सुले के पति हैं. दोनों की मुलाकात पुणे में हुई थी. उस समय सुप्रिया सुले एक अखबार में पत्रकार के तौर पर काम कर रही थीं. यहीं पर एक पारिवारिक मित्र के यहां सुप्रिया की मुलाकात, अमेरिका में नौकरी करने वाले सदानंद सुले से हुई. कुछ समय बाद ये मुलाकात प्रेम में तब्दील हुई और दोनों ने शादी को लेकर अपने परिवारों में चर्चा की. दिलचस्प ये हैं कि सदानंद सुले शिवसेना के संस्थापक बाला साहब ठाकरे के भांजे हैं. बताया जाता है कि उस समय दोनों की शादी की बातचीत भी बाला साहब ठाकरे ने ही की थी. सुप्रिया सुले बाला साहब ठाकरे को काका कहकर बुलाती थीं.


कई देशों में रहे सुप्रिया और सदानंद


जिस वक्त सुप्रिया की शादी सदानंद के साथ हुई थी उस समय सदानंद विदेश में नौकरी करते थे. शादी के बाद दोनों अमेरिका में ही रहने लगे. इसके बाद सुप्रिया ने अमेरिका में आगे की पढ़ाई भी की. उन्होंने अमेरिका की मशहूर बर्कले यूनिवर्सिटी से उच्च शिक्षा पूरी की. इसके बाद दोनों सिंगापुर और इंडोनेशिया में भी कुछ समय तक रहे. दोनों की रेवती नाम की 15 साल की बेटी और 11 साल का विजय नाम का बेटा है.


IPL विवाद में उछला सदानंद का नाम


साल 2010 में सदानंद सुले का नाम इंडियन प्रीमियर लीग (IPL)से संबंधित एक विवाद में आया था. मीडिया रिपोर्ट्स में सदानंद सुले पर आरोप लगा था कि उनकीआईपीएल की प्रसारण एजेंसी मल्टी स्क्रीन मीडिया में अपने पिता बी. आर. सुले से हासिल पावर ऑफ अटार्नी के जरिए हिस्सेदारी है. हालांकि इससे इनकार करते हुए सुप्रिया सुले ने कहा था कि उनके पति और उनके परिवार को आईपीएल विवाद के संबंध में कुछ लोग बदनाम कर रहे हैं. वह इस संबंध में कानूनी कार्रवाई करेंगे.


Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम